प्रायः बड़े नेताओं के करीबी है मुजफ्फरपुर का महापापी ब्रजेश ठाकुर

Share Button

हमाम में लगभग सभी नंगे ही हैं’ और यह पूरा मामला ‘एक ही उल्लू काफी था बर्दाश्त गुलिस्ता करने को, जहां हर डाल पर उल्लू बैठे हों तो अंजामे गुलिस्ता क्या होगा’ वाली कहावत चरितार्थ करता नजर आ रहा है…

पटना/मुजफ्फरपुर (विनायक विजेता)। देश भर में चर्चित मुजफ्फर स्थित अल्पावास गृह में रहने वाली नाबालिक और अनाथ छात्राओं के साथ दुष्कर्म मामले में अभी कई र्चाकाने वाले खुलासा होने बाकी है।

इस गंभीर मामले के संज्ञान में आने के बाद जहां बिहार की राजनीति गर्म हो गई है, वहीं पक्ष-विपक्ष के बीच भी आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है।

इस संगीन मामले का एक दिलचस्प और हैरत अंगेज करने वाली एक बात यह है कि अल्पावास गृह मामले का मुख्य सरगना ब्रजेश ठाकुर ने लगभग हर दल के नेताओं से संबंध बना रखे थे। 1991-92 में जब लालू प्रसाद मुख्यमंत्री थे तो जाड़े के समय में ब्रजेश ठाकुर साये की तरह लालू प्रसाद के साथ था।

सोशल मीडिया पर राजद सुप्रीमो के साथ लालू प्रसाद की वायरल हो रही तस्वीर में तब लालू के आप्त सचिव रहे भोला यादव भी दिखायी दे रहें है। तब लालू प्रसाद समाजिक न्याय के योद्धा माने जाते थे और संभव है ब्रजेश ठाकुर ने लोगों पर अपना प्रभाव जमाने के लिए लालू प्रसाद के साथ तस्वीर खिंचवायी और अब उसी के लोग राजनीतिक फायदे के लिए इस तस्वीर को वायरल कर रहे हों।

ऐसा नहीं कि ब्रजेश ठाकुर की सिर्फ लालू यादव के साथ ही तस्वीर है। एक और चौकाने और राजनीति में हलचल मचाने वाली तस्वीर मिली है इस तस्वीर में ब्रजेश ठाकुर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, उप-मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी और भाजपा के केन्द्रीय नेता शहनवाज आलम के साथ दिख रहा है।

दो अन्य महत्वपूर्ण तस्वीरें भी तस्वीरें भी चौकाने वाली है। मुजफ्फरपुर में रहने वाले एक चिकित्सक डा. महानंद सिंह सहित कांग्रेस के कई नेताओं के ब्रजेश के साथ काफी मधुर और आत्मीय संबंध हैं। कांग्रेस पार्टी से ताल्लुक रखने वाले महानंद सिंह 2019 में होने वाले लोक सभा चुनाव में कांग्रेस सीट के प्रबल दावेदार हैं।

महानंद सिंह के पुत्र संजीव सिंह एआईसीसी के मेंबर है तथा युवा कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सहित पार्टी के कई महत्वपूण पदों पर रह चुके हैं। महानंद सिंह की जहां ब्रजेश ठाकुर से करीबी रही है वहीं उनके पुत्र संजीव सिंह मुजफ्फरपुर की घटना के खिलाफ सड़कों पर तो उतरे ही ‘ट्यूटर वार’ भी चला रहें हैं।

इन तस्वीरों के प्रकाशन के बाद शायद मुजफ्फरपुर मामले को लेकर राजनेताओं तथा सत्ता पक्ष और विरोधी दल में आरोप प्रत्यारोप का दौर भी थम जाएगा। क्योंकि अगर नहीं थमता तो लोग यही कहेंगे कि ‘चलनिया दूसे सुपवा के, जेकरा नीचे खुद बहत्तर गो छेद।’

इधर बुधवार को मुजफ्फरपुर की महिला थाना की एसएचओ एफएसएल की टीम के साथ ब्रजेश ठाकुर की एक बंद पड़ी एक अन्य संस्था स्वाधर गृह पहुंची जहां रहने वाली 11 महिलाए बीते कई दिनों से रहस्यमय ढंग से गायब हैं।

पुलिस को इस स्वाधार गृह के छत पर कंडोम, नशीली दवाएं सहित कई आपत्तिजनक सामान मिले इधर सबीआइ की टीम पटना के समाज कल्याण विभाग में भी बुधवार को पहुंची और यहा संबंधित अधिकारियों से लगभग डेढ़ घंटे तक पूछताछ की।

सूत्रों के अनुसार सीबीआई की टीम जल्द ही जेल में बंद ब्रजेश ठाकुर ठाकुर और अल्पावास गृह की अधीक्षिका इंदू कुमारी को पूछताछ के लिए रिमांड पर ले सकती है।

ब्रजेश ठाकुर के कर्मो और कुकर्मों की सबसे बड़ी फरार राजदार मधु और दिलीप मंडल को नेपाल भाग जाने की संभावना है। अगर इन दोनों की गिरफ्तारी हो जाती है तो संस्था के नाम पर हुए कुकर्मों का और बड़ा खुलासा होगा।

Share Button

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.