प्रवीण अमानुल्ला को बेनकाब करेगा नागरिक अधिकार मंच

Share Button
Read Time:6 Minute, 2 Second

राजनामा.कॉम। बिहार के नीतिश सरकार में मंत्री पद छोड़कर पटना साहिब सीट से आम आदमी पार्टी के टिकट पर अपनी चुनावी किस्मत आजमा रही प्रवीण अमानुल्ला भ्रष्टाचार की गंगोत्री में सराबोर रही हैं।  उनके द्वारा समाज सेवा के आड़ में अब तक गोरख धंधा हुआ है।

parveen-amanullah

समाज सेवा की पेशा को कलंकृत करने वाली पूर्व समाज कल्याण मंत्री बिहार सरकार अपने कार्यकाल में विभागीय लूट की पर्याय बनी रहीं हैं।

बिहार की प्रत्येक आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सेविका ,सहायिका और सी .डी .पी .ओ इनके कमीशनखोरी से त्रस्त रही हैं।  वरीय अधिकारी भी इनके कमीशन खोरी से परेशान रहे हैं।

बहुतों ने खुलेआम मुख्यमंत्री तक भी शिकायत मीडिया पेपर और शिकायत पत्रों द्वारा किया था।  परन्तु चहेतापन के कारण नीतीश कुमार ने भी जनता और मिडिया के शिकायतों को नजर अंदाज किया।

जब बिहार के समाज कल्याण विभाग में पूरी तरह से भ्रष्टाचार की गन्दगी फैला चुकी जिसके कारन प्रवीण अमानुल्ला एक्सपोज होने की कगार पर आ चुकी थी। एक एक आंगनबाड़ी कार्यकर्ता इनके भ्रष्टाचार और कमीशन वसूली से तंग आकर इनके खिलाफ पुरे बिहार में मोर्चा खोला तो ये आम आदमी का बुरका नकाब पहनकर आम आदमी पार्टी का दामन थाम ली।  जबकि शुरू से हीं आम आदमी पार्टी के स्थानीय इकाई में इनके प्रवेश को लेकर व्यापक पैमाने पर विरोध रहा है।

 परन्तु आप में इनकी एंट्री के पीछे बहुत बड़े रहष्य छुपे हैं। अब जब की प्रवीण अमानुल्ला का पटना साहिब से स्थानीय कार्यकर्ताओं के व्यापक विरोध के वावजूद अरविन्द केजरीवाल ने पैसा लेकर टिकट को बेच दिया, जिससे यह पता चलता है कि आम आदमी के नाम पर आम और दबे कुचले सक्रीय कार्यकर्ताओं के द्वारा बिहार में खड़ा किये गए संगठन को प्रवीण अमानुल्ला पैसे के बल पर अपनी पाप छुपाने के लिए पुनः छद्म बुरका पहन ली हैं और आम आदमी पार्टी को हाईजैक कर ली हैं।

 वस्तुतः ये भ्रष्ट, सिद्धांतहीन और अवसरवादी छद्म ढोंगी तथाकथित समाजसेवी अब आम आदमी का बुरका पहनकर समाज सेवा का व्यापार करने के लिए पटना साहिब से लोक सभा चुनाव आम आदमी पार्टी के टिकट से लड़ रही हैं।

नागरिक अधिकार मंच जो कि सूचना का अधिकार मंच जिसके तत्कालीन संयोजक प्रवीण अमानुल्ला थी परन्तु, बिहार सरकार में समाज कल्याण मंत्री बनी उसके बाद सूचना का अधिकार मंच को भंग करके बनाया गया था।

इनका पूरा काला चिटठा चुनाव में पटना साहिब के मतदाताओं के बीच खोलने के लिए तैयार है।  

नागरिक अधिकार मंच के पुरे बिहार के आर .टी .एक्टिविस्ट जो प्रवीण अमानुल्ला के आरंभिक साथ रहे हैं I उन्हें नीतीश कुमार से जदयू के टिकट दिलवाने से लेकर विधायक बनवाने फिर मंत्री बनाने के लिए नीतीश कुमार पर प्रेसर ग्रुप के जरिये कार्य किया था सभी तमाम साथी प्रवीण अमानुल्ला को बेनकाब करने के लिए पटना साहिब क्षेत्र में घर घर घूमेंगे और प्रवीण अमानुल्ला के कुकृत्यों का पर्दाफांश करेंगे ।

आर .टी.आई से नीतीश कुमार सहित उनके प्रथम कार्यकाल के घोटालों की सूचना प्राप्त कर ब्लैकमेलिंग के जरिये समाज कल्याण मंत्री बनने की पूरी पटकथा का भंडाभोड़ बिहार के आर .टी .आई एक्टिविस्ट जो उस समय के प्रवीण अमानुल्ला के घनिष्ठ साथी रहे हैं सभी जनता के बीच जाकर उनकी कलई खोलेंगे । उनकी नजायज संपत्तियों,नजायज सुविधा व कार्यों का पूरा पोस्टमार्टम किया जायेगा। 

किस तरह से वो समाज सेवा के आड़ में बड़ा व्यापर कराती रही हैं अब तक जितना गोरख धंधा की हैं सबका एक एक करके पोस्टमार्टम किया जायेगा ।

नागरिक अधिकार मंच के हीं कार्य करता इनके चुनाव में काउंटिंग एजेंट भी बने थे वे सभी इनका काला चिटठा का पर्दाफांश अपने आईडेंटिकार्ड को दिखा दिखा कर करेंगे I

ज्ञातब्य हो कि साहेबपुर कमाल का एक भी स्थानीय मतदाता राजद उम्मीदवार श्रीनाथ यादव के डर से काउंटिंग एजेंट नहीं बना था।  सभी आर. टी .एक्टिविस्ट जो कि बाहर के दबंग लोग बने थे जो कि जाँच से पूरा काला चिटठा उजागर हो जायेगा।

…. Ramesh Kumar Choubey  (Founder and General Secretary at Nagrik adhikar manch Bihar) 

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

अमित शाह ने विपक्ष को कुत्ता-कुत्ती बताने के चक्कर में मोदी को विनाश का प्रतीक बना दिया
रिपोर्टर नही, दलाल है प्रभात खबर का बहेरी रिपोर्टर !
सड़क हादसे में दैनिक हिन्दुस्तान के उप संपादक की मौत
भाजपा के एजेंडे पर काम कर रहे थे मांझी : नीतिश
अपनी हक हकूक के लिये 'हिलसा आंचलिक पत्रकार' का गठन
बदल गई सोशल मीडिया, गूगल से फेसबुक तक जारी है बदलाव
आज छद्म के रूप में अवशेष है मीडिया
Ex. BJP MLA अलोक रंजन पर पत्रकार ने दर्ज कराई मारपीट की FIR
नालंदा के थानों में जी हुजूरी करते चौकीदार और अपराधी बने डीएम-एसपी
कोई टिमटिमाती आशा की किरण भी नहीं दिख रही !
अगर आज के दौर में महाभारत होती
पगड़ी, फोटो, रिलायंस-अलायंस जैसे मुंडा के प्रयासों का क्या होगा असर ?
नीतिश के गुस्से में छुपा है राज्य में बड़े स्तर पर प्रशासनिक फेरबदल के साफ संकेत
हमारे पत्रकार संगठन का हर विवाद अंदरुनी मामलाः IFWJ अध्यक्ष
सिर्फ 'नमो' से उम्मीद !
मांझी को 48 घंटे में शक्ति परीक्षण के लिए कहें राज्यपाल :जदयू
इस खबर को लेकर क्यों खामोश है भारत का मीडिया ?
जेएनयू में सफ़ाई अभियान की ज़रूरत है
ताकि और अरीब मजीद न बन पाएं
आलोक जी, भड़वे और दलाल हैं हम पत्रकार !
कोयला घोटाला और भारतीय मीडिया घरानों का काला सच
फोटाग्राफर नहीं, बल्कि ग्राफिक हिस्टोरियन थे 'किशन'
रामेश्वर उरांव जी, कहां गए 75 लाख के पोस्टल आर्डर
दैनिक ‘प्रभात खबर’ में हैं इंडियन मुजाहिदीन से जुड़े कई संदिग्ध !
पटना मीडिया पर कथित हमले का सच, खुद तेजस्वी यादव की जुबानी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...