पॉल बेचता है तीन हजार रु. में एक “ईसा कृपा”

Share Button

निर्मल बाबा से 17 गुना अधिक धनी है पॉल दिनाकरणः     300 करोड़ वाले निर्मल बाबा के ऊपर जब वेब मीडिया/सोशल मीडिया महीने भर से मुहीम चलता रहा तब जाकर कहीं मुख्यधरा की मीडिया आँख खोल पाई | और अब तो रोज निर्मल बाबा के पीछे हर मीडिया चैनल लट्ठ लेके पड़ा हुआ है |

लेकिन बात केवल एक निर्मल बाबा की नहीं है | निर्मल बाबा तो ठगी -धोखेबाजी-अंधविश्वास -चमत्कार के मार्ग पर चल कर आम लोगों की जेब खाली कराने वालो की जमात का एक अदना सा खिलाड़ी है |

श्री श्री रविशंकर के आर्ट ऑफ लिविंग की संपत्ति है करीब 2500 करोड़ रुपये, माता अमृतान्दमयी की संपत्ति है करीब 6000 करोड़ रुपये, पुट्टपर्थी के सत्य साईं बाबा की संपत्ति को लेकर अभी कुछ दिन पहले बवाल मच चुका है।

 पॉल दिनाकरन  जो कि एक इसाई एवंगेलिस्ट हैं उनकी संपत्ति 5000 करोड़ से ज्यादा है,बिशप के.पी.योहन्नान की संपत्ति 7000 करोड़ है, ब्रदर थान्कू (कोट्टायम , करेला ) की संपत्ति 6000 हज़ार करोड़ से अधिक है | बहरहाल , ऐसे बहुत से नाम हैं, जिनकी पोल जनता के सामने खोलनी बेहद जरुरी है।

तमिलनाडु के चेन्नई में एक परिवार है जो खानदानी धर्म का बिजिनेस चला रहा है। इस परिवार का नाम है “धिनाकरण” जो की पता नहीं कब से लोगो को धर्म के नाम पर बहला-फुसला कर या धर्म के नाम पर डरा कर अपना बिज़नस करता है और खुद को एवंगेलिस्ट (evwngelist) बोलते हैं जिसका हिंदी मतलब होता है ईसाई धर्म का प्रचारक। इस परिवार के सबसे पहले इन्सान का नाम था “डी. जी. एश. धिनाकरण”|

इन महाशय का कहना था की इन्होने खुद ही क्राइस्ट को देखा है जब ये जनाब सुसाइड करने जा रहे थे तब क्राइस्ट ने खुद इनके सामने आ कर इनको सुसाइड करने से रोका था| पर मै बाइबल को देखा तो पाया की क्राइस्ट कभी भी गलत लोगो का साथ नहीं देते हैं| और सुसाइड को हर धर्म में गलत मन गया है और शैतान के द्वारा प्रायोजित बताया गया है| तो इन्होने किसको देखा था क्राइस्ट को या शैतान को| पर यही धिनाकरण ने जब अमेरिका में अपना कम शुरू किया तो इन्होने बताया की इन्होने क्राइस्ट को अपने बेडरूम में सपने में देखा था|

अगर हम इसको सही माने तो इनका पहला स्टेटमेंट गलत था…पर वही अगर पहले को सही माने तो दूसरा स्टेटमेंट गलत| किसी भी हालत में ये महाशय गलत साबित हो रहे हैं तो क्या ये मान जाये कि क्राइस्ट को इतना करीब से देखने का दावा करने वाले ये क्राइस्ट के नाम पर झूट बोल रहे हैं| ये आप सब खुद ही डिसाइड करे| वैसे तो इनकी बहुत सारी कहानियां हैं पर वो फिर कभी|

इनके परिवार में और इनके सुपुत्र और आज के क्राइस्ट को देखने का दावा करने वाले के बारे में बताते हैं जो खुद को क्राइस्ट के बराबर बताने में भी गुरेज नहीं करते हैं| ये हैं ईसाई धर्म गुरु पॉल दिनाकरन या ”पॉल धिनाकरण”|

पॉल दिनाकरन  का जन्म ४ सितम्बर, १९६२ को हुआ| ये जनाब भी अपने पिता की तरह दुखी थे तो इनके पिता के द्वारा क्राइस्ट ने इनसे बात करी और इनकी जिंदगी बदल गई और इन्होने MBA किया| २७ साल की उम्र में इन्होने मद्रास यूनिवर्सिटी से मैनेजमेंट में PHD किया| निर्मल बाबा तो केवल भारत में टीवी चैनल पर आते हैं पर ये तो ९ देशो के टीवी चैनल पर कब्ज़ा किये हुए बैठे हैं| ये जनाब जीसस काल्स मिनिस्ट्री के नाम पर मैर्रिज ब्यूरो तो जॉब ब्यूरो और न जाने क्या क्या चलते हैं| यहाँ तक की अपनी वेबसाइट्स पर ये डोनेसन को भी बोलते हैं|

प्रार्थनाओं की ताकत से अनुयायियों को शारीरिक तकलीफों व दूसरी समस्याओं से मुक्ति दिलाने का दावा करते हैं। दिनाकरन इश्योरेंस या प्रीपेड कार्डों की तरह प्रेयर पैकेज बेचते हैं। यानी, वे जिसके लिए गॉड से प्रार्थना करते हैं, उससे मोटी रकम भी वसूलते हैं। मसलन 3000 रुपये में आप अपने बच्चों व परिवार के लिए प्रार्थना करवा सकते हैं। वे कोयंबटूर में एक इंजीनियरिंग व मैनेजमेंट यूनिवर्सिटी के मालिक हैं। उनका 24 घंटे का चैनल रेनबो भी है। दुनिया भर में उनके 30 प्रेयर टॉवर हैं। कहा जाता है कि उनकी किसी भी सभा में एक लाख से अधिक भक्त मौजूद होते हैं। इन बाबाओं की कामयाबी व धनवर्षा का राज इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में छुपा है।

एक और ध्यान देने वाली बात है की जो इन्सान ( पॉल दिनाकरन ) हर मर्ज को ठीक करने का दावा करता हो उसी का बाप जो खुद भी क्राइस्ट से मिल चूका है वो २००३ में हॉस्पिटल में एडमिट था| तो जब स्वयं क्राइस्ट से मिला इन्सान खुद को हॉस्पिटल तक में एडमिट होने से नहीं बचा पाया और न ही उसका बेटा जो उसी की तरह दावा करता है वो खुद भी क्राइस्ट से मिल चूका है और रोगियों को और रोग को ठीक करता है वो अपने बाप को नहीं बचा पाया तो ये आम जनता को कैसे बचाता है| क्या ये रिसर्च का विषय नहीं है मीडिया के लिए?

Share Button

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...