पुलिस ने जिसे मृत कहा, वह मेडिका मौत से जूझ रहा है और……

Share Button

लापता युवक को महिला कांस्टेबल ने गोली मार छिपा दिया था !

हजारीबाग। चिरूडीह में पुलिस फायरिंग के दौरान लापता पवन कुमार (14) का शव रविवार को डाड़ी के एक गोशाला से मिला है। यह घटना झारखंड पुलिस की तानाशाही मानसिकता दर्शाती है और साथ ही रघुबर सरकार के रामराज एवं सुशासन की पोल खोल कर रख देती है।

राजेश साव जो जिंदा मिला है
राजेश साव जो जिंदा मिला है

प्रत्यक्षदर्शी डाडी कला बरवाटोली निवासी साबिर के अनुसार पवन को एक महिला कांस्टेबल ने पिस्टल से गोली मार दी और नाली में धकेल दिया। कुछ देर बाद उसे निकाला और फजीहर महतो की गोशाला में फेंक दिया गया। दिनभर पुलिस वहां घेराबंदी किए रही।

पवन कुमार, जिसकी मौत हुई
पवन कुमार, जिसकी मौत हुई

उसके अगले दिन पुलिस ने गोशाला से शव निकालकर ग्रामीणों को सौंप दिया। पहले पुलिस ने राजेश साव नामक जिस युवक को मृत बताया था, वह जिंदा है। उसका रांची के मेडिका में इलाज चल रहा है। उसके हाथ में गोली लगी है।

उधर पूर्व मंत्री योगेन्द्र साव की लापता पत्नी विधायक निर्मला देवी की कोई खबर नहीं है। कफन सत्याग्रह पर बैठीं विधायक को रात में गिरफ्तार करने के बाद भीड़ हिंसक हो गई थी। भीड़ ने विधायक को छुड़ा लिया था। तभी पुलिस की गोली से चार ग्रामीण मारे गए थे।

आश्चर्य की बात है कि विधायक घटना के दिन से ही लापता है। ग्रामीण कह रहे हैं कि उन्हें पुलिस उठा ले गई है। पुलिस कह रही है कि उन्हें ग्रामीणों ने छुड़ा लिया था।

 

Share Button

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...