उगाही और जमीन दलाली में लगी है झारखंड पुलिस महकमा

Share Button

ranchiआज झारखंड की राजधानी रांची अपराधियों के हवाले है। यहां पुलिस में नीचे से उपर स्तर तक प्रायः संगीन मामलों की जांच  में कोई गंभीरता नहीं बरती जाती है।

इसका एक बड़ा कारण झारखंड विधानसभा अध्यक्ष एवं रांची विधायक सीपी सिंह के उस बयान को माना जा सकता है, जिसमें उन्होंने साफ तौर पर कहा था कि   समूचा पुलिस महकमा सिर्फ उगाही और जमीन दलाली में लगा है।

स्थिति कितनी गंभीर है, इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि विधानसभा अध्यक्ष को मोबाइल पर मिली धमकी को भी उनके आवास के ठीक  20-25 मीटर सामने स्थित गोंदा थाना के पुलिस प्रभारी ने कई दिनों तक कोई सुध न ली और शिकायत पर वरीय पुलिस अधिकारी भी कान में ठेंठी डाले रहे।

अब वरियातु थाना की ताजा घटना को लीजिये। यहां देश के हालात से आद्वेलित छेड़खानी का विरोध करने वाले  एक युवक की अपराधियों ने हत्या कर दी है। खबर है कि घटना के पांच दिन बाद भी पुलिस ने किसी स्तर पर स्थल का मुआयना/निरीक्षण नहीं किया है। जबकि उक्त घटना स्थल पर युवक की हत्या से जुड़े साक्ष्य अभी भी बिखरे पड़े हैं। मृतक के टूटे दांत, जेब से छितराये कागजात एवं खून से सने वे ईंट-पत्थर जिससे संभवतः कूच कर हत्या की गई है।

इस घटना के बारे में भी कहा जाता है कि सूचना मिलने के बाद पुलिस तत्काल सक्रिय होती तो युवक की जान तक बच सकती थी। हत्यारे मौके पर पकड़े़ जा सकते थे।

बकौल विधानसभा अध्यक्ष सीपी सिंह,  एक जनप्रतिनिधि के रुप में वे रांची के किसी भी हिस्से में डेढ़-दो घंटे में पहुंच जाते हैं, लेकिन एसएसपी साकेत सिंह की बरियातु थाना पुलिस  इतने समय में सूचना मिलने के बाद भी चंद कदम दूर घटना स्थल पर नहीं पहुंच पाती है। पुलिस को तो चूल्लू भर पानी में डूब मरना चाहिये।

दरअसल, यदि हम राजधानी रांची की बात करें तो यहां के थानों में कर्मठता की जगह कॉरपोरेट बिल्डरों के सहयोग से पदाधिकारी पदासीन किये जाते हैं। उसके उपर के आला अधिकारी भी लंबे अरसे से एक ही लॉबी के बल बैठाये जा रहे हैं। जो उगाही और जमीन दलाली के लिये अपराधियों को पाल रहे हैं।

………….. मुकेश भारतीय

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...