पत्रकार रंजन हत्याकांड के आरोपी को सीबीआई कोर्ट से जमानत

Share Button

मुजफ्फरपुर। बिहार के सीवान में पत्रकार राजदेव रंजन हत्याकांड के आरोपी और पूर्व सांसद शहाबुद्दीन के करीबी कहे जाने वाले मोहम्मद कैफ को सीबीआई कोर्ट से जमानत मिल गई है।

सीबीआई की विशेष कोर्ट ने गुरुवार को कैफ को जमानत दी। इस मामले की जांच कर रही सीबीआई की ओर से 90 दिनों के अंदर केस में चार्जशीट जमा नहीं की गई थी जिसके बाद कोर्ट ने कैफ को जमानत दे दी।

राजदेव रंजन की हत्या 13 मई 2016 को सीवान के रेलवे स्टेशन के पास हुई थी। इस केस में शहाबुद्दीन को भी आरोपी बनाया गया था और पुलिस ने 5 शूटरों को भी गिरफ्तार किया था। मालूम हो कि पत्रकार राजदेव रंजन हत्याकांड में कैफ का नाम आया था।

इसके बाद उसने पुलिस के दवाब में कोर्ट में आत्मसमर्पण कर दिया था. कैफ को सीवान के बाहुबली नेता और पूर्व सांसद शहाबुदद्दीन का करीबी भी बताया जाता रहा है। राजदेव रंजन मर्डर केस में नाम आने के बाद उसकी तस्वीरें सूबे के स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप यादव के साथ भी वायरल हुई थी। कैफ ने कहा था कि तेजप्रताप मेरे आइकॉन हैं। मैं पॉलिटिक्स ज्वाइन करना चाहता हूं।

वह भागलपुर जेल से शहाबुद्दीन की रिहाई के समय कैफ उसे रिसीव करने आया था। कैफ काफिले के साथ-साथ सीवान और शहाबुद्दीन के गांव प्रतापपुर भी गया था।

13 मई को हुई थी पत्रकार की हत्या

जर्नलिस्ट राजदेव रंजन की हत्या 13 मई 2016 को सीवान के रेलवे स्टेशन के पास हुई थी। इस केस में शहाबुद्दीन को भी आरोपी बनाया गया था। पुलिस ने 5 शूटरों को अरेस्ट किया था।

पुलिस को पता चला था कि लड्डन मियां के कहने पर राजदेव को गोली मारी गई थी। लड्डन शहाबुद्दीन का करीबी बताया जाता है। उसने सरेंडर कर दिया था। फिलहाल इस केस की सीबीआई जांच कर रही है।

Share Button

Relate Newss:

नहीं भुलाए जा सकते महापुरुष कलाम के ये 10 अनमोल बचन
'भारत रत्‍न' हो गए प्रो. राव और सचिन तेंदुलकर
जेल से छूटते ही बंजारा बोले, 'आ गए अच्छे दिन'
द्रौपदी की रक्षा के लिये प्रकट हुये भगवान
चैनल-कर्मियों को वेतन नहीं, कंपनी खोल रहा है होटल
सुनिये ऑडियोः राजगीर थाना में बैठ इस शातिर ने पहले किया फोन, फिर किया राजनामा के संपादक पर फर्जी केस
'राजनामा' की पड़तालः नोटबंदी से बजा जनता का बैंड
AFSPA हटाकर मेरी भूख हड़ताल खत्म कराएं मोदी: इरोम
उस महिला का गर्भपात की पुष्टि, कोडरमा घाटी में जिस अज्ञात महिला का मिला था शव
अखबारों और चैनलों के सीले होठ और चूं-चूं का मुरब्बा बना झारखंड सीएम जनसंवाद केन्द्र
.....और यह है बिहार में नीतीश सरकार नया शराब बंदी कानून
पीएम मोदी के नाम लालू का खुला पत्र- 'चेतें अथवा अपना कुनबा समेटें'
न्यूज़ रूम में अब पीएमओ से फोन पर निर्देश आते हैं : पुण्य प्रसून वाजपेयी
मोदी को क्लीन चिट पर हाई कोर्ट पहुंचीं जकिया जाफरी
मीडिया के चतुर सयानों की सूचना को अब राज़नामा नहीं लेगी संज्ञान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...