पत्रकार पुत्र को शराब पिलाई गई थी या हत्यारों ने पी थी !

Share Button
Read Time:2 Minute, 59 Second

राजनामा.कॉम। नालंदा के पत्रकार आशुतोष के पुत्र चुन्नू के हत्या की गुत्थी लगभग सुलझ चुकी है। घटनास्थल को जांच करने के बाद पटना से गई फोरेंसिक की टीम ने इस ब्लाइंड केस में महत्वपूर्ण सुराग नालन्दा पुलिस को दिया है।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार चुन्नू की हत्या आंख में पेचकस घुसेड़कर की गई थी। हत्या करने के पहले चुन्नू को शराब पिलाई गई थी और हत्यारों ने खुद भी पी थी। जिस जगह सभी जुटे थे वहां शराब का खाली पाउच भी मिला है।

हत्या करने के बाद सभी ने सड़क किनारे एक 15 से 20 फिट के गड्ढे में शव को फेंक दिया था। हत्यारे भले ही ग्रामीण परिवेश के है, लेकिन सबूतों को नष्ट करने में काफी दिमाग लगाया था।

लाश को पानी मे फेंक देने के कारण स्निफर डॉग ही नहीं, बल्कि फोरेंसिक की टीम को भी कुछ खास हाथ नही लगा था। जांच के क्रम में टीम को पाइन के किनारे और खेत में कुछ ब्लड सेम्पल मिले थे। जिसका नमूना लिया गया था।

जांच में पता चला था कि जिन तीन चार लड़कों के साथ चुन्नू को अंतिम समय में देखा गया था, उसमें एक उसका रिश्ते का भाई भी था। जब उन संदिग्ध लड़कों से पूछताछ हुई तो दो ऐसे लड़के मिले, जो कुछ छुपा रहे थे।

जांच टीम ने जब उनमे से एक के घर तलाशी लिया तो एक पेचकस मिला, जो धोया हुआ था। लेकिन उसमें खून के कुछ दाग थे।

इसके अलावा घर की जांच के दौरान नल के पास से भी खून के धब्बे मिले। जबकि मृतक के रिश्ते के भाई ने अपने कपड़े सिर्फ में धो दिए थे, लेकिन एक जगह ब्लड के सैम्पल मिल गए।

फिलहाल दोनों युवकों को हिरासत में ले लिया गया है। उनसे पूछताछ की जा रही है।

सूत्रों के अनुसार जिन युवकों को हिरासत में लिया गया है। उनमें से एक के साथ मृतक चुन्नू का बकझक भी हुआ था। चुन्नू ने उसे काफी बुरा भला कहा था। लेकिन दोनों काफी शातिर है। पुलिस की मानें तो जल्द ही इस मामले का उदभेदन कर लिया जाएगा।

(साभारः पत्रकार Amitabh Ojha की रिपोर्ट, जैसा कि उन्होंने अपनी फेसबुक पेज वाल पर लिखा)

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

न सरकार न पुलिस, सिर्फ दैनिक जागरण
मुंडाजी आप मुख्यमंत्री थे तब क्या किया?
IANS न्यूज एजेंसी  ने जारी न्यूज में नरेंद्र मोदी को ‘बकचोद’ लिखा, गई कइयों की नौकरी
बाबूलाल मरांडी  ने खुद खोल ली अपनी राजनीति की कलई !
NJA ने पत्रकार सुरक्षा सहित 20 सूत्री मांगों को लेकर बिहार DGP  को ज्ञापन सौंपा
चोरी और सीनाजोरी के लिए यूं कुख्यात हैं दैनिक जागरण वाले, हुआ मुकदमा !
इस तरह बनाए जा रहे हैं रिपोर्टर- पत्रकार
धार्मिक भेदभाव के आरोपी हीरा कंपनी 'हरे कृष्णा एक्सपोर्ट्स' पर मुकदमा
यशवंत को साक्षी के मामले में जमानत
पीएम मोदी के खिलाफ तिरंगा के अपमान का मामला दर्ज
हर डाल पर रघुवर बैठा है, अंजामे झारखण्ड क्या होगा...
संसद में चर्चा हुई तो पहले पन्ने पर छपा तबरेज, पहले होता था उल्टा !
हिंदी पाक्षिक "बदलता बिहार झारखंड" का लोकार्पण
पटना में ही था हैदर अली संग तहसीन
दैनिक हिन्दुस्तान में एसपी-डीएसपी के तबादले की 'फेक खबर' से नालंदा में सनसनी
इस अवैध कारोबार के खिलाफ क्यों नहीं हुई कार्रवाई
उधर 'मनरेगा पुरस्कार' और इधर 'मन रे गा भ्रष्टाचार'
सेंसरशिप सिर्फ बिहार में ही नहीं हैं काटजू साहब
उस महिला का गर्भपात की पुष्टि, कोडरमा घाटी में जिस अज्ञात महिला का मिला था शव
लालू स्तर तक जा गिरे हैं दादरी और दलितों की हत्या पर मौन मोदी : अरुण शौरी
'असहिष्णुता के इस कृत्य' से स्तब्ध रह जाते गांधी :ओबामा
अंततः मोदी सरकार ने SC को सौंपे तीन सीलबंद लिफाफे
SBI बैंक में देखिये भ्रष्टाचार, मिड डे मिल का 100 करोड़ बिल्डर के एकाउंट में डाला
खुद के संदेश में फंसे झारखंड जर्नलिस्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष
झारखंड सूचना जन संपर्क विभाग में लूट का नया खेल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...