पत्रकार जगेंद्र के आश्रित को 30 लाख रुपए और दो नौकरी का वादा !

Share Button

राजनामा.कॉम।  पत्रकार जगेंद्र हत्याकांड के आरोपी मंत्री पर तो अभी तक कार्रवाई नहीं हुई लेकिन परिवार से मुलाकात के बाद मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने तीस लाख रुपए के मुआवजे और घर के दो लोगों को नौकरी का भरोसा दे दिया है। इसके बाद परिवार ने धरना खत्म कर दिया है।

jogenndra_jounalistपत्रकार जगेंद्र के परिवार ने मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से लखनऊ में मुलाकात की। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने परिवार को इंसाफ का भरोसा दिलाया है। अखिलेश के कहने पर परिवार ने धरना खत्म कर दिया है।

पत्रकार जगेंद्र सिंह की जलाकर हत्या कर दी गई थी। यूपी के मंत्री राममूर्ति सिंह वर्मा पर हत्या का आरोप है।

घरवालों ने आरोप लगाया है कि कि मंत्री की तरफ से पैसे लेकर समझौते का दबाव बनाया जा रहा है.

शाहजहांपुर में इंसाफ के लिए परिवार धरने पर बैठा था. जगेंद्र सिंह के परिवार का आरोप है कि हत्या के आरोपी मंत्री राममूर्ति सिंह वर्मा की ओर से उन्हें समझौते के लिए धमकी दी जा रही है।

परिवार ने इसकी शिकायत पुलिस से भी कर दी है और केस दर्ज हो गया है. मामले की जानकारी मिलते ही डीआईजी आर.के.एस राठौर खुद परिवार वालों से मिलने पहुंचे।

पत्रकार जगेंद्र सिंह के घरवालों के मुताबिक आरोपी मंत्री राममूर्ति सिंह वर्मा के 2 लोग आ कर उन्हें समझौते के लिए धमकी दे रहे हैं।

परिवार का कहना है कि उन्हें 20 लाख रुपये लेकर मामले को खत्म करने को कहा जा रहा है। गौरतलब है कि जगेंद्र ने मौत से पहले अपने बयान में पुलिसवालों पर यूपी के मंत्री राममूर्ति वर्मा के इशारे पर जलाने का आरोप लगाया था।

Share Button

Relate Newss:

संभव है सीताफल के बीज से कैंसर से बचाव 
मोदी राज में उद्योगपतियों के आए अच्छे दिन :अन्ना हजारे
नीतीश-लालू का खूंटा उखाड़ने के फेर में दांव लगे मोदी
पीआरडी में विशिष्ट अतिथि बनकर आता था महापापी ब्रजेश ठाकुर
हर हथकंडे अपना रहे हैं यौन शोषण का आरोपी सुदर्शन न्यूज के सुरेश चह्वाणके
MLA अमित कुमार की CBI जांच की मांग पर केन्द्रीय गृहमंत्री के रवैये की आलोचना
मुरादाबाद  में जलती चिता से शव के मांस खाते युवक धराया
भारत में प्रेस की आजादी पर बढ़ा अंकुश
अब नीतिश संग किसान रैली कर पीएम मोदी को ललकारेगें हार्दिक पटेल
संसद में चर्चा हुई तो पहले पन्ने पर छपा तबरेज, पहले होता था उल्टा !
प्रभात खबर के रिपोर्टर को व्हाट्सएप पर किसने भेजी जारी जांच की कॉपी ?
एक साल में सिर्फ हुआ ईवेंट और मीडिया मैनेजमेंट  : हेमंत सोरेन
सुप्रीम कोर्ट ने मजीठिया बोर्ड के फ़ैसले को सही ठहराया, अखबार मालिकों को झटका
आखिर कब टूटेगा सामंतवाद का यह अफीमी नशा
गिरियक के पत्रकार निसार अहमद के घर बम फेंका, सूचना के 12 घंटे बाद भी नहीं पहुंची थाना पुलिस

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...