पत्रकारिता मिशन नहीं, अब कमीशन का खेल है

Share Button

पत्रकार के कलम की स्याही और खून में जब तलक पाक़ीज़गी रहती है तब तलक पत्रकार कि लेखनी दमकती है और चेहरा चमकता है. न तो उसकी निगाह किसी से
सच पूछने पर झुकती है और न ही उसकी कलम सच लिखने से चूकती है. पत्रकारिता लोकतंत्र का चौथा स्तंभ है इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता लेकिन यह भी कड़वी सच्चाई है के मौजूदा दौर बाजारवाद के हाथों कि कठपुतली है और पूरा नियंत्रण बाजारवाद के पास है. जिसका काम है खरीद-फरोख्त यानी वह हर चीज कि कीमत तय कर बाजार में ला खड़ा कर देता है,जहां आपकी कामयाबी का पैमाना अर्थ होता है. ऐसे हालात में यह सोचना के इस बाजारवाद से पत्रकारिता अछूता है या अछूता रह जाएगा तो यह एक कल्पना मात्र हो सकता है, हकीक़त नहीं.

यह बाजारवाद का असर ही है की अब खबरें विज्ञापन या फिर चाटुकारिता के आधार पर बनाई जाती है. ऐसी खबरें न तो आम जनता के बदतर हालात को दिखाती है, न ही राजनीति के स्याह चेहरे को उजागर करती है और न ही ब्यूरोक्रेट बाबूओं के समाज द्वारा अघोषित लूट के सम्राज्य को बे नकाब करती है. यह सब तो महज एक ऐसा मौका परस्त तंत्र के रुप में स्थापित होता जा रहा है, जो जब तक काली करतूत पर पर्दा पड़ा है तब तक चाटुकारिता की जय और जब सब कुछ बेनकाब हो जाए तब एक्सक्लूसिव कह कर खबरों को ऐसे पेश करते है जैसे मानो यह सब खोजी पत्रकारिता का कमाल है.

दरअसल पत्रकारों का ज़मीर नहीं मरा है बल्कि कार्पोरेट मीडिया द्वारा पत्रकार की जगह ऐसे रंगरूटों को ज्यादा महत्व दिया जाना शुरू कर दिया गया है जो विज्ञापन लाने में महारत रखते हों भले ही दो शब्द लिखना उनके बस में न हो. ऐसे रंगरूटों की अब फौज सी बन गयी है इन रंगरुटों को बस चाहिए प्रेस का कार्ड. फिर क्या, गाड़ी पर प्रेस लिखकर चल पड़ते हैं विज्ञापन के नाम पर रंगदारी वसूलने. जब विज्ञापन के नाम पर रंगदारी वसूला जाएगा तब आम जनता से जुड़े मुद्दों पर खबर लिखना और काले कारनामों से पर्दा उठाना क्या मुमकिन होगा? नहीं,ऐसा सोंचना ही कल्पना मात्र होगा. अब जरा सोचिए आज पत्रकारिता क्या मिशन के वास्तविक रुप में कायम है या फिर मिशन अब कमीशन बन गया है?

यह तो भला हो न्यू मीडिया और कुछ प्रिंट मीडिया का जिनके सहारे पत्रकारिता अब भी हिचकी ले रहा है वर्ना पत्रकारिता कब का अपना अस्तित्व खो चुका होता. कम से कम इन दोनों साधन पर अब तक बाजारवाद पूरी तरह से हावी नहीं हो सका है. क्योंकि जो छप  गया सो छप गया वह अमिट होता है वैसे खबर चलते चलते विज्ञापन आ जाना और फिर खबर का गायब हो जाने की व्यवस्था के विषय में कुछ लिखने की कोई जरुरत नहीं. हकीक़त से हर कोई वाक़िफ़ है. बीते कुछ सालों में खबरों के साथ किस हद तक खिलवाड़ किया गया के न्यायालय को भी कहना पड़ा कि मीडिया अपनी लक्ष्मण रेखा तय करे यानी कुछ तो ऐसा हो रहा है मीडिया जगत में जो गलत है.
अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता मर्यादाहीन नहीं हो सकती और मर्यादित अभिव्यक्ति कभी विवादास्पद नहीं हो सकती भले ही वह कड़वे सच के साथ व्यक्त क्यों न किया जाए. महज सनसनीखेज़ खबर के सहारे व्यापार करना पत्रकारिता के मूलरूप से भटकाव को ही दर्शाता है जो बेहद चिंताजनक बात है. पत्रकारिता जगत में आंशिक भटकाव भी लोकतंत्र के लिए ठीक नहीं क्योंकि जब दरबान ही लुटेरों से मिल जाए या लापरवाह होकर सो जाए तो घर को लुटने से भला कौन रोक सकता है. ….. अब्दुल रशीद 

Share Button

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.