पटना बेऊर जेल में कैद आतंकियों के हमले में कई पुलिसकर्मी घायल

Share Button

पटना। उड़ी हमले के बाद भारत-पाकिस्तान के बीच पनपे तनाव और आतंकी हमले की संभावना को लेकर जहां सीमा की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। पूरे देश में हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है। इसके इतर जेल में बंद दर्जनों आतंकियों ने सुरक्षा में तैनात पुलिसकर्मियों पर हमला कर जख्मी करते हुये देश विरोधी नारे लगा हंगामा खड़ा कर दिया। हालांकि जेल प्रशासन ने सख्ती बरतते हुए मामले को नियंत्रण कर लिया है।

गांधी मैदान एवं गया बम ब्लास्ट से जुड़े 15 आरोपी कैद है यहां

beur-jailवर्ष 2013 में सूबे के गया एवं गांधी मैदान में हुए बम विस्फोट मामले में एनआईए ने स्पेशल केस नवंबर 1 / 2013  एवं 5  / 2013 दर्ज करते हुए 11 आतंकी को गिरफ्तार किया. इसमें कई दूसरे राज्य के भी है। उमैर सिद्दीकी, अजहरूद्दीन कुरैशी, इंतयाज अंसारी, नौमान अंसारी, मो. जिउल्लाहद्दीन, अहमद हुसैन सहित  10 आतंकी राजधानी पटना के आदर्श केंद्रीय कारा बेऊर में बंद है।

गुरुवार की सुबह स्पेशल सेल में बंद आतंकियों ने सुरक्षा में तैनात दो पुलिसकर्मी को बुरी तरह से पिटाई किया कर चोटिल कर दिया। हमले का शिकार दोनों पुलिसकर्मी पूर्व सेना के जवान है।

इसके बाद हंगामा करते हुए आतंकियों ने देश विरोधी नारे भी लगाए। पुलिसकर्मी के चिल्लाने के आवाज सुनकर सुरक्षा में तैनात पुलिसकर्मियों ने वरीय जेल प्रशासन को सूचना दिया।

सूचना पाकर पहुंचे जेल प्रशासन के वरीय पदाधिकारियों ने सख्ती से पेश आते हुए मामला को शांत कराया।

सूत्रों की मानें तो भारतीय सेना द्वारा किए गए सर्जिकल स्ट्राइक के बाद आदर्श केंद्रीय कारा बेऊर में बंद आतंकियों में रोष है और आए दिनों भारतीय सेना के खिलाफ बोलते रहते हैं। वहीं उक्त सारे आतंकी आए दिन जेल प्रशासन से निर्धारित भोजन से अलग स्पेशल भोजन की मांग करते हुए हंगामा खड़ा करता है।

सुरक्षा में तैनात पुलिसकर्मी के पिटाई एवं देश विरोधी नारे को लेकर कैदियों में भी रोष व्याप्त है। इस घटना के बाद जेल में बंद आतंकियों की सुरक्षा और कड़ी कर दिया गया है।

जेल प्रशासन की मानें तो  पूर्ण रूप से शांति व्यवस्था कायम है। किसी भी हालत में किसी को शांति भंग करने की इजाजत नही है। वहीं मामले की जांच की जा रही है।

Share Button

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.