नोटबंदी को लेकर ‘आज तक’ की श्वेता सिंह का विडियो हो रहा वायरल

Share Button

नई दिल्ली। दो-तीन दिन से ‘आज तक’ के न्यूज रूम का एक वीडियो सोशल मीडिया मार्केट में घूम रहा है, जिसमें आज तक की मशहूर एंकर और एग्जिक्यूटिव एडिटर श्वेता सिंह का जमकर मजाक उडाया जा रहा है।

बताया जा रहा है कि कैसे 2 हजार के नोट को लेकर श्वेता सिंह ने अपने न्यूज रूम के साथियों के साथ वीडियो डिस्कशन में पब्लिक को जीपीएस चिप की गलत जानकारी दी।

अब आज तक की वेबसाइट पर फिर श्वेता सिंह और उनके साथ उन्हीं पुराने साथियों ने इस मुद्दे पर चर्चा करते हुए अपनी सफाई देते हुए एक वीडियो जारी किया है।

जिस वीडियो क्लिप में उनका मजाक उडाया गया है, वो कुछ लोगों ने ट्वीट की, लेकिन दिलीप पांडेय जैसे आप नेताओं के रिट्वीट करते ही वे वायरल हो गई। आप उस वीडिय़ो क्लिप को देखेंगे तो आपको भी लगेगा कि आज तक के पत्रकार किस तरह  की चर्चा कर रहे हैं।

उस चर्चा में श्वेता सिंह के साथ आउटपुट के तीन-चार साथी और हैं, इस चर्चा के दौरान श्वेता ये समझा रही हैं कि कैसे सैटेलाइट के जरिए अगर ये नोट 120 मीटर जमीन के अंदर भी छुपा होगा, तो ढूंढ लिया जाएगा।

लेकिन उनका कल जारी हुआ ताजा वीडियो इस वायरल वीडियो पर क्लेरीफिकेशन है। इस वीडियो में वही पुराने साथी श्वेता सिंह के साथ फिर से हैं,  जो ये बता रहे हैं कि कैसे इस वीडियो क्लिप को पूरा नहीं दिखाया गया।

कैसे वो ये बता रहे थे कि इस वक्त क्या क्या मैसेज नए नोट और उसमें चिप को लेकर वायरल हो रहे हैं, जो कि आरबीआई की गाइडलाइन में भी नहीं है और ये दूसरा वीडियो उन्होंने पुराने डिस्कशन फॉरमेट में ही कॉन्फिडेंस के साथ हंसते हुए जारी किया है।

गौरतलब है कि कुछ महीनों से श्वेता सिंह का गाय पर बना एक शो भी सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है, जिसमें वो गाय की महिमा बता रही हैं। इस पर भी कई तरह के रोचक कॉमेंट पढ़ने को मिल रहे हैं।

Share Button

Relate Newss:

बिहार चुनाव में नकली और विदेशी मुद्राओं का हुआ जमकर इस्तेमाल
टाइम्स नाऊ पर चला एनबीएसए का डंडा, जुर्माना सहित माफी मांगने के आदेश
देश को जरूरत है केजरीवाल जैसे पगलेट नेता की !
600 Volunteers, Over 1000 artists and 60,000+ strong audience in one mega show
सरकारी पैसे से हो रही है निजी प्रचार
सोशल मीडिया मजा भी और सजा भीः फेसबुक ने यूं खोला कई सफेदपोशों का राज
चमरा लिंडा की गिरफ्तारी में झलकी तानाशाही मानसिकता
भारतीय लोकतंत्र इस भाजपाई मंत्री की बपौती है मी लार्ड ?
सूचनायुक्तों की बहाली प्रक्रिया को जान बूझ लटका रखी है रघुबर सरकार
'गोरा katora' नहीं हुजूर, लोग कहते हैं 'घोड़ा कटोरा'
...और राजगीर की मीडिया को यूं ऐड़ा बना पेड़ा खिला गया रोपवे प्रभारी
आई-नेक्स्ट की गंदगी सुनाते सुनाते रो पड़ीं प्रतिमा  भार्गव
मनीषा दयाल की कार्यों की तरह उसके पजेरो में भी है काफी झोल-झाल !
चंडी पुलिस ने देसी दारु का धंधा कर रहे पूर्व प्रखंड प्रमुख के चाचा को पकड़ा
कुख्यात शाहबुद्दीन को लेकर लालू- नितीश के खिलाफ प्रदर्शन!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...