नीतिश के लिए काल बन सकते हैं मोदी के प्रशांत !

Share Button

राज़नामा.कॉम।  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की चुनाव प्रचार टीम के मुख्य सदस्य प्रशांत किशोर आगामी बिहार विधानसभा चुनावों में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के लिए काम कर सकते हैं।

nitish2011 में संयुक्त राष्ट्र की नौकरी छोड़ कर आये लोक स्वास्थ्य मामलों के विशेषज्ञ किशोर उन युवा पेशेवरों की टीम में शामिल हुए जिन्होंने करीब तीन वर्षों तक नरेंद्र मोदी के लिए प्रचार किया था।

Prashant_modiचाय पे चर्चा’ और थ्री डी होलोग्राम प्रचार जैसे कई अभियानों का श्रेय उन्हें जाता है। इन कार्यक्रमों ने मोदी की जीत में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

37 वर्षीय किशोर ने 60 अन्य पेशेवरों के साथ मिलकर सिटीजन्स फॉर अकाउंटेबल गवर्नेंस (सीएजी) बनाई थी, जिसका उद्देश्य मोदी के लिए वोट जुटाना और फिर सामाजिक मुद्दों का समाधान करना रहा।

हालांकि, किशोर ने बुधवार को मीडिया से बातचीत में कहा कि उन्होंने एक वर्ष की ‘छुट्टी’ ली है लेकिन इस बात की पुष्टि नहीं की कि वह नीतीश कुमार के लिए काम करेंगे।

जब उनसे पूछा गया कि क्या बिहार चुनाव से पहले वह नीतीश के चुनाव प्रचार में शामिल होंगे तो उन्होंने कहा, ‘मैं जिस तरह का काम करता हूं, उसमें लोग सामान्य तौर पर संपर्क करते हैं।’ किशोर ने यह भी स्पष्ट किया कि वह मोदी के लिए काम कर रहे थे न कि भाजपा के लिए। उन्होंने कहा, ‘मैं कभी भी भाजपा से नहीं जुड़ा। मोदी के लिए मैं निजी तौर पर काम कर रहा था।’

उधर, जद यू के सांसद और मुख्यमंत्री के सांस्कृतिक सलाहकार पवन वर्मा ने कहा कि किशोर, नीतीश कुमार के लिए काम करेंगे।

वर्मा ने बताया, ‘वह (किशोर) हमसे जुड़ेंगे और जब भी वह हमसे जुड़ेंगे हम स्वागत करेंगे। उन्होंने नीतीश कुमार जैसे नेता के लिए काम करने की इच्छा जताई है और हमारा मानना है कि वह संचार और सोशल मीडिया के क्षेत्र में कुछ विशेषज्ञता लाएंगे।’

बहरहाल, मोदी के कट्टर करीबी प्रशांत किशोर को लेकर जदयू खेमे का एक बड़ा तबका इस बात को लेकर काफी आशंकित दिख रहे हैं कि वे भाजपा के शीर्ष तकनीकी विशेषज्ञों की एक सोची-समझी रणनीति के तहत ही नीतिश कुमार की नीतियों के अंदर घुस कर काम करेगें ताकि, अंततः आगामी विधानसभा चुनाव में मोदी और भाजपा की राह रास्ता आसान किया जा सके।

Share Button

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...