सुशासन का सचः लिखंत कुछ, बकंत कुछ और करंत कुछ !

Share Button
Read Time:3 Minute, 31 Second

नालंदा जिला में कानून व्यवस्था और पुलिस प्रशासन का ताजा आलम यह है कि नीचे से उपर तक सब अपनी डफली अपना राग अलापते हैं। उनमें लिखंत कुछ, बकंत कुछ और करंत कुछ वाली कहावत कूट कूट कर भरी है।
nitish_antiजिले के हिलसा अनुमंडल के नगरनौसा अंचल के चंडी थाना में लोदीपुर गांव में जारी एक जमीन विवाद मामले में अक्षरशः ऐसा ही प्रतीत होता है। इस मामले में

थाना पुलिस इंचार्य, सीओ से लेकर न्यायालय लगा कर विवाद निपटारा करने के ढिंढोरे पीटने वाले एसडीओ तक मिले हुए नजर आते हैं।

भूमि या अन्य विवादों के एक छोटे से मामले को, जिसे सहज ढंग से मिनटों में सुलझाया जा सकता है, उसे वे लोग अपनी काली कमाई का जरिया बनाने के लिए तिल का ताड़ बना डालते हैं और विवाद में उलझे पक्षों का अवैध शोषण शुरु कर देते हैं।

राजनामा.कॉम के पास जिस तरह के सबूत उपलब्ध हुए हैं, वे चीख-चीख कर प्रमाणित करते हैं कि हिलसा अनुमंडल के कानून व्यवस्था के प्राथमिक तीनों स्तर के अधिकारी हमाम में साथ खड़े नंगे हैं। चाहे वह नगरनौसा अंचल के सीओ दिव्या आलोक, चंडी थाना के वर्तमान पुलिस इंचार्य धर्मेंन्द्र कुमार हो या फिर हिलसा अनुमंडल के वर्तमान एसडीओ अजीत कुमार सिंह। सबने मिल कर अपने स्तर से कानून व्यवस्था और न्याय की धज्जियां उड़ा कर रख दी।

वरिष्ठ पत्रकार मुकेश भारतीय की पैत्रिक जमीन पर गांव के असमाजिक तत्वों के द्वारा धारा-144 के दौरान पक्का मकान बना दिया गया है और फिलहाल एसडीओ कोर्ट में सारे मामले पर लालफीताशाही हावी है। वहां सब कुछ ऐसा चल रहा है कि माननीय का दामन भी बचा रहे और लालशाही का फीता भी।

इस मामले का सबसे दिलचस्प पहलु यह है कि चंडी थाना प्रभारी ने अपने रसुख पॉवर से जमीन कब्जा करा कर पक्का मकान बनाने का ‘ठेका’ ले लिया था। उसने प्रारंभ में सीओ के हर निर्देश को ठेंगा दिखाते रहा, उसके बाद एडीओ के आदेशों को रद्दी की टोकरी में फेकता रहा।

सीओ की लाचारी या ‘रहस्यमयता’ का आलम यह रहा कि वे थाना प्रभारी की मनमानी के आगे नतमस्तक नजर आए। एक दण्डाधिकारी की भूमिका का निर्वाह करने वाले एसडीओ की हालत भी अब तक कुछ इतर नहीं दिखी है या दिख रही है।

बहरहाल मुकेश भारतीय की पैत्रिक जमीन पर धारा-144 के बीच पुलिस-प्रशासन की मिलीभगत से निर्मित अवैध मकान से पूरी सेंटिग खोल ली गई है और असमाजक तत्वों द्वारा मनमानी जारी है।

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

ऐसे मनबढ़ू अभद्र महिला इंस्पेक्टरों ने एक निरीह पत्रकार को सरेआम घेरकर बेइज्जत किया
उस महिला का गर्भपात की पुष्टि, कोडरमा घाटी में जिस अज्ञात महिला का मिला था शव
कानून यशवंत सिन्हा की रखैल नहीं है आडवाणी जी
अखबारों और चैनलों के सीले होठ और चूं-चूं का मुरब्बा बना झारखंड सीएम जनसंवाद केन्द्र
सीएनटी-एसपीटी में संशोधन पर पुनर्विचार करेगी भाजपा !
राज्य महिला आयोग के अध्यक्ष महुआ माजी का विरोध
गिरियक के पत्रकार निसार अहमद के घर बम फेंका, सूचना के 12 घंटे बाद भी नहीं पहुंची थाना पुलिस
अख़बारों से लुप्त होते सामाजिक सरोकार
पीटीआई और भाषा में हर साल करोड़ों का घपला !
13 अक्टूबर को रजत जयंती समारोह मनाएगा पटना दूरदर्शन केन्द्र
12 को उद्घाटित होगा ‘खबर मंथन’, विनायक विजेता होंगे प्रधान संपादक
केस रियल रिट्रीट होटल काः पूल पार्टी या नशा-सेक्स कारोबार ?
पुरातत्व विभाग उदासीनता से मायूस हैं चंडी के लोग
जुबान नही,कलम बोलनी चाहिए पत्रकार की
कलाम को बेहद पसंद थी झारखंड की भोली भाली जनता
शोसल नेटवर्किंग का विस्तार और मानवीय अलगाव के खतरे
ऐय्याश-भगोड़ा विजय माल्या को भारत लाना दूर की कौड़ी, गिरफ्तारी के 3 घंटे बाद ही रिहा
न्यूड वीडियो के जरिए पाकिस्तानी महिला जासूस ने फौजी को फंसाया
दैनिक खबर मन्त्र कर्मी देवानंद साहू की सड़क दुर्घटना में मौत
इस चुनाव से गायब हैं खेत-खलिहान के मुद्दे
चुनाव आयोग की रडार पर आए राहुल , लालू और अमित
मीडिया को अपने चश्मे का रंग बदलना होगा
प्रेस क्लब की सदस्यता में धांधली के बीच विजय पाठक को लेकर उभरे तत्थ
महंगा पड़ा हरियाणा सीएम से जनहित सवाल, जी न्यूज ने रिपोर्टर को निकाला
राजगीर में अराजकता, पार्श्व नाथ की मूर्ति तोड़ा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...