नालंदा में प्रेस रिपोर्टर बने अनेक नियोजित मास्टर, क्या बेखबर है प्रशासन?

Share Button

नालंदा (INR)। नालंदा जिले के विभिन्न प्रखंड-थाना क्षेत्रों के सरकारी स्कूलों में नियोजित मास्टर रिपोर्टर बने हैं। वे अपने वाहनों पर प्रेस लिख सरकारी दफ्तरों से लेकर गांव-देहात तक मीडिया का दबदबा बनाते देखे जा सकते हैं।

प्राप्त जानकारी के अनुसार कतरीसराय, हरनौत चंडी, हिलसा, थरथरी, गिरियक, नालंदा, पावापुरी आदि क्षेत्रों में कई नियोजित मास्टर ऐसे हैं, जो खुले तौर पर जाने-माने अखबारों में नियमित रिपोर्टिंग करते हैं। आलावे कई ऐसे नियोजित मास्टर हैं, किसके लिये करते हैं, यह तो ज्ञात नहीं होता है, लेकिन वे अपने दो पहिया-चार पहिया नीजि वाहनों में प्रेस लिख खूब फांकी मारते हैं।

गंभीर बात है कि ऐसे शिक्षक स्कूलों मे न के बराबर ही पठन-पाठन करते हैं। उनकी उपस्थिति की कोई सुध नहीं लेता। चूकि उनके प्रेस के कथित रौब से प्रखंडो के बीईओ और उनके कार्यालय बाआरसी के लोग भयभीत रहते हैं, एतएव उन्हें कोई टोका-टाकी भी नहीं करता।

आश्चर्य है कि तथाकथित ऐसे रिपोर्टर प्रखंड-अनुमंडल-जिला स्तर के प्रशासनिक आयोजनों-बैठकों में स्कूल टाइम में ही शामिल देखे जाते हैं। इसे लेकर पंचायत प्रतिनिधि भी कोई शिकायत कर पंगा लेने का जोखिम नहीं उठाते। क्योंकि प्रायः वे दूध तो दूर पानी के धुले भी नहीं होते।

बहरहाल, जिला प्रशासन को चाहिये कि ऐसे नियोजित शिक्षकों की अपने स्तर से पड़ताल कर कड़ी कार्रवाई करे तथा अखबार प्रबंधन या उसके जिम्मेवार लोगों को भी चाहिये कि ऐसे लोगों को प्राथमिकता न दे।

Share Button

Relate Newss:

इस मीडिया गैंग की नई करतूत, प्रशासन को कर रहे यूं बदनाम
शॉटगन का विजयवर्गीय पर पलटवार-  'हाथी चले बिहार.....भौंके हजार'
13 अक्टूबर से अपना अखबार निकालेगें हरिनारायण जी
ऊना में भीड़ के हमले में 8 दलित हुये घायल, पुलिस रही निष्क्रीय !
दैनिक भास्कर ने आतंकी के बाद बीएसएनएल कर्मी बताया!
मोदी जी, सीएम रघुबर दास के बेटा-भाई पर भी नजर डालिए!
रघुवर दास के बेटे के 'SEX AUDIO' पर हाईकोर्ट में याचिका
नवादा DPRO की दादागिरी, 'डीएम-जेबकतरा' खबर को लेकर 3 पत्रकारों पर बैन
संकट में सुबोध, नहीं मान रहे युवराज !
'साहित्य सम्मेलन शताब्दी समारोह' में सम्मानित हुए साहित्यकार मुकेश 
वर्ष 2006 में ही पकड़ाया था हिन्दुस्तान विज्ञापन घोटाला
कहीं दूसरा 'हूल’ न बन जाये पत्थलगड़ी ?
मोदी नहीं, मुबारक का भाषण सुन रहे हैं ओबामा
एक था ‘अखबारों की नगरी’ मुजफ्फरपुर का 'ठाकुर'
सीएम को कवर करने से रोका तो फर्जी सूचना वायरल पर चला दी खबर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...