नालंदा एसपी ने ‘ट्रक वसूली’ का ठीकरा हवलदार के सिर फोड़ा !

Share Button

पटना (संवाददाता)। नालंदा के एसपी  कुमार आशीष ने नगरनौसा थाना प्रभारी का बचाव करते हुये कहा है कि वहां दो हवलदार द्वारा ट्रक रुकवाने की बात सामने आई है। मामले की जांच करवाई जा रही है और जो भी दोषी होगा, उस पर कार्रवाई होगी।

nagarnausa-ps-incharj-kamlesh-cruptionएक तेज तर्रार पुलिस कप्तान के रुप में चर्चित एसपी कुमार आशीष ने यह बयान वहाट्सअप के जरिये राजनामा.कॉम पर प्रसारित  पहले अवैध ट्रकों को पकड़ा, फिर वसूली कर छोड़ा  शीर्षक से प्रसारित खबर के आलोक में दी है।

उल्लेखनीय है कि आज अहले सुबह करीब पांच बजे नगरनौसा पुलिस ने ओवर लोड गिट्टी से लदे दो ट्रकों को पकड़ा लेकिन, उसके चालकों से ले-देकर मामला रफा दफा कर दिया। ट्रक का नंबर क्रमशः JH12E-0935  और JH12J-0626 बताई जाती है, जोकि ठीक थाना भवन के सामने घंटो खड़ी रही और उसके उसके चालक व उप चालक थाना प्रभारी से मामला सलटाने की चिरौरी करते दिखे।

इस संबंध में थाना प्रभारी कमलेश सिंह ने किसी भी ओवर लोड ट्रक को पकड़ने से साफ इंकार कर दिया। लेकिन प्रत्यक्षदर्शी और थाना के ठीक सामने अवैध ढंग से खड़े ट्रकों की तस्वीर कुछ और वयां करती है।

अब सबाल उठता है कि एक तरफ जहां नगरनौसा थाना प्रभारी द्वारा झारखंड नंबर वाली किसी भी ट्रक को पकड़ने से साफ इंकार कर दिया, वहीं, जिले के कप्तान  एसपी कुमार आशीष को किस स्रोत से दो हवलदार द्वारा  ट्रक रुकवाने की बात सामने आ रही है। क्या किसी थाना प्रभारी की संज्ञान के बिना कोई हवलदार किसी ओभरलोडेड वाहन को घंटो रोकने के बाद उसे छोड़ सकता है ? कहीं एसपी किसी के सिर का ठीकरा किसी के सिर फोड़ने की फिराक में तो नहीं हैं ? उनके वहाट्सप के जरिये दिये गये बयान से तो यही लगता है।

Share Button

Relate Newss:

नोटबंदी को लेकर मोदी सरकार से कुछ सवाल
मोहन श्रीवास्तव की पत्नी भी है सेक्स रैकेट में संलिप्त !
गूगल कंपनी में करीब 200 बकरियां नौकरी, वेतन सहित मिलती हैं अन्य सुविधाएं
पीएम मोदी के नाम लालू का खुला पत्र- 'चेतें अथवा अपना कुनबा समेटें'
आंखों देखी फांसीः एक रिपोर्टर के रोमांचक अनुभव का दस्तावेज
काफी आहत हैं PGI लखनऊ में भर्ती देवघर के कैंसर पीड़ित पत्रकार आलोक संतोषी
आजाद हिंद फौज के कैप्टन अब्बास अली का इंतकाल
डीसी, एसपी, महिला आयोग और पत्रकारों ने डुबोई सरायकेला जिले की प्रतिष्ठा
पीएम को विज्ञापन बनाने वाले जिओ पर महज 500 जुर्माना !
मीडिया के चतुर सयानों की सूचना को अब राज़नामा नहीं लेगी संज्ञान
दैनिक भास्कर ने आतंकी के बाद बीएसएनएल कर्मी बताया!
'साहित्य सम्मेलन शताब्दी समारोह' में सम्मानित हुए साहित्यकार मुकेश 
स्कॉलर होते हैं परीक्षा माफिया के असली ब्रह्मास्त्र
देश को चोट पहुंचाती है वाणी की हिंसा : महामहिम राष्ट्रपति
'रघुबर सरकार ने रांची की निर्भया कांड की CBI जांच की अनुशंसा तक नहीं की'

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...