नालंदाः पूजा से पहले मिट्टी में दफन हो गई चार घरों की लक्ष्मी

Share Button

नालंदा ( जयप्रकाश)। घर से बड़े अरमानों के साथ गाँव की सहेलियों की एक टोली छठ पूजा के लिए चूल्हे बनाने के लिए नदी की ओर निकली थी पर किसे पता था आज का दिन उनके लिए आखिरी दिन साबित होने वाला है ।

छठ पूजा की तैयारी में लगे परिवार के लोगों पर अचानक बिजली गिर पड़ी ।मिट्टी की जगह उन लड़कियों की लाश गाँव पहुँची।मिट्टी लाने गई चार लड़कियों की जिंदगी मिट्टी में ही दफन हो गई ।

nalanda-girl-1यह दर्दनाक घटना नालंदा के बिंद थाना क्षेत्र के ताजनीपुर गाँव में घटी। गाँव वालों के लिए काला शनिवार साबित हुआ। जहाँ गाँव की चार बेटियों की जिंदगी एक झटके में शनिदेव ने लील ली।

नालंदा का बिंद थाना क्षेत्र का ताजनीपुर गाँव जहाँ श्याम मिस्त्री की 12 वर्षीय बेटी अर्चना कुमारी, शंकर साव की 11 वर्षीय बेटी जूही, कपिल बिंद की 12 वर्षीय काजल कुमारी तथा मुरारी बिंद की 12 वर्षीय बेटी संजना कुमारी छठ पूजा को लेकर चूल्हे बनाने के लिए गाँव के ही जिराइन नदी से शनिवार दोपहर मिट्टी लाने निकली थी। रास्ते में सभी सहेलिया काफी खुश दिख रही थी। उन्हें क्या पता आज उनकी यह हँसी अंतिम होगी, उनकी यह हँसी घरवालो के लिए मातम में बदल जाएगी।
नदी से मिट्टी काटने के बाद सभी स्नान के लिए नदी में उतर गई । लेकिन नदी की तेज धारा लड़कियाँ सहन नही कर सकी और सभी तेज धारा में बह गई । नदी किनारे खेल रहे बच्चों ने लड़कियों को डूबते देखा तो हल्ला किया ।

उनके हल्ले सुनकर गाँव वाले पहुँचे।तबतक सभी लड़कियाँ नदी में समा चुका थी।ग्रामीणों ने नदी में काफी मशक्कत के बाद एक-एक कर सभी डूबे चार बच्चियों को नदी से निकाला । आनन -फानन में उन्हें बिंद प्राथमिक अस्पताल ले जाया गया ।चिकित्सकों ने सभी चार बच्चियों को मृत घोषित कर दिया ।
गाँव में जब दर्दनाक हादसे की खबर पहुँची तो गाँव में कोहराम मच गया ।गाँव की गलियों में करूण रूंदन का शोर सुनाई देने लगा।परिजनों का रो -रोकर बुरा हाल हो चुका है । दीपावली से पहले ही चार घरों की उनकी लक्ष्मी उजड गई । अब शायद उन चार घरों में कभी दीपावली और छठ मनाई जाएगी ।जब-जब यह पर्व आएगा उन चार लड़कियों के परिजनों के लिए एक दुखद पीड़ा लेकर आएगी।

Share Button

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...