नहीं रहे वरिष्ठ पत्रकार दिलीप पडगांवकर

Share Button
Read Time:1 Minute, 25 Second

पुणे। जाने-माने पत्रकार और टाइम्स ऑफ इंडिया अखबार के कन्सल्टिंग एडिटर दिलीप पडगांवकर आज नहीं रहे। वे 72 साल के थे और उन्हें हार्ट अटैक के बाद पुणे के एक अस्पताल में उन्हें भर्ती कराया गया था। उनके किडनी में भी समस्या थी जिसका इलाज चल रहा था. लेकिन आज उनका निधन हो गया।

उनका जन्म 1944 में पुणे में हुआ था। टाइम्स ऑफ़ इंडिया के संपादक बनने के पहले उन्होंने आठ साल तक यूनेस्को के लिए भी काम किया था।

टाइम्स ऑफ इंडिया का संपादक रहते उनका यह बयान काफी मशहूर हुआ था कि भारत में प्रधानमंत्री के बाद टीओआई के संपादक का पद सबसे महत्वपूर्ण पद है।

दिलीप पडगांवकर ने महज 24साल की उम्र में पत्रकारिता की दुनिया में कदम रखा। बैंकाक और पेरिस भी लंबे समय तक उनका कार्यक्षेत्र रहा।

पत्रकारिता में उल्लेखनीय के लिए उन्हें फ्रांस का सबसे बड़े नागरिक सम्मान ‘ज़ाक शिराक’ सम्मान भी मिला।  राजनामा.कॉम परिवार उनके निधन पर शोक प्रकट करता है।

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

भाजपा सांसद गिरिराज सिंह गायब, नवादा के चौक-चौराहे पर चिपके पोस्टर
बिना प्रशासनिक सहभागिता संभव नहीं है सोशल मीडिया पर नजर
डालटनगंज में लगा भूतों का मेला, प्रशासन मूकदर्शक !
मोदी के अच्छे दिन के इंतजार में कलप रहा है बनारस
15 हजार लेकर थानाध्यक्ष ने कराई नाबालिग छात्रा की शादी, कतिपय पत्रकार देख ले VEDIO
जेएनयू में सफ़ाई अभियान की ज़रूरत है
अंततः अरविंद केजरीवाल को मिली सुगर-खांसी से मुक्ति !
एक अनुबंधित शिक्षिका के बपौती रौब ने समूचे माहौल को गंदा कर डाला
बेउर जेल में बंद कुख्यात रीतलाल के घर पहुंचे लालू
पद्मश्री बलबीर दत के सम्मान में पहुंचे मात्र तीन पत्रकार !
कानू सान्याल की तस्वीर से मचा हड़कंप
सिद्धू ने हमारे साथ बड़ा धोखा किया :स्टार इंडिया
मधेपुरा जिले के बिहारीगंज में तनाव, नेट सेवा बंद, धारा 144 लागू
लिव इन रिलेशन छाप पत्रकार और महिला ने सड़क पर की यूं बड़ी नौटंकी  
एक बड़े फर्जीबाड़े की उपज है रांची प्रेस क्लब या द रांची प्रेस क्लब !
सर्जिकल अटैक : देशहित में कई सवाल
एडिटर-रिपोर्टर के बीच सहमति और स्पष्टता के लिए जरुरी है परस्पर संवाद
बिहार में बच्चों की मौत पर रिपोर्टिंग करती टीवी पत्रकारिता को टेटनस हो गया है, टेटभैक का इंजेक्शन भी...
कमीशन के खेल में फंसी रांची की मेयर आशा लकड़ा
चुनाव जीतने के बाद लालटेन लेकर सबसे पहले बनारस जाएंगे लालू
युवा निर्भीक आदिवासी रिपोर्टर अमित तोपनो की हत्या
बीफ का बिजनेस करने वाले 95% हिन्दू, विधायक और सांसद चलाते हैं बीफ कंपनियां
नरेन्द्र मोदी को संघ का पिछड़ा बताने के मायने
30 हजार रुपये प्रति किलो वाली सब्जी रोज खाते हैं पीएम मोदी
राजू अचानक क्यों बन गया जेंटिल मैन?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...