नहीं रहे दैनिक भास्कर के ग्रुप एडिटर कल्पेश याग्निक, हार्ट अटैक से मौत

Share Button

कल्पेश जी 1998 से दैनिक भास्कर समूह से जुड़े थे। 55 वर्षीय याग्निक प्रखर वक्ता और देश के विख्यात पत्रकार थे। वे पैनी लेखनी के लिए जाने जाते थे।”

राजनामा.कॉम। दैनिक भास्कर अखबार के समूह संपादक कल्पेश याग्निक का निधन हो गया। बताया जाता है कि गुरुवार की रात करीब साढ़े 10 बजे इंदौर स्थित आफिस में काम के दौरान उन्हें दिल का दौरा पड़ा।

साथियों ने उन्हें तत्काल बॉम्बे अस्पताल पहुंचाया। करीब साढ़े तीन घंटे तक उनका इलाज चला। लेकिन तमाम प्रयासों के बाद भी उनकी स्थिति में सुधार नहीं हुआ।

डॉक्टरों के मुताबिक इलाज के दौरान ही उन्हें दिल का दूसरा दौरा पड़ा। रात  करीब 2 बजे डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

कल्पेश याज्ञनिक का जन्म 21 जून वर्ष 1963 में हुआ था। उनकी अंतिम यात्रा शुक्रवार सुबह 11 बजे इंदौर स्थित उनके निवास साकेत नगर से तिलक नगर मुक्तिधाम जाएगी।

देश और समाज में चल रहे संवेदनशील मुद्दों पर बेबाक और निष्पक्ष लिखते थे। प्रत्येक शनिवार दैनिक भास्कर के अंक में प्रकाशित होने वाला उनका कॉलम ‘असंभव के विरुद्ध’ देशभर में चर्चित था।

कल्पेश जी के परिवार में मां प्रतिभा याग्निक, पत्नी भारती, बड़ी बेटी शेरना, छोटी बेटी शौर्या, भाई नीरज और अनुराग हैं।

कुछ लोगों का कहना है कि कल्पेश जी सीढ़ियों के जरिए आफिस में जा रहे थे तभी हार्ट अटैक हुआ और गिर कर गंभीर रूप से घायल हो गए। उन्हें अस्पताल ले जाया गया, लेकिन इलाज के दौरान एक बार फिर हार्ट अटैक आने से उन्हें बचाया नहीं जा सका।

Share Button

Relate Newss:

स्वंय प्रकाश सरीखे चरणपोछु संपादक हो सकते हैं, पत्रकार नहीं
मासूम भिखारी ने मांगा एक रुपया तो भाजपा की महिला मंत्री ने मार दी लात
मोदी की हिदायत के बाबजूद बेलगाम है साक्षी महाराज !
बिहार में शराबबंदी कानून, कठिन डगर है नालंदा पनघट की
छोटे और मंझोले अख़बारों को मार डालेगी मोदी सरकार की नई विज्ञापन नीति
भाजपा की शरण में लालू के हनुमान,बोले नमो-नमो !
भोपाल मुठभेड़ की जांच से शिवराज सरकार का साफ इन्कार
रांची पुलिस की पेट्रोलिंग पार्टी ने ही लूट लिये 70 लाख, 6 सस्पेंड, गये जेल
मोदी राजः लोकायुक्त जांच की ख़बर छापी तो पत्रकार को जेल !
गुजरात में जेसीबी से कलेक्टर हटवा कहे हैं मरी गाएं
10 जनवरी 2017 तक बिहार में अधिकारियों के तबादले रोक
मुरादाबाद  में जलती चिता से शव के मांस खाते युवक धराया
सुर्खियों में हैं बिहार कैडर के IPS अमित लोढा की पुस्तक ‘बिहार डायरीज’
पीएम मोदी को पीछे छोड़ बिगबी बने ट्वीटर के बादशाह
अंततः वरिष्ठ पत्रकार आशुतोष को भी 'आप' न आई रास, दिया यूं इस्तीफा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...