नवादा एसपी ने किया पत्रकार को प्रताड़ित !

Share Button
Read Time:1 Minute, 11 Second

नवादा एसपी लाल मोहन प्रसाद के खिलाफ टाइम्स ऑफ इंडिया के पत्रकार शशीभुषण सिंहा ने एक रिर्पोट छापी। रिर्पोट के अनसुार रजौली थानाध्यक्ष विंध्याचल प्रसाद के खिलाफ तीन महीने से वारंट जारी थी। कोर्ट के द्वारा लगातार रिमांडर दिया जा रहा था पर एसपी उसे थानाध्यक्ष बना कर रखे हुए थे।

गुरूवार को ही यह रिर्पोट मुख्य पृष्ट पर छपी और गुरूवार को शशीभुषण सिंहा के घर एवं दुकान में छापेमारी की। हलांकी छापेमारी में किसी प्रकार का कोई अपत्तिजनक चीज नहीं मिली पर यह घटना पत्रकारों का मनोबल तोड़ने वाला कदम है। 
लाल मोहन प्रसाद सीएम नीतीश कुमार के सुरक्षा में कुछ माह रहे है इससे ये खुद को सीएम से कम नहीं समझते।

……. पत्रकार अरुण साथी के फेसबुक टैग से

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

दैनिक ‘प्रभात खबर’ में हैं इंडियन मुजाहिदीन से जुड़े कई संदिग्ध !
बड़े मियां क्या,छोटे मियां भी सुभान अल्लाह
बिहारः प्रेस पर इमरजेंसी जैसी सेंसरशिप
इस तरह के भूल से क्यों नहीं बच पा रहा है दैनिक भास्कर   
अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे भेजें
पूर्व-ब्यूरो चीफ के बीच आफिस में मारपीट के बाद काउंटर एफआईआर!
नई विज्ञापन नीति से लघु एवं मध्यम अखबार संचालकों में गहरा रोष
दैनिक भास्कर ने आतंकी के बाद बीएसएनएल कर्मी बताया!
बिहारः प्रेस परिषद की टीम खा गई गच्चा
Hindustan Ad. Scandal: The Registrar orders to list the matter before the court
राजस्थान पत्रिका समूह के सलाहकार संपादक बने ओम थानवी
यह है दैनिक जागरण की शर्मशार कर देने वाली पत्रकारिता
जारी है झारखंड सूचना एवं जनसंपर्क विभाग में लूट का खेल
चोरी और सीनाजोरी के लिए यूं कुख्यात हैं दैनिक जागरण वाले, हुआ मुकदमा !
दैनिक प्रभात खबर का अमन तिवारी क्राईम रिपोर्टर है या क्राईम मैनजर !
दैनिक जागरण क मालिक संजय गुप्ता ने पेड न्यूज कुबूल किया : ओम थानवी
दैनिक जागरणः  हत्या किसी की, फोटो छापा किसी का !
बिहार स्वास्थ्य विभाग का यह विज्ञापन नहीं, आम जन के प्रति है बड़ा अपराध
पांचजन्‍य-ऑर्गनाइजरकर्मियों की चिठ्ठी से खुली राज़, RSS के हैं ये अखबार !
दैनिक हिन्दुस्तान ने अपनाया बीच का रास्ता
दैनिक हिन्दुस्तान मामले में सुप्रीम कोर्ट से अवमानना और सीबीआई जांच की मांग
खबर देने वाली एजेंसी UNI की खबर न किसी ने दिखाई न छापी !
आज छद्म के रूप में अवशेष है मीडिया
बिहार सरकार के सचिव ने दैनिक जागरण के मुंगेर संस्करण का दिया जांच का आदेश
जागरण.कॉम के संपादक शेखर त्रिपाठी को मिली जमानत

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...