‘धूर्त्तपुरुष’ की राह पर ‘युगपुरुष’ ?

Share Button
Read Time:4 Minute, 27 Second

namo_ministerश्री नरेन्द्र मोदी जी की जीत से लगा थ कि वे भारतीय राजनीति में ‘युगपुरुष’ के रूप में अवतरित हुए हैं । प्रधानमंत्री के पद पर शपथग्रहण के पश्चात उनके द्वारा दिया गया श्लोगन- “अच्छे दिन आने वाले हैं” से भारतीय जनता जबरदस्त उत्साहित थी। किंतु शपथग्रहण के एक डेढ महीने बाद ही उनके और उनकी सरकार के निर्णयों ने उन्हें अर्श से फर्श पर ला पटका है। जिसे युगपुरुष कहा जा रहा था, वह तो वास्तव में” धूर्त्तपुरुष ” निकला।

 मनमोहन सरकार के मंहगाई और भ्रष्टाचार को मुद्दा बनाकर चुनाव जीतने वाली मोदी सरकार के जनता से किकिए गए सारे कसमें-वादे अबतक झूठ ही साबित हुए हैं। तकरीबन डेढ महीने के भीतर ही मोदी सरकार ने आमलोगों का अच्छा खासा जेब कतर डाला।

शपथग्रहण के महीना भर भी नहीं बीता था कि मंहगाई दर में एक प्रतिशत का उछाल आगया।पेट्रोल-डीजल के दाम बढा दिया गया। साग- सब्जियाँ और मंहगी हो गई। किसान क्रेडिट कार्ड पर कर्ज लेने वाले किसानों की कमर तोड दी गई।उन्हें अब 7% के बजाय 14% से अधिक ब्याज देना पडेगा। अब आमलोगों की सबसे सस्ती सवारी रेल का किराया भी बढा दिया गया।अगर कहीं राहत दी गई है तो वह है बिना सब्सिडी वाला गैस सिलेंडर जिसे खास लोग ही इस्तेमाल करते हैं।लिहाजा आमलोग खुद को ठगा सा महसूस कर रहे हैं ।

 यहां मुझे अरविंद केजरीवाल और राहुल गांधी शिद्दत से याद आरहे हैं । जिन्होंने पूरे एलेक्शन कैंपेन के दौरान नरेन्द्र मोदी जी पर कारपोरेट घरानों के पैसे से चुनाव लडने का आरोप लगाते रहे।हालांकि जनता ने उनकी एक न सुनी।किंतु अब मोदी सरकार की वृद्धि नीति ने उनके आरोपों को प्रासंगिक बना दिया है।

 विश्वव्यापी मंदी के दौर में भी अर्थव्यवस्था को तटस्थ बनाए रखना, प्राप्रारंभिक शिक्षा को मूलाधिकार में शामिल करना, मनरेगा योजना का आरंभ, सूचना का अधिकार अधिनियम का प्रारंभ, शिक्षा का अधिकार अधिनियम का शुभारंभ तथा खाद्य सुरक्षा विधेयक का लाना, जैसे व्यापक, चिरस्थायी, दूरगामी, ऐतिहासिक और लोकोपयोगी कार्यों के बावजूद मनमोहन सरकार को जनता ने दर बदर कर दिया। मोदी जी को जनता ने अपना जनादेश मंहगाई और भ्रष्टाचार को खत्म करने के लिए ही दिया था।उम्मीद नहीं थी कि मोदी जी जनता का भरोसा इतनी जल्दी तोड देंगे।वे मंहगाई के लिए रासायनिक से लेकर जैविक उर्वरक तक का काम कर रहे हैं।

 जहाँ तक भ्रष्टाचार का सवाल है तो अरविंद केजरीवाल और राहुल गांधी के आरोपों को आगे बढाते हुए राजनीतिक विश्लेषक अभय कुमार दूबे ने संभावना जताया है कि-“श्री मोदी के चुनाव कैंपेन में 2000 करोड रुपये खर्च हुए होंगे।यह पैपैसा जिस जिस ने दिया है वह सूद समेत वापस लेगा।इस स्थिति में मोदी सरकार घोटालों के सारे रिकॉर्ड तोड देगी और महंगाई आसमान छूने लगेगी।”

लिफाफा देखकर तो मजमून का पता चल ही रहा है । अगर यही हाल रहा तो युगपुरुष के रुप में अवतरित नरेन्द्र मोदी जी “धूर्त्तपुरुष” के रुप में याद किए जाएंगे।

yahiya

…………याहिन सिद्दकी अपने फेसबुक वाल पर

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

पांच जजों की बेंच करेगी सीता सोरेन मामले की सुनवाई
आलोक जी, भड़वे और दलाल हैं हम पत्रकार !
गौ-मांस खाने को लेकर बेलगाम हुए मोदी के किरण-अब्बास !
पश्चिम बंगाल में सेना तैनात, भड़कीं ममता, कहा- आपातकाल
आखिर रघुवर दास महेन्द्र सिंह धौनी से इतने चिढ़ते क्यों है?
दैनिक भास्कर है या ठग, कूपन प्रतियोगिता ईनाम के नाम पर यूं की बड़ा ठगी
....और इस मनगढ़ंत बड़ी खबर से पटना की मीडिया की विश्वसनीयता हो गई तार-तार
अपनी हक हकूक के लिये 'हिलसा आंचलिक पत्रकार' का गठन
‘मधु कोड़ा लूट राज’ के हवाला कारोबारी को कोर्ट ने दिलाई चप्पल
रामेश्वर उरांव जी, कहां गए 75 लाख के पोस्टल आर्डर
गेहूँ उत्पादन के लिए बिहार को मिला कृषि कर्मण पुरस्कार
सोशल मीडिया को भी प्रेस परिषद दायरे में लाना चाहिएः अध्यक्ष न्यायमूर्ति सी.के. प्रसाद
ट्रंप ने पत्रकारों को बताया बेईमान और धूर्त
भाजपा के एजेंडे पर काम कर रहे थे मांझी : नीतिश
फेसबुक की डगर पे ऐसे चलें संभल-संभल के
देश में जल्द शुरु होगी ई-वारंटी :रामविलास पासवान
800 अखबारों को अब नहीं मिलेंगे सरकारी विज्ञापन, 270 पर FIR दर्ज
भारतीय राजनीति में वंशवाद के टॉप10 नये पौध
बिहार चुनाव के एग्जिट पोल के नतीजे गलत साबित होने पर NDTV के चेयरमैन ने मांगी माफी
अमिताभ,रजनीकांत,श्याम बेनेगल जैसों पर भारी गजेंद्र चौहान?
मंगनीलाल मंडल पर कार्रवाई, रामविलास पर क्यों नही !
आग की खबर कवरेज के दौरान पत्रकारों से मारपीट, जान से मारने की धमकी
एडीजी अनुराग गुप्ता के खिलाफ हेमंत सोरेन ने की एसटीएसी थाना में मुकदमा
आखिर शाहिद अली खां से कौन सी दुश्मनी चुकाई गई ?
भगवान बिरसा जैविक उद्दान में लूट का आलमः खा गए मछली , डकार लिए घर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...