धारा 377 को लेकर कोर्ट के निशाने पर आमिर खान !

Share Button

टीवी शो ‘सत्यमेव जयते’ में समलैंगिकता को बढ़ावा देने के कथित आरोप में यहां की एक कोर्ट ने शो के होस्ट व अभिनेता आमिर खान को नोटिस जारी किया है।

amir_news

कोर्ट ने आमिर से 19 दिसंबर तक जवाब मांगा है। वकील मनदीप कौर की याचिका पर सिविल जज जसविंदर सिंह ने आमिर को नोटिस भेजा।

याचिका में कौर ने आरोप लगाया कि आमिर ने समलैंगिकता पर सुप्रीम कोर्ट के आदेश का उल्लंघन किया और अपने शो में समलैंगिकता को बढावा दिया।

उन्होंने कहा, ’19 अक्टूबर को आमिर का शो एक निजी चैनल पर प्रसारित हुआ था। इसमें उन्होंने किन्नर व समलैंगिकों के रहन-सहन व अधिकारों पर चर्चा की थी।

सुप्रीम कोर्ट पहले ही समलैंगिकता को गैर कानूनी ठहरा चुका है।’

कौर का आरोप है कि आमिर ने शो में धारा 377 में संशोधन के लिए लोगों से वोट देने को कहा था। इस धारा के तहत समलैंगिकता गैरकानूनी है।

उन्होंने कहा कि आमिर ने अपने शो में आईपीसी की धारा 377 का प्रचार समलैंगिकों के अधिकारों के पक्ष में करने के लिए किया, जो कानून के खिलाफ है। अपने शो में उन्होंने अपराध को बढ़ावा दिया है।

कौर ने कहा कि उन्होंने आमिर को शो के प्रसारण वाले दिन ही कानूनी नोटिस जारी कर 24 घंटे के भीतर बिना शर्त माफी मांगने को कहा था, जिसका उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया था। 

Share Button

Relate Newss:

सीएम रघुबर दास की इस हरकत पर कानून के साथ मीडिया भी नंगी
6 जुलाई खत्म, राजगीर मलमास मेला सैरात की अतिक्रमण भूमि पर चलेगा बुल्डोजर
पत्रकारिता का यह कैसा वीभत्स चेहरा !
सुदेश महतो ने कैसे हासिल की NOU से एमए की डिग्री ?
इंडिया टीवी की यह कौन सी जर्नलिज्म है अमित शाह जी ?
पत्रकार पुत्र की निर्मम हत्या की कड़ी निंदा, डीजीपी गंभीर, भेजी उच्चस्तरीय जांच टीम
यह है पीएम मोदी को 55 करोड़ रिश्वत देने की संपूर्ण कथा !
रांची वुमेंस कॉलेज के प्राचार्या ने Z News के लाइव रिपोर्टर से माइक छीनी
भारतीय मंदिर, जो कभी दिखता है तो कभी गायब हो जाता है
सुलभ इंटरनेशल ने मिथिला पत्रकार समूह को दिया दस लाख का अनुदान
अंधविश्वास में फंसे नाग ‘देवता’ !
'वेब जर्नलिज्म' से अखबारों तथा मठाधीश पत्रकारों को खतरा
'गोरा katora' नहीं हुजूर, लोग कहते हैं 'घोड़ा कटोरा'
लालू ने पोस्ट की रैली पूर्व की यूं रंगारंग वीडियो, कहा- इनको शर्म नहीं आती
राजगीर मलमास मेला सैरात भूमि को अतिक्रमण मुक्त करने के आदेश से दौड़ी खुशी की लहर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...