धर्म-इतिहास के इन घटनाओं में छुपी है आतिशबाजी का राज !

Share Button

mtiकहा जाता है कि दीपावली के दिन भगवान विष्णु ने राजा बलि को पाताल लोक का स्वामी बनाया था और इन्द्र ने स्वर्ग को सुरक्षित जानकर प्रसन्नतापूर्वक दीपावली मनाई थी।

इसी दिन समुद्र मंथन के समय क्षीरसागर से लक्ष्मीजी प्रकट हुई थीं और भगवान विष्णु को अपना पति स्वीकार किया था।

इस दिन जब श्री रामचंद्र लंका से वापस आए तो उनका राज्यारोहण किया गया था। इस ख़ुशी में अयोध्यावासियों ने घरों में दीपक जलाए थे।

इसी समय कृषकों के घर में नवीन अन्न आते हैं, जिसकी ख़ुशी में दीपक जलाए जाते हैं।

इसी दिन गुप्तवंशीय राजा चंद्रगुप्त विक्रमादित्य ने अपने ‘विक्रम संवत’ की स्थापना की थीं।

धर्म, गणित तथा ज्योतिष के दिग्गज विद्वानों को आमन्त्रित कर यह मुहूर्त निकलवाया कि नया संवत चैत्र शुक्ल प्रतिपदा से मनाया जाए।

इसी दिन आर्यसमाज के संस्थापक महर्षि दयानंद सरस्वती का निर्वाण हुआ था।

mti1सावधानियां-  पटाखों के साथ खिलवाड़ न करें। उचित दूरी से पटाखे चलाएँ। सावधान और सजग रहें। असावधानी और लापरवाही से मनुष्य बहुत कुछ खो बैठता है।

 इस त्योहार का आनंद, ख़ुशी और उत्साह बनाये रखने के लिए सावधानीपूर्वक रहें।

मिठाइयों और पकवानों की शुद्धता, पवित्रता का ध्यान रखें।

भारतीय संस्कृति के अनुसार आदर्शों व सादगी से मनायें। पाश्चात्य जगत का अंधानुकरण ना करें।

पटाखे घर से दूर चलायें और आस-पास के लोगों की असुविधा के प्रति सजग रहें।

स्वच्छ्ता और पर्यावरण का ध्यान रखें।

पटाखों से बच्चों को उचित दूरी बनाये रखने और सावधानियों को प्रयोग करने का सहज ज्ञान दें।

Share Button

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...