दैनिक हिन्दुस्तान विज्ञापन घोटाले में गिरफ्तार हो सकते हैं शशि शेखर समेत शोभना भरतिया

Share Button

सुप्रीम कोर्ट के 11 जुलाई 2018 के आदेश के आलोक में मुंगेर के पुलिस अधीक्षक गौरव मंगला ने दैनिक हिन्दुस्तान के फर्जी संस्करण और 200 करोड़ रुपए के सरकारी विज्ञापन घोटाले की जांच शुरू कर दी है। इसमें शशि शेखर के अलावा अखबार मालकिन शोभना भरतिया, अक्कू श्रीवास्तव, बिनोद बंधु, अमित चोपड़ा भी आरोपी हैं….”

राजनामा.कॉम। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के आने के तुरंत बाद पुलिस अधीक्षक गौरव मंगला ने मुंगेर कोतवाली कांड संख्या-445। 2011 की नामजद अभियुक्त व हिन्दुस्तान मीडिया वेन्चर्स लिमिटेड की चेयरपर्सन शोभना भरतिया और अन्य नामजद अभियुक्तों को अपना पक्ष रखने का निर्देश दिया।

इस बीच, सूचक मन्टू शर्मा ने अपने अधिवक्ता श्रीकृष्ण प्रसाद के साथ लिखित रूप में पुलिस अधीक्षक के समक्ष अपना पक्ष रख दिया है। पुलिस सूत्रों ने बताया कि अभियुक्तों की ओर से भी अपना पक्ष पुलिस अधीक्षक के समक्ष पेश कर दिया गया है।

स्मरणीय है कि सुप्रीम कोर्ट ने 11 जुलाई 2018 के अपने आदेश में मुंगेर कोतवाली कांड संख्या- 445। 2011 में अविलंब जांच पूरा करने का आदेश दिया था।

सुप्रीम कोर्ट में प्रथम नामजद अभियुक्त शोभना भरतिया की ओर से दायर अपील के बाद सभी कानूनी कार्रवाई पर रोक को सुप्रीम कोर्ट ने हटा कर मुंगेर पुलिस को जांच तुरंत पूरा करने का आदेश जारी किया था।

आरोप है कि अभियुक्तों ने वर्ष 2001 के 01 अगस्त से 30 जून, 2011 तक अवैध ढंग से बिना रजिस्ट्रेशन के ही दैनिक हिन्दुस्तान का मुंगेर संस्करण छापा।

पूरे ग्यारह वर्ष तक यह फर्जीवाड़ा चला। इस अवैध एडिशन में केन्द्र सरकार, राज्य सरकार और मुंगेर जिला व पुलिस प्रशासन के दो सौ करोड़ के विज्ञापन छापकर भुगतान भी ले लिया। ये लोग पटना एडिशन के रजिस्ट्रेशन नंबर को ही मुंगेर एडिशन में छापा करते थे।

इस फर्जीवाड़े के खिलाफ कोर्ट में केस किया गया और अब मामला काफी आगे बढ़ चुका है। पुलिस धोखाधड़ी के इस मामले में अभियुक्तों को गिरफ्तार कर जेल भेज सकती है।

Share Button

Relate Newss:

'जेटली-बजट' से चाय बागान श्रमिकों में भारी क्षोभ
पूँजीवादी कारपोरेट मीडिया का राजनीतिक अर्थशास्त्र
अटपटा लग रहा है रांची की ‘लव-जेहाद’ का एंगल !
वाह री मीडिया! खुद की खबर को न छापा और न दिखाया !
महाशपथ के साथ ही राष्ट्रीय फलक पर नीतीश की भूमिका अहम
धनबाद से यूं धराया पत्रकार गौरी लंकेश हत्याकांड का मुख्य साजिशकर्ता
MP सीएम की गुंडागर्दी, वीडियो ब्लॉगर को बिना FIR रात अंधेरे उठवाया
बिल्डर अनिल सिंह का सहयोगी फिल्म पीआरओ रंजन सिन्हा  गिरफ्तार
स्वायतत्ता की बात करने वाले शायद अपरिपक्व हैं !
नहीं रहे वरिष्ठ पत्रकार दिलीप पडगांवकर
2G-4G घोटाला सरीखा है बिहार में ‘बीजेपी ब्लैक लैंड स्कैंडल'
मोदी के सद्भावना मिशन व्रत पर खर्च हुए थे 20 करोड़
अखिलेश सरकार के लिये बड़ी नसीहत यादव सिंह प्रकरण
ई BJP MLA विनय बिहारी की गांधीगिरी है या मीडियाई नौटंकी
दैनिक लोकसत्य को जरूरत है मीडियाकर्मियों की

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...