दैनिक हिन्दुस्तान में एसपी-डीएसपी के तबादले की ‘फेक खबर’ से नालंदा में सनसनी

Share Button

प्रिंट मीडिया पर लोग अधिक भरोसा करते हैं। क्योंकि उसमें आम तौर पर समय की कमी नहीं होती और सूचनाएं काफी ठोक-ठठा के प्रकाशित की जाती है। उसका सूचना-तंत्र भी काफी मजबूत होता है। आज कल तो  प्रायः अखबार जिला स्तर पर संस्करण निकाल रहे हैं और अंचल-थाना स्तर पर एक नहीं, दो-दो तीन-तीन संवाददाता भिड़ाये दिखते हैं। फिर भी खबरों का प्रकाशन ठोक-ठठा के कम और बाजा बजा के अधिक हो रहा है”

राजनामा.कॉम। बिहार से प्रकाशित दैनिक हिन्दुस्तान के बिहारशरीफ संस्करण में एक ऐसी खबर प्रकाशित हुई है, जिसने अहले सुबह समूचे जिले में सनसनी फैला दी है। घर-गांव-गली-मोहल्लों से लेकर चाय-पान के दुकानों तक चर्चाएं हो रही है। प्रतिद्वंदी अन्य मीडिया हाउस से जुड़े संवाददाता भी हैरान-परेशान हैं कि उनसे इतनी अहम खबर कैसे छूट गई।

दैनिक हिंदुस्तान के बिहारशरीफ/ विधि संवाददाता डेटलाइन से “पांच दिनों की हड़ताल पर गए अधिवक्ता” शीर्षक की उप शीर्षक है ‘एसपी व डीएसपी का हुआ तबादला और लहेरी थाना हुये निलंबित’।

इस तरह की सूचना प्रकाशित होने के बाद पुलिस महकमा में भी नीचे से उपर तक हड़कंप मच गया है। हर पुलिस कर्मी एक दूसरे की घंटी बजा सूचना की पुष्टि में जुटे हैं।

राजनामा.कॉम ने इसकी पुष्टि के लिये दैनिक हिन्दुस्तान के बिहारशरीफ कार्यालय से जुड़े प्रभारी संवाददाताओं की घंटी घनघनाने के अथक प्रयास किये, लेकिन सारे के मोबाईल स्वीच ऑफ आ रहे हैं।

 ‘एसपी व डीएसपी का हुआ तबादला और लहेरी थाना हुये निलंबित’ संबंधित सूचना की राजनामा.कॉम द्वारा सभी स्तर पर पड़ताल किये, लेकिन कहीं से इसकी पुष्टि नहीं हो सकी और यह सूचना लेखकीय लापरवाही या कहिये फेक न्यूज साबित हुई है।

बता दें कि हाल के दिनों में दैनिक हिंदुस्तान के बिहारशरीफ कार्यालय द्वारा प्रकाशित खबरों में काफी भ्रामक खबरों काफी बढ़ गई है। अमुमन ऐसी गलतियां प्रायः अखबारों में देखने को मिलती है, लेकिन इस मामले में दैनिक हिन्दुस्तान वाकई नंबर वन साबित है।

इसके पूर्व कुछ दिन पहले यह अखबार ‘एससी-एसटी थाना के थानाध्यक्ष बर्खास्त’ शीर्षक की खबर प्रकाशित कर चुकी है।  अखबार ने इस सूचना की पुष्टि एसपी सुधीर कुमार पोरिका के हवाले से करते हुये लिखा था कि कांडों के अनुसंधान में लापरवाही बरतने पर यह कार्रवाई की गई है।

जबकि सच्चाई यह थी कि बिहारशरीफ एससी-एसटी थानाधयक्ष कपिलदेव पासवान  को तब लाइन हाजिर कर उस थाना की कमान एसआई आलोक रंजन को सौंपी गई थी।  

Share Button

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...