दैनिक हिन्दुस्तान ने किसान का करा दिया हवा में पोस्टमार्टम!

Share Button

आजकल अखबारों में खबर को काफी तत्थहीन तरीके से परोसा जा रहा है। रिपोर्टर तत्थों से अलग खबरों को कल्पना के सहारे लेखन-संप्रेषण कर रहे हैं। उससे एक बड़ा भ्रम का महौल बन रहा है……..”

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क। एक ही भ्रम का महौल नालंदा जिले इस्लामपुर थानान्तर्गत मोहीउद्दीनपुर गांव की घटना को लेकर बन उठा है।

इस गांव के निवासी श्रीराम पासवान के पुत्र परशुराम पासवान की खेत पटवन के दौरान करंट लगने से मौत हो गई। उसके बाद उसके परिजन शव का दाह संस्कार कर दिया।

इधर दैनिक हिन्दुस्तान के बिहार शरीफ संस्करण में अपने इस्लामपुर रिपोर्टर के हवाले से खबर प्रकाशित करते हुए लिखा कि किसान की मौत के बाद ग्रामीण शव को लेकर सड़क किनारे हंगामा करने लगे। वे बिजली विभाग की लापरवाही का आरोप लगाकर मुआवजा की मांग कर रहे थे।

खबर में आगे लिखा है कि थानाध्यक्ष सूचना पाकर दलबल के साथ घटनास्थल पहुंचे और लोगों को नियमानुसार मुआवजा दिलाने का आश्वासन दिया। इसके बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया।

इधर, थानाध्यक्ष शरद कुमार रंजन ने प्रकाशित खबर को बेबुनियाद बताते हुए कहा कि परिजनों ने शव का अंतिम संस्कार कर दिया था। उन्होंने न तो मुआवजा राशि दिलाने की बात कही थी और न हीं शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा था। शव का कहीं पोस्टमार्टम होने का सवाल ही नहीं उठता है।

जब उनसे पूछा गया कि उनके हवाले से इस तरह की सूचना अखबार में कैसे प्रकाशित हो गई। क्या उन्होंने इस तरह के उपजे भ्रम के माहौल को दूर करने की कोशिश की?

इसपर थानाध्यक्ष का कहना है कि अखबार वाले को जो मन करता है, वह छापता है। इसमें वे क्या कर सकते हैं। उन्होंने इस घटना के संबंध में न तो किसी रिपोर्टर को कोई जानकारी दी है और न ही किसी रिपोर्टर ने कोई जानकारी ली है।

Share Button

Relate Newss:

गुमनामी की गर्त में प्रथम महिला केन्द्रीय वित्त राज्य मंत्री के गाँव के टीले की विरासत !
गर्भपात को लेकर पूनम पांडे ने वेबसाइट पर किया सौ करोड़ का मुकदमा
वरिष्ठ पत्रकार कृष्ण बिहारी मिश्र पर FIR को लेकर फेसबुक पर कड़ा विरोध जारी
वीडियो पत्रकारिता के लिए उपयोगी सलाह
'11 जुलाई तक राजगीर मलमास मेला सैरात भूमि से हटायें अतिक्रमण'
एडीएम ने महिला सहायक को फेसबुक-ईमेल से लगातार भेजे अश्लील फोटो, FIR दर्ज
बड़े मियां क्या,छोटे मियां भी सुभान अल्लाह
बाल ठाकरे को आतंकवादी बताने वाले तहलका पर मुकदमा !
बढ़ी एफडीआई से प्रिंट मालिक मायूस, वहीं न्‍यूज ब्रॉडकास्‍टर्स गदगद
संजीत के ऐसी ‘संदिग्ध मौत’ के बाद बाइलाइन छापने वाला दैनिक प्रभात खबर ने नहीं माना पत्रकार
गुजरात की कीमत पर बिहार की जीत नहीं चाहती है आरएसएस! बहाना या सच ?
नारायण-नारायण, कहां हैं हरिनारायण
कोर्ट ने फर्जी खबर छापने के मामले में दैनिक जागरण के मालिक को भेजा जेल
टीवी पर खबर कम तमाशा ज्यादा  :मार्क टुली
मधेपुरा जिले के बिहारीगंज में तनाव, नेट सेवा बंद, धारा 144 लागू

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...