दैनिक हिंदुस्तान के पाकुड़ ब्यूरो चीफ पर एफआईआर, अखबार भी हटाया

Share Button

झारखंड में दैनिक हिन्दुस्तान के पाकुड़  कार्यालय के  ब्यूरो चीफ कार्तिक रजक को एफआईआर दर्ज होने के बाद अखबार ने बाहर का रास्ता दिखा दिया है। थानेदार को 24 घंटे के भीतर हटवा देने की धमकी देने पर हवालात की हवा खाने वाले कार्तिक की जगह धनबाद हिन्दुस्तान कार्यालय में कार्यरत प्रियेश सिन्हा को ब्यूरो चीफ बनाया गया है।” 

राजनामा.कॉम। कार्तिक रजक द्वारा पाकुड़ के मुफ्फसिल थाना प्रभारी संतोष कुमार को मैनेज कर चलने अन्यथा 24 घंटे के भीतर हटवा देने की धमकी देने के बाद मामला तूल पकड़ता गया।

मुफ्फसिल थाना प्रभारी संतोष कुमार ने मामले की शिकायत एसपी से की। इसके बाद कार्तिक रजक के विरूद्ध मुफ्फसिल थाना में भादवि की धारा 384, 385 व 506 के तहत मामला दर्ज कर लिया गया।

27 अप्रैल को कार्तिक रजक जब अपने बच्चों को स्कूल छोड़कर आ रहे थे उसी समय पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया। बाद में वरीय पदाधिकारियों के हस्तक्षेप से कार्तिक को निजी मुचलके पर थाने से ही जमानत पर रिहा कर दिया गया।

वर्ष 2009 में पाकुड़ के तत्कालीन उपायुक्त डा. मनीष रंजन के विरूद्ध गलत खबर प्रकाशित करने पर हिन्दुस्तान के तत्कालीन संपादक को अखबार में माफीनामा छापना पड़ा था।

उस समय भी हिन्दुस्तान प्रबंधन ने कार्तिक को उनके पद से हटा दिया था। इसके बाद वर्ष 2015 में पाकुड़ के ही देवोत्तर भूमि को लेकर एक खबर छापने पर हाई कोर्ट के अधिवक्ता ने नोटिस दे दिया था।

बाद में कार्तिक ने खबर का खंडन  छापा और लिखित माफी मांगी। इस बार की गल्ती के बाद हिन्दुस्तान प्रबंधन ने उन्हें बाहर का रास्ता दिखा दिया।

सुनिये  ऑडियोः दैनिक हिन्दुस्तान के रिपोर्टर कार्तिक रजक ने कैसे एसडीपीओ की मोबाईल से थानेदार संतोष कुमार को दी थी धमकी…. dainik hindustan reporter crime_pakur_audio

Share Button

Relate Newss:

महामहिम का KGBV छात्राओं से आह्वान- स्पोटलेस बनो
पुलिस की सांठ-गांठ से कोसुम्भा NTPC गोदाम में हो रही है करोड़ो की चोरी !
जो जितना बड़ा चोर, उतना बड़ा सीनाजोर
युवा निर्भीक आदिवासी रिपोर्टर अमित तोपनो की हत्या
मराठी समाचार पत्र लोकमत के दफ्तर पर मुस्लिमों का हमला, अखबार की प्रतियां जलाई 
दैनिक खबर मन्त्र कर्मी देवानंद साहू की सड़क दुर्घटना में मौत
मैक्सिको में 43,200 बार रेप की शिकार युवती ने सुनाई दिल दहला देने वाली आपबीती
बिल्डर की दंबगई पर दैनिक भास्कर का "खेला"
200 सीटें जीतने का दावे के साथ बेफिक्र है महागठबंधन
'सांप्रदायिकता' के ज़हर को छोड़कर एकता को गले लगाइए
सरकार, पुरस्कार और घाघ साहित्यकार !
कंप्यूटर क्रांति वनाम कैशलेस इकोनॉमी की बेहतरी
सड़क हादसा नहीं, श्वेताभ सुमन ने कराया हमला !
संकट में सुबोध, नहीं मान रहे युवराज !
जेएनयू में चल रहा है षडयंत्र की पराकाष्ठा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...