दैनिक भास्कर टीम की इस ठगी को लेकर आक्रोश, उठी कार्रवाई की मांग

Share Button

“सबाल उठता है कि एक राष्ट्रीय  व सार्वधिक बिक्री वाला अखबार होने का ढिंढोरा पीटने वाले दैनिक भास्कर की गया जिला भास्कर टीम ने आखिर इतना ड्रामेबाजी क्यों की। इसे भास्कर टीम की मानवीय गलती मानी जाए या फिर मीडिया हाउस द्वारा आए दिए दिन उजागर हो रहे घृणित खेल का नमूना…”

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क।  गया जिले के टर्न कुप्पा निवासी राम प्रीत सिंह ने दैनिक भास्कर में प्रसारित “कूपन काटो 15 करोड़ जीतो” के तहत कूपन को काटकर जमा किया था। उसने स्थानीय रिटेलर को पूरे कूपन को जमा किया था।

इस अखबारी लॉट्ररी का जब ड्रा निकाला गया तो राम प्रीत सिंह को एसयूबी कार फंसा। इसके बाद दैनिक भास्कर के गया कार्यालय के टीम ने फोन करके रामप्रीत सिंह को कहा कि आप प्रतियोगिता में एसयूवी कार जीत लिया है, इसलिए आप खाने पीने की अच्छी व्यवस्था एवं ढोल बाजे के साथ गांव के सभी लोग को बुला कर जमा करें। हम लोग आ रहे हैं।

यह बात सही निकला। दैनिक भास्कर की टीम उक्त गांव में पहुंचकर रामप्रीत सिंह को एसयूवी कार का नमूना दिखाया एवं चाबी सौंपी। जिस पर पूरे ग्रामीण खुशी से झूम उठे और भास्कर टीम के लिए ठोल बाजे के साथ खाने पीने हरसंभव व्यवस्था की।

लेकिन दुर्भाग्य कि दैनिक भास्कर की टीम खा-पीकर के चला गए और बाद में फोन करके इनामी व्यक्ति को बोला कि लकी ड्रॉ में आपकी नहीं बल्कि, ईनाम के तौर पर किसी दूसरे व्यक्ति को कार फंसा है।

अब सबाल उठता है कि एक राष्ट्रीय अखबार का ढिंढोरा पीटने वाले दैनिक भास्कर की गया जिला भास्कर टीम ने आखिर इतना ड्रामेबाजी क्यों की। इसे भास्कर टीम की मानवीय गलती मानी जाए या फिर मीडिया हाउस द्वारा आए दिए दिन उजागर हो रहे घृणित खेल का नमूना।

सारा खर्चा-बर्चा करने के बाद इनामी व्यक्ति ने इतनी बड़ी गलती पर भास्कर टीम कार्यालय से संपर्क किया तो उधर से कहा गया कि “आपको होम थिएटर फंसा है और आप को गलत ढंग से बताया गया कि आपको कार फंसा है, इसलिए आपको होम थिएटर के साथ एक आकर्षक इनाम दिया जाएगा।

लेकिन इस पर इनामी व्यक्ति जब राजी नहीं हुआ तो बाद में गोल मटोल करके कार को किसी अन्य व्यक्ति के पास बेच दिया गया और प्रतियोगिता जीतने वाले व्यक्ति को ठेंगा दिखा दिया गया।

इधर दैनिक भास्कर टीम की इस ठगी के खिलाफ पीड़ित ने कठोरतम कानूनी कार्रवाई की है और शीर्ष प्रबंधन को जो इनामी कार मिला है, उसे तुरंत दिलाने की मांग की है।

 

यह भी पढ़े  बिहारः प्रेस पर इमरजेंसी जैसी सेंसरशिप

 

Share Button

Relate Newss:

जब पत्रकार पर टूटा अखबारों का कहर
प्रिंट मीडिया के लिये यह है आत्म-चिंतन का समय
पीएम मोदी के सामने डरते-कांपते पंजाब केसरी के मालिक!
शराब बंदी के बाद गांजा के धुएं में उड़ता बिहार
रंगदारी मामले में बंद न्यूज़ पोर्टल का संपादक समेत तीन धराये
अर्नब गोस्वामी पर 500 करोड़ के मानहानि का दावा
'मलमास मेला सैरात भूमि को 3 सप्ताह के अंदर अतिक्रमण मुक्त कराएं राजगीर सीओ'
डीएसपी साहेब बताईये, कौन पी गया प्रतिबंधित अंग्रेजी शराब की 24 बोतलें !
कर्नाटक के सीएम सिद्दारमैया ने कमिश्नर को सरेआम चांटा मारा
फिर से लांच होगें ‘द नेशनल हेराल्‍ड’, ‘कौमी आवाज’ और ‘नवजीवन’ अखबार
मुरादाबाद  में जलती चिता से शव के मांस खाते युवक धराया
सेंसरशिप सिर्फ बिहार में ही नहीं हैं काटजू साहब
मराठी समाचार पत्र लोकमत के दफ्तर पर मुस्लिमों का हमला, अखबार की प्रतियां जलाई 
पत्रकार ओम थानवी की मुलाकात में असहिष्णुता को लेकर चिंतित दिखे राष्ट्रपति
'इंडियाज डॉटर' के जबाव में 'युनाइटेड किंग्डम्स डॉटर'

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...