दैनिक भास्कर के बोकारो ब्यूरो चीफ की निर्मम पिटाई के मामले में तीन दारोगा निलंबित

Share Button

bokaro bhaskarबोकारो।  दैनिक भास्कर के बोकारो ब्यूरो प्रमुख संतोष  सिंह के साथ कार्यालय में घुसकर आधा दर्जन पुलिस कर्मियों ने की मारपीट की।  यही नहीं, उन्हें सरेआम मारते-पीटते थाने में ले जाकर बंद कर दिया। इस घटना को लेकर पत्रकारों में काफी रोष है। यह घटना बोकारो के सेक्टर 4 थाना इलाके की है।  बोकारो के मीडिया के इतिहास में पुलिस बर्रबरता की पहली घटना है।

इस घटना की सूचना मिलते ही मामले की गंभीरता को देखते हुये बोकारो पुलिस आईजी के निर्देश पर एसपी ने घटना में शामिल तीनों एएसआई क्रमशः सुनीीलाल मरांडी, दिनेश पाण्डेय और अवधेश कुमार झा को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है।

घटना के संबंध में बताया जाता है कि तीन दिन पहले भास्कर कार्यालय से जेनरेटर की बैटरी चोरी हो गयी थी। ब्यूरो चीफ इसे लेकर सेक्टर-4 थाना में  में एक प्राथमिकी दर्ज करायी थी। इसी सिलसिले में केस के अनुसंधानकर्ता एएसआई शनिवार को अचानक भास्कर दफ्तर पहुँचे और ऑफिस के प्यून से चोरी की जानकारी लेने के क्रम में बकझक करने लगे।

 ब्यूरो चीफ संतोष सिंह ने इसका विरोध दर्ज किया। इसी बात को लेकर केस का आईओ थाना से आधा दर्जन से अधिक पुलिस वालों के साथ वापस लौटा और  संतोष सिंह का कॉलर पकड़ लिया और तीसरे तल्ले पर स्थित उनके कार्यालय से पीटते हुये उन्हें नीचे उतारा। पुलिस वाहन में बैठाकर थाने ले गया। उसके बाद थाने में भी पिटाई की गयी।

बोकारो एसपी ने तीनों एएसआइ  को  निलंबित कर दिया है। तीनो पर बोकारो के दैनिक भाष्कर के पत्रकार संतोष  सिंह को दफ्तर में घुसकर मारपीट करने का आरोप हैं।

Share Button

Relate Newss:

EX MLA ने कोल्हान DIG को सौंपी मुखिया-पत्रकार मामले  की CD
दैनिक जागरण पर चुनाव आयुक्त ने दिया FIR दर्ज करने का निर्देश
अपने ही मांद में हारे Ex.CM मुंडा, मरांडी, कोड़ा और सोरेन !
'मोदी लहर' पर सवार रामकुमार पाहन की खिजरी सीट से रिकार्ड जीत
रूसी कंपनी से भाजपा विधायक मांग रहा रंगदारी, सीएम को लिखा पत्र
जमशेदपुर DPRO ने मीडिया हाउसों और रिपोर्टरों को यूं डराया
पत्रकार बताकर अवैध वसूली करने के आरोप में 4 लोग गए जेल
नं.1 अखबार की नं.1 खबर
रांची मेयर चुनाव में 29 हजार दबे NOTA, आशा लकड़ा विजयी
उपेक्षा के कारण देश में मिट रही है राष्ट्रीय पक्षी मोरों की दुनिया
बिहार में 12 वर्षों तक दैनिक जागरण का अवैध प्रकाशन
कलेक्ट्रिएट में चल रहा एनजीओ परिहार- ‘इट्स हेपेन्ड ओनली इन बिहार’
कितने नैतिक हैं हमारे भारतीय न्यूज़ चैनल
भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय फिर बेलगाम, बिहारी बाबू को बताया कुत्ता
बदलाव की आंधी में उड़े या खुद को नहीं आंक पाये सुदेश ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...