दैनिक जागरणः संपादक ने कहा तलवा चाटनेवाला तो रिपोर्टर ने कहा सबूत दिखाइए !

Share Button

रांची। स्थानीय दैनिक जागरण में इस समय सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है। संपादक किशोर झा और उनके पिछलग्गुओं की मनमानी से रिपोर्टर लोग त्रस्त बताये जाते हैं।

अभी दो दिन पूर्व किशोर झा ने दैनिक जागरण के रिपोर्टर्स के WhatsApp group में एक रिपोर्टर को भ्रष्ट और लोगों के तलवे चाटने वाला कह डाला। संपादक के इस व्यवहार से पूरी जागरण टीम सकते में आ गई।

संबंधित रिपोर्टर को यह बात इतनी नागवार लगी कि वह भी ग्रुप में ही सार्वजनिक रूप से मोर्चा खोलते हुए संपादक से भिड़ गया और संपादक से अपने ऊपर लगाए गए भ्रष्टाचार के सबूत मांगने लगा।

दरअसल हुआ यह कि स्वास्थ्य बीट देखने वाले रिपोर्टर प्रभु नारायण ने सुबह WhatsApp group में यह मैसेज चलाया कि वे स्वास्थ्य मंत्री के कार्यक्रम में जा रहे हैं इसलिए वे सुबह की मीटिंग में नहीं आ पायेंगे। विवाद की शुरुआत यही से हुई।

संपादक ने ग्रुप में ही अपशब्दों का प्रयोग करते हुए रिपोर्टर को डाक्टर (जिनकी क्लीनिक में मंत्री का कार्यक्रम था) से उपकृत होने वाला, चाटुकार और भ्रष्ट तक बता डाला। इस घटना के बाद संपादकीय टीम में भयानक आक्रोश है, जो किसी भी समय अप्रिय रूप ले सकता है।

अखबार के अंदरुनी तौर पर चर्चा है कि संपादक अपने स्वजातीय लोगों को छोड़कर किसी अन्य जाति के सहयोगी को बर्दाश्त नहीं कर पा रहे हैं। उनके आसपास की टीम को देखकर भी इसे समझा जा सकता है। (साभारः भड़ाास4मीडिया)

Share Button

Relate Newss:

एक प्रेम-प्रसंग को लेकर यूं गेम खेल गई पटना-नालंदा की कंकड़बाग-चंडी पुलिस
नहीं रहे वरिष्ठ पत्रकार दिलीप पडगांवकर
PCI के आदेश पर DAVP ने जागरण,टाइम्स ऑफ इंडिया समेत इन 51 अखबारों पर की बड़ी कार्रवाई
जरुरी है पत्रकार वीरेन्द्र मडंल से जुड़े मामलों की उच्चस्तरीय जांच
सन्मार्ग में वापसी के बाद बावरे हो रहे हैं बैजू बाबा
न्यूज़ 18 संवाददाता पर जानलेवा हमला, डीएम से मिले पत्रकार
पुलिस की सांठ-गांठ से कोसुम्भा NTPC गोदाम में हो रही है करोड़ो की चोरी !
रुला जाती है इस रिकार्डधारी राजेन्द्र कुमार साहु की संघर्ष कहानी
कांग्रेस के ‘बुरे फ़ैसले’ अब बीजेपी के ‘कड़े फ़ैसले’!
Hindustan Ad. Scandal: The Registrar orders to list the matter before the court
सांप का खून पीने विदेशी बॉक्सर को घी खाने वाले भारतीय ने धोया
राजनीति के अश्वत्थामा न बन जाएं केजरीवाल
मोदी के अच्छे दिन के इंतजार में कलप रहा है बनारस
मैं ही सबका पूर्वज हूं, मैं आदिवासी हूं।
समलैंगिक विवाह को स्वीकारने वाला पहला देश बना आयरलैंड

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...