देखिये, शाहनवाज जैसे फ्रॉड का डंसा मौत से कैसे जुझ रहा एक पत्रकार

Share Button

“जेजेए यानि झारखंड जर्नलिस्ट एशोसिएशन और उसके स्वंयभू अध्यक्ष यानि शाहनवाज हुसैन। एक ऐसा संगठन और एक ऐसा शख्स, जिसके बारे में समूचे झारखंड से मिल रही सूचनाएं काफी व्यथित करने वाली है।”

राजनामा.कॉम (मुकेश भारतीय)। किसी भी संगठन या उसके स्वंयभूओं को जबरिया  मनमानी, शोषण और दमन करने की छूट नहीं दी जा सकती। खास कर उन्हें जो तत्थों से परे सिर्फ दुष्प्रचार के बल अपना स्वार्थ साधने वालों को तो बिल्कुल नहीं।

शहनवाज के कहने पर कथित जेजेए संगठन के लोगों ने शोसल साइट के कई ग्रुपों पर राजनामा.कॉम और उसके संचालक को लेकर कई तरह की उटपुटांग बातें लिखी गई है। लिखने वाले संदीप बर्नवाल से जब जानकारी चाही कि अपहरण के मुकदमा कहां दर्ज है? इस पर उसने पता कर बताते हैं..कह कर फोन काट दिया। फिर दर्जनों बार फोन करने पर उसने फोन नहीं उठाया। गलत मैसेज वायरल करने वाले दूसरे अजय चौधरी ने बताया कि उसे शहनवाज हुसैन ने जैसा डालने को कहा, उसने बिना पढ़े वैसा ही डाल दिया। इसके ऑडियो रिकार्ड हमारे पास सुरक्षित है। शहनवाज हुसैन को कई बार फोन किया। लेकिन उसने नहीं उठाया। बाद में वाहट्सएप्प पर उसने कोई स्पष्ट जबाव नहीं दिया।

रही बात किसी संगठन से आर्थिक मदद या अन्य सहायता  मांगने की तो कोई यह मुगालता न पाले। मदद की जरुरत उन्हें होती है, जो निकम्मे होते हैं या फिर लाचार। जोकि हम नहीं हैं। शहनवाज जैसे बहरुपिये से कोई क्या खाक मदद की उम्मीद रखेगा। मानसिक तौर पर विकलांग दूसरों में सहारा खोजते हैं। खुद किसी का सहारा नहीं बनते।

इसी बीच कल देर शाम एक ऐसे मामले की जानकारी मिली, जिसने अंदर तक आहत कर डाला है। यह मामला शाहनवाज हुसैन द्वारा रांची से अपना बोरिया-बिस्तर समेट चुके एक न्यूज चैनल के सीनियर रिपोर्टर रहे प्रभात रंजन की है। प्रभात फिलहाल रांची के गुरुनानक अस्पताल में जिंदगी और मौत से जुझ रहा है। वह इस कदर बीमार हैं कि कल उसे लगातार खून चढ़ाया जा रहा है।

उधर उसके पिताजी भी गंभीर रुप से बीमार बताये जा रहे हैं। उनका ईलाज सीएमसी वेल्लौर में हो रहा है। शुक्र मनाईये कि कल एक सज्जन टीवी जर्नलिस्ट ने रांची प्रेस क्लब के व्हाट्सएप्प ग्रुप पर यह सूचना डाली तो उस ग्रुप से जुड़े सदस्य मदद को उमड़ पड़े। वेशक इस ग्रुप की मानवीयता सलामी के पात्र हैं।

बहरहाल, अस्पताल में भर्ती प्रभात रंजन की एक वीडियो प्राप्त हुई है। उस वीडियो को देखने के बाद जेजेए जैसे संगठन और शाहनवाज जैसे फ्रॉड अध्यक्ष की अमानवीयता साफ स्पष्ट होती है।    

देखिये वरीय रिपोर्टर प्रभात रंजन की वीडियो और खुद आंकलन कीजिये कि संगठन की आड़ में मीडिया में लोग कैसे प्रतिभा को कुचल रहे हैं…

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...