…तो इसलिये तनाव और मानसिक पीड़ा में थे कशिश के रिपोर्टर संतोष सिंह

Share Button

पटना (संवाददाता)। बिहार में हालिया चर्चित व कथित निर्भया रेप मामले में रोज नये धुंध नजर आ रहे हैं। लेकिन जिस तरह की सूचनाएं सामने आ रही है, उससे साफ जाहिर होता है कि इसमें एक हाई प्रोफाइल गैंग शामिल हैं, जिसे कोई उघाड़ रहा है तो कोई सील रहा है, उसे ढक रहा है। पुलिस-एसआईटी जांच के बीच मीडिया के तत्थ और सूचनाएं भी खेमों बंटी दिख रही है। मशहुर टीवी जर्नलिस्ट रवीश कुमार के भाई के नाम को लेकर भी लोग सोशल साइट पर आमने सामने हैं।

इन सबों के बीच मामले का ईमानदारी से खुलासा का दावा करने वाले कशिश न्यूज चैनल के रिपोर्टर संतोष सिंह ने अपने फेसबुक वाल की नवीनतम पोस्ट में जो कुछ लिखा है, वह कई सबाल खड़े करते हैं। आखिर एक जर्नलिस्ट को यह सब सोशल साइट पर लिखने की क्या जरुरत आन पड़ी।

संतोष सिंह ने अपनी फेसबुक वाल पोस्ट पर लिखा है कि जिस वजह से मैं पिछले 24 घंटे से तनाव और मानसिक पीड़ा के दौर से गुजर रहा हूं , चलिए अब उसका खुलासा कर ही देते हैं,,निर्भया रेप मामले में कुछ पुलिस अधिकारी मेरे खुलासे से थोड़ा असहज महसूस कर रहे हैं और उन्हें लग रहा है कि कही मेरे खेल का खुलासा ना कर दे,,, वैसे मेरे पास जो साक्ष्य है उसके आधार पर मैंने बहुत कुछ जनता के सामने रख दिया है ,,,
अब तनाव के दूसरे वजह पर आते हैं कल देर रात एक फोन आया फोन करने वाले ने जो जानकारी मुझे दी उसके बाद सच कहिए अभी तक अपने आप को मैं सम्भाल नही पाया हूं जी है उस लड़के ने मुझे बताया कि किशोर कुणाल पूर्व आईपीएस अधिकारी और महावीर मंदिर ट्रस्ट के संस्थापक और राम जन्मभूमि न्यास बोर्ड से भी जुड़े रहे हैं उनका बेटा श्यान कुणाल निखिल प्रियदर्शी का दोस्त है उसके फेसबूक पर जाईए आप को पता चल जायेगा कि पुलिस निखिल पर क्यों हाथ नही डाल रही है ,,
आखिर क्या है उस फेसबूक पर आप भी जाईए लिंक दिया हुआ है,,,जब मैं श्यान कुणाल का फेसबूक खोला तो हैरान रह गया निखिल प्रियदर्शी कि क्यों नही गिरफ्तारी हो रही है या फिर पुलिस 64 दिनों से हाथ पर हाथ डाल करके क्यों निखिल को मदद कर रहा है,,क्यों इस मामले को दूसरी दिशा में मोड़ने कि कोशिश हो रही है इसकी वजह आप समझ जायेगे,,,
श्यान कुणाल का पेज किशोर कुणाल जी के बेटे का ही है ये हम दावे के साथ नही कह सकते हैं क्यों कि फेसबूक पर फर्जी पेज बनते रहें है ,,इसलिए इस फेसबूक का एडविन कौन है ये हम दावे के साथ कहने कि स्थिति में नही है लेकिन इस फेसबूक का अध्ययन करने के बाद आप यह महसूस कर सकते हैं कि निखिल कितना बड़ा कलाकार है बिहार के जितने भी बड़े नामचीन अधिकारी है ,नेता है,व्यापारी है ,,कोरपोरेट घरना है, या फिर संवैधानिक पद पर बैंठा व्यक्ति क्यों ना हो जहां तक आपकी सोच पहुंच सकती है सोचिए उनके किसी ना किसी करीबी रिश्तेदार का निखिल से बहुत ही अच्छा रिश्ता है,,,

श्यान कुणाल को ही देखिए 22 दिसम्बर को निर्भया पटना में निखिल पर रेप का मामला दर्ज करता है और उसी दिन को श्यान कुणाल अपने पोस्ट पर लिखता है निखिल प्रियदर्शी के साथ खड़े रहेगे ,,हां ये पोस्ट उस वक्त डाले गये हैं जिस वक्त मीडिया को भी पता नही था कि निखिल पर रेप का कोई मामला दर्ज हुआ है,,

श्यान कुणाल के इस पेज पर 94 लाइक और 15 प्रतिक्रिया है उन तमाम लाइक करने वाले के पेज पर जाईए साथ ही प्रतिक्रिया देने वाले के पेज पर जाईए मंत्री ,पूर्व मंत्री ब्यूरोक्रेट बिहार के एक से एक नामचीन व्यक्ति का कोई ना कोई करीबी रिश्तेदार इसके साथ खड़ा है ,,,

इस पूरे प्रकरण को करीब से अध्ययन करिएगा तो फिर भारतीय समाज और युवा को लेकर आपकी कई मिथ्या धराशाही हो जायेगा कहां पहुंच गये हैं हम आप सोच नही सकते हैं चरित्र और संस्कार का अब कोई मतलब नही रह गया ,,,,

हमारी युवा पीढी बहुत आगे निकल चुकी है ,,ऐसा नही है कि ये सारे के सारे लफुआ है अवारा है गांव धर की भाषा में,, हो सकता है इसमें से कई आईएस ,,आईपीएस बन कर हमारे सामने दिख जाये,,, चलिए इस बदलते सोच के साथ अपने आपके को ही बदल लिजिए यही बेहतर है,, ऐसे में निर्भया के न्याय कि लड़ाई का क में आप कहां फिट बैंठते हैं सोच लिजिए क्यों कि मेरे पास अब ना तो कोई शब्द बचे हुए हैं और ना ही समझ।

टीवी रिपोर्टर संतोष सिंह ने अपनी फेसबुक पोस्ट में राम जन्मभूमि न्यास बोर्ड से भी जुड़े महावीर मंदिर ट्रस्ट के संस्थापक पूर्व आईपीएस अधिकारी किशोर कुणाल   के बेटा श्यान कुणाल का फेसबुक आईडी लिंक भी शेयर किया है, लेकिन वह लिंक अभी डिएक्टीवेट बता रहा है। हो सकता है कि श्यान कुणाल का यह फर्जी फेसबुक आईडी हो लेकिन, सही आईडी की पहचान हुये वगैर इसे झुठलाया नहीं जा सकता।जोकि एक जांच का विषय है।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...