तालाब में हलचल मचाने का समय

Share Button

रैली से पहले राजनीति हुई।  रैली तो राजनीति के लिए थी ही, सो वहां राजनीति हुई। राज करने वाले ने अपनी प्रजा के लिए न रैली में, न ही रैली के बाद (बम ब्लास्ट में मरने वालों के लिए) राजधर्म अपनाया।

हां , राजनीति धर्म जरूर अपनाया।  भाषण के हर क्लिप पर पूरा होम वर्क किया। हुंकार शब्द के लिए शब्द कोष देखा।

पूरे देश को भाषण के स्क्रिप्ट की खामियों को विस्तार से बताया।  मतलब जम कर फिर राजनीति हुई।  फिर कानून व्यवस्था और लाशों पर राजनीति हुई।

फिर मृतकों से नहीं मिलने पर राजनीति हुई ।  जब मिलने आये तो फिर राजनीति हुई।  ये राजनीति भी  जनता को गोल गोल घुमाने में माहिर है।  सब मछुआरे घात लगा कर तालाब के ऊपर बैठें है। आखिर जनता जायेगी किधर?  कहीं न कहीं तो फंसना ही है । 

वेशक नकारत्मकता, सनसनी, बौखलाहट, बेचैनी देती है। मछलियाँ सोये रहेंगी तो फिर फंसेंगी कैसे ?    जाहिर है कि तालाब में हलचल तो मचानी होगी

Share Button

Relate Newss:

नो टेंशन, राजगीर मलमास मेला एप्प है न
बिहार सरकार के सचिव ने दैनिक जागरण के मुंगेर संस्करण का दिया जांच का आदेश
बिहार विधानसभा चुनाव: मोदी के खिलाफ़ रेफ़रेंडम का खतरा
गया के कोठी थाना प्रभारी की गोली मारकर हत्या
कायर-अपराधी भी सुसाइड बाद अखबार के विज्ञापन में बन गया आदर्श !  
नालंदाः पूजा से पहले मिट्टी में दफन हो गई चार घरों की लक्ष्मी
पत्रकारों ने बांका के डीएम का पुतला फूंका !
डॉ. ऋता शुक्ला, डॉ.महुआ मांजी समेत 14साहित्यकार होंगे सम्मानित
रामेश्वर उरांव जी, कहां गए 75 लाख के पोस्टल आर्डर
भाजपा विधायक झूठा है या विभागीय अभियंता?
बिहार में निष्पक्ष और निर्भीक पत्रकारिता की आवश्यकता : मंत्री प्रेम कुमार
'मलमास मेला सैरात भूमि को 3 सप्ताह के अंदर अतिक्रमण मुक्त कराएं राजगीर सीओ'
देखिए वीडियोः  शराब व शवाब का कैसा स्टडी करने गए थे बिहार के ये माननीय
स्वभिमान रैली में लालू-राबड़ी का पीएम मोदी सीधा निशाना
यही है नीतीश का बिहार और बिहारी प्रेम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...