डायन-बिसाही के आरोप में 4 की हत्या,  कटे सिर लेकर हत्यारे पहुंचे कुचाई थाना

Share Button

झारखंड के सरायकेला जिला के कुचाई थानाक्षेत्र में डायन-बिसाही के आरोप में चार लोगों की हत्या कर दी गई। मृतकों में दो महिला और दो पुरुष शामिल हैं। घटना सोसोकेड़ा गांव की है।

sraikelaआरोपियों ने हत्या के बाद थाने में आत्मसमर्पण कर दिया। इस दौरान आरोपी एक महिला का कटा सिर लेकर थाने पहुंचे थे। आरोपी सगे भाई हैं।

आरोपी श्यामलाल मुंडा के एक साल के बेटे की शनिवार को किसी वजह से मौत हो गई थी। श्यामलाल ने इस मौत की वजह डायन-बिसाही को माना और इसका आरोप अपने पड़ोस में रहने वाली जिंकारू मुंडाईन (70 वर्ष) पर लगाया।

देर रात श्यामलाल अपने भाई रायसिंह मुंडा के साथ उसके घर पहुंचा और धारदार हथियार से जिंकारू का सिर धड़ से अलग कर दिया।

jharkhand-dayan-bisahiबगल में ही सोये जिंकारू के दो बेटे घसिया मुंडा (50 वर्ष) व हागल मुंडा (40 वर्ष) और बेटी सोरू मुंडाईन (55 वर्ष) की भी हत्या कर दी।

इसके बाद सुबह दोनों आरोपी बच्चे का शव और जिंकारू मुंडाईन का सिर लेकर थाने पहुंचे और आत्मसमर्पण किया।

पुलिस का कहना है कि इस घटना को अंधविश्वास की वजह से अंजाम दिया गया है। गांव में जागरुकता की काफी कमी है।

बताते चलें कि इसी साल अगस्त में रांची जिले के मांडर इलाके के कनीजिया गांव में ग्रामीणों ने ‘डायन’ बताकर लाठी-डंडे से पीट कर पांच महिलाओं की हत्या कर दी थी।

Share Button

Relate Newss:

इस तरह बनाए जा रहे हैं रिपोर्टर- पत्रकार
विज्ञान और प्रगति के मार्गदर्शक वैज्ञानिक चंद्रशेखर वेंकट रामन
राजनीतिक प्रदूषण के बावजूद कांग्रेस और भाजपा में ही टक्कर
बिहार में रंग लाई लालू-नीतीश की दोस्ती
लालू के दावत-ए-इफ्तार में रुबरु हुये नीतीश-मांझी
व्यवस्था देने में फेल रहे केजरीवाल
हमारे पूर्व राष्ट्रपति कलाम का शिलांग के अस्पताल में निधन !
प्रबंधन की विशाल असफलता है नोटबंदी :मनमोहन सिंह
एनयूजेआई के झारखंड अध्यक्ष बने बलदेव शर्मा
'ईटीवी' की रिलाचिंग की तैयारी, 'ईटीवी भारत' होगा सेटेलाइट चैनल
प्रभात खबर के खिलाफ बैनर पोस्टर लेकर सड़क पर उतरे  शिक्षक
मोदी मंत्रिमंडलः भाजपा को मलाई, औरों को मिली छाछ
अन्ना- ऋषि को दीनानाथ मंगेशकर पुरस्कार
अर्नब गोस्वामी ने Republic पर ABP के रिपोर्टर जैनेन्द्र को प्राइम टाईम में यूं गुंडा दिखाया
जन भागीदारी के बिना राज्य का विकास असंभवः रघुबर दास

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...