टाटा स्टील के मजदूर से सीएम बने हैं रघुवर दास !

Share Button

raghuwar_cmझारखंड के नए मुख्यमंत्री रघुवर दास ने अपना करियर टाटा स्टील के रोलिंग मिल में मजदूर के रूप में प्रारंभ किया था। बाद में उनकी  छंटनी कर दी गई थी। इसके बाद ही वह राजनीति से जुड़े और आरएसएस की सीढ़ीयां चढ़ते हुए मुख्यमंत्री के पद तक पहुंच गए ।

raghuvarदिवंगत चमन राम के बेटे रघुवर दास का जन्म 3 मई, 1955 को जमशेदपुर में हुआ था, जहां उन्होंने अभावों में अपना बचपन गुजारा। उन्हें बचपन में मजदूरी तक करनी पड़ी।

रघुवर दास राज्य के 10वें मुख्यमंत्री हैं और राज्य बनने के 14 सालों बाद वह पहले गैर-आदिवासी मुख्यमंत्री हैं। 59-वर्षीय रघुवर दास वर्ष 1977 में जनता पार्टी के सदस्य बने। वर्ष 1980 में बीजेपी की स्थापना के साथ ही वह सक्रिय राजनीति में आए।

raghubarउन्होंने वर्ष 1995 में पहली बार जमशेदपुर पूर्व से विधानसभा का चुनाव लड़ा और विधायक बने। तब से लगातार पांचवीं बार उन्होंने इसी क्षेत्र से विधानसभा चुनाव जीता है। तत्कालीन बिहार के जमशेदपुर पूर्व से वर्ष 1995 में उनका टिकट बीजेपी के प्रसिद्ध विचारक गोविंदाचार्य ने तय किया था।

मुख्यमंत्री पद के लिए चुने जाने के बाद उन्होंने पार्टी का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि यह बीजेपी में ही संभव है कि एक मजदूर का मजदूर बेटा इसी पार्टी में मुख्यमंत्री, राष्ट्रपति अथवा प्रधानमंत्री बन सकने की कल्पना कर सकता है।

रघुवर दास 15 नवंबर, 2000 से 17 मार्च, 2003 तक राज्य के श्रम मंत्री रहे, फिर मार्च, 2003 से 14, जुलाई 2004 तक वह भवन निर्माण मंत्री तथा 12 मार्च, 2005 से 14 सितंबर, 2006 तक झारखंड के वित्त, वाणिज्य और नगर विकास मंत्री रहे। इस बीच, जुलाई, 2004 से मई, 2005 तक वह बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष भी रहे और बाद में 19 जनवरी, 2009 से 25 सितंबर, 2010 तक उन्होंने दोबारा यह पद संभाला।

वे  30 दिसंबर, 2009 से 30 मई, 2010 तक झारखंड मुक्ति मोर्चा के साथ बनी बीजेपी की गठबंधन सरकार में उपमुख्यमंत्री, वित्त, वाणिज्य कर, ऊर्जा, नगर विकास, आवास और संसदीय कार्य मंत्री रहे। हाल में 16 अगस्त, 2014 को अमित शाह की अध्यक्षता में बनी टीम में वह बीजेपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाए गए।

रघुवर दास ने अपना करियर टाटा स्टील के रोलिंग मिल में मजदूर के रूप में प्रारंभ किया था और फिर उनकी छंटनी कर दी गई थी। इसके बाद ही वह राजनीति से जुड़े। जमशेदपुर से बीएससी और एलएलबी की पढ़ाई करने वाले दास के परिवार में उनकी पत्नी और उनका पुत्र हैं। उनकी पुत्री की शादी हो चुकी है।

Share Button

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.