टाइम्स नाऊ पर चला एनबीएसए का डंडा, जुर्माना सहित माफी मांगने के आदेश

Share Button

News-Broadcasting-Standards-Authorityटाइम्स नाऊ चैनल पर एनबीएसए यानि न्यूज़ ब्रॉडकास्टिंग स्टैंडर्ड्स अथॉरिटी ने तगड़ा डंडा चलाया है. एनबीएसए ने टाइम्स नाऊ से कहा है कि जज मत बनो, गलती के लिए जुर्माना भरो और सार्वजनिक रूप से माफ़ी मांगो.

एनबीएसए ने इस अंग्रेज़ी समाचार चैनल टाइम्स नाऊ पर पचास हजार रुपये का जुर्माना भी ठोंका है.

साथ ही सार्वजनिक यानि ऑन एयर माफी मांगने को कहा है. पूरा मामला पिछले साल अगस्त का है. चैनल ने एक कथित शोहदे का साक्षात्कार दिखाते हुए उसे अपनी तरफ से दोषी करार दिया था.

अथॉरिटी के अध्यक्ष न्यायमूर्ति आर.वी. रवींद्रन द्वारा जारी एक विस्तृत आदेश में कहा गया है कि एनबीएसए ने टाइम्स नाऊ द्वारा 24 अगस्त 2015 को चलाई गई उस खबर के खिलाफ दर्ज शिकायत पर संज्ञान लेते हुए यह आदेश दिया है, जो दिल्ली में छेड़छाड़ की एक घटना से संबंधित थी.

शिकायत यह थी कि चैनल के रिपोर्टर ने कथित छेड़छाड़ के आरोपी का पीछा करते हुए उसका साक्षात्कार लिया जो कि ”आक्रामक, धमकी भरे और धौंस भरे अंदाज़ में था और इसका प्रसारण करते हुए चलाई गई टैगलाइन में आरोपी को दोषी बताया था.”

शिकायतकर्ता और चैनल के नुमाइंदों की दलीलें विस्तार से सुनने के बाद एनबीएसए ने अपना आदेश दिया जिसमें उसने कहा कि महिलाओं की सुरक्षा एक अहम मुद्दा है लेकिन मीडिया में निष्पक्ष सुनवाई और बरताव का अधिकार भी एक व्यक्ति के लिए गंभीर मसला है.

अथॉरिटी ने कहा, ”प्रसारक किसी आरोपी को अपराध का दोषी नहीं बता सकते जब मामले की जांच जारी हो या फिर अदालत को अब भी उसके दोष पर फैसला लेना बाकी हो.”

आदेश कहता है, ”मीडिया की मंशा चाहे कितनी ही प्रामाणिक क्यों न हो, वह किसी अदालत या जांच के समक्ष लंबित किसी मामले में जज, जूरी, वकील या जांचकर्ता की भूमिका नहीं अपना सकता. यह बात ध्यान में रखी जानी चाहिए कि मीडिया के लगातार प्रचार के चलते एक बार किसी व्यक्ति की इज्ज़त चली गई तो वह दोबारा वापस नहीं आ सकती.”

अथॉरिटी ने 22 मार्च को 9 बजे के प्राइम टाइम से ठीक पहले  पूरे परदे पर लिखित रूप में बड़े अक्षरों में माफी मांगने का आदेश दिया है जिसे साफ़ आवाज़ में पढ़कर सुनाया जाए और जिसमें यह स्वीकार किया जाए कि चैनल एनबीएसए के प्रसारण मानकों और आदर्श संहिता का अनुपालन करने में नाकाम रहा है.

अथॉरिटी ने चैनल से उक्त वीडियो को चैनल की वेबसाइट से हटाने का भी आदेश दिया है.

Share Button

Relate Newss:

सीएम रघुबर और मंत्री सरयू के झंझट में पिट गए जमशेदपुर के पत्रकार !
....तो मोदी के बाप भी नहीं दिला पाते बहुमतः शिवसेना
पीएम को विज्ञापन बनाने वाले जिओ पर महज 500 जुर्माना !
हाय री नालंदा की मीडिया, भ्रष्ट्राचार के विस्फोटक न्यूज को यूं पचा गये!
बिहार के नवादा में पत्रकार के भाई की पीट-पीटकर निर्मम हत्या
अर्जुन मुंडा झूठे हैं या दर्जनों फेसबुक प्रोफाइल-पेज ?
शर्मसार नालंदा, गुरु'घंटाल' लोग डकार गये बच्चों का निवाला
सोशल मीडिया के सहारे तेजस्वी का भाजपा पर करारा हमला
द नेशनल फाउंडेशन फॉर इंडिया की मीडिया फेलोशिप का डेडलाइन 30 दिसंबर
कोई नहीं ले रहा ललमटिया कोल खदान के विस्थापितों की सुध !
दैनिक जागरण के प्रतिनिधि की गोली मार कर हत्या, सगा भाई भी जख्मी
सिर्फ गुटबाजी के बल प्रेस क्लब रांची को कब्जाने की होड़ में मीडिया मठाधीश
रेंगने को मजबूर क्यों हुआ एन डी टीवी ?
पद्मश्री बलबीर दत्त आज की पत्रकारिता में अप्रासंगिक क्यों?
सुप्रीम कोर्ट ने मजीठिया बोर्ड के फ़ैसले को सही ठहराया, अखबार मालिकों को झटका

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...