इन भ्रष्ट IAS अफसरों पर कार्रवाई की फाइल विभाग से गायब !

Share Button

झारखंड की भ्रष्ट व्यवस्था का कोई सानी नहीं है। सच पुछिए तो इसकी जड़ में नौकरशाहों की बोलती तूती है। इनका कहीं कोई कुछ नहीं बिगाड़ पाता है। इन पर भूले-भटके कोई कार्रवाई की बात उठती भी है तो वे अपनी हर साक्ष्य को गायब करवा डालने का मादा रखते हैं।

crupptionकहते हैं कि अक्टूबर,2011 में सीएमओ यानि मुख्यमंत्री कार्यालय के निर्देश पर कार्मिक विभाग ने राज्य के 13 आईएएस अफसरों पर सीधी कार्रवाई करने की बात की। लेकिन तब इनसे संबंधित फाइल गुम होने के कारण कोई कार्रवाई नहीं हो सकी।

उसके बाद सीएम सेक्रेटरी ने उन दबी फाईलों को खोजने का निर्देश कार्मिक विभाग को दिया। लेकिन आज तक न तो संबंधित फाइल ही मिल सकी है और न ही गंभीर मामलों के आरोपी उन 13  आईएएस अफसरों पर कोई कार्रवाई  ही हो सकी है।

राज्य कार्मिक विभाग में जिन  13 आईएएस अफसरों के काले कारनामों की फाईल गुम बताई जा  रही है, वे हैं ……

1. आलोक गोयलः  इन्होंने टाउन हॉल के निर्माण में व्यापक पैमाने पर  गड़बड़ी की और उससे जुड़े कागजात को नष्ट कर दिए।

2. भगवान प्रसादः  इन्होंने विभागीय स्तर पर अनियमित ढंग से रखे गए अवैध कर्मचारियों की सेवा नियमित की और खूब माल बटोरे।

3. सुधीर प्रसादः  ये चर्चित अधिकारी एक बड़े भूमि घोटाले में संलिप्त हैं।

4. ए.के. पाण्डेयः  इन्होनें राशन कार्ड की छपाई में जमकर गड़बड़ी की है।

5. डॉ. प्रदीप कुमारः ये झारखंड राज्य में हुए करोड़ों के दवा घोटाला में शामिल रहे हैं।

6.  विष्णु कुमारः  इन्होंने चुनाव के दौरान खास उम्मीदवारों के पक्ष में काम किया है।

7. पूजा सिंघलः  इन्होंने अपने कार्य से निलंबित कनीय अभियंताओं के नाम करोड़ों रुपए की राशि का भुगतान अग्रिम कर दिया।

8. अरुण सिंहः  इन्होंने पर्यटन के लिए फिल्म बनाने के नाम पर अनियमियता बरती।

9. बी. के. त्रिपाठीः इन्होंने स्वर्णरेखा परियोजना में जमीन डायवर्शन घोटाला किया।

10. मनीष रंजनः  इन्होंने पाकुड़ में डीसी रहने के दौरान वित्तीय अनियमियता के रिकार्ड बना डाले।

11. संपत सिंह मीणाः  इनके खिलाफ स्थानीय स्तर पर कामकाज में खूब गड़बड़ी की  है।

12. के. के. खण्डेवालः इन्होंने चुनाव आयोग के अनुसार चुनाव के दौरान गड़बड़़ी की है।

13. मस्त राम मीणाः इन्होंने साहेबगंज जिले के डीसी पद पर रहने के दौरान मुख्यमंत्री कन्या दान योजना की सामग्री खरीद में घोटाला किया है।

……….इन्द्रदेव लाल की रिपोर्ट

 

Share Button

Relate Newss:

यशवंत ने अपनाया केजरीवाल स्टाइल, गये जेल
मीडिया मालिकों के कालाधन पर क्यों नहीं पड़ा छापा : आलोक मेहता  
युवा पत्रकार मनोज सिंह ने लिखा- मीडिया में 'तल्लूचट्टू' भी एक बीट है!
33 साल बाद अमिताभ ने रेखा को किया नमस्कार
टीएन शेषण के निधन की उड़ी अफवाह, 2 केन्द्रीय मंत्री ने दे डाली श्रद्धांजलि  
सेना की मनमानी से त्रस्त ग्रामीणों की सीएम से गुहार
बिहार डीजीपी से सीधी बात के बाद पीड़ित पत्रकार ने यूं तोड़ा आमरण अनशन
चंडी पुलिस के निकम्मेपन खिलाफ उच्चस्तरीय जांच की जरुरत
मोदी की हिदायत के बाबजूद बेलगाम है साक्षी महाराज !
कोल ब्लॉक घोटाला: जिंदल व कोड़ा समेत सबको जमानत !
जागरण.कॉम के संपादक शेखर त्रिपाठी को मिली जमानत
जेयूजे प्रदेश अध्यक्ष रजत गुप्ता का आह्वान- रांची चलो
सड़क हादसे का शिकार हुआ आंचलिक पत्रकार, हालत गंभीर, रेफर
चैनल खोल पत्रकारों को यूं चूना लगा फरार हुआ JJA का चर्चित अध्यक्ष
''मत भूल मोदी मैं सूर्यपुत्री तापी हूं . . . . .! ''

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...