झारखंड के महामहिम को दुःखी कर गई स्कूल गेट पर बजबजाती नाली

Share Button

मुकेश भारतीय

ओरमांझी कस्तूरबा गांधी बालिका आवासीय विद्यालय चकला मिडिल स्कूल परिसर स्थित बीआरसी भवन में संचालित है। इस परिसर में प्राईमरी स्कूल, आंगनबाड़ी केन्द्र के आलावे प्रखंड शिक्षा प्रसार पदाधिकारी का कार्यालय, बीआरसी कार्यालय भी है। फिर भी पिछले पांच वर्षों से एक गंभीर समस्या को लेकर न तो किसी अधिकारी और न ही किसी जनप्रतिनिधि ने कोई रुचि दिखाई है।

वह गंभीर समस्या है परिसर के गेट पर असहनीय बदबू फैलाती बजबजाती नाली का जमा पानी। एक दशक पूर्व बनी यह नाली भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गई। इसकी कभी किसी ने कोई सफाई भी नहीं करवाई। बरसात के दिनों में नाली का पूरा पानी समूचे स्कूल परिसर में फैल जाता है।

कड़वी सच्चाई की बात करें तो इस नाली में ग्राम प्रधान सह प्रखंड बीस सूत्री अध्यक्ष, मुखिया, पूर्व मुखिया, वार्ड सदस्य और माननीय सांसद महोदय के घरों के गंदा पानी भी इसी नाली में बहता है।

बहरहाल महामहिम के आने के ठीक पहले ओरमांझी प्रखंड विकास पदाधिकारी मुकेश कुमार इस नाली को प्लास्टिक से ढंकवाते नजर आये ताकि, महामहिम की नजर उस पर न पड़े। लेकिन अपने कार्यक्रम की समाप्ति के बाद वह अपने वाहन से ज्योंही गेट पर पहुंची, वे उसे देख काफी दुःखी नजर आई। स्कूल परिसर की दीवार के किनारे बजबजाती नाली को गाड़ी से ही घूम कर बड़े गौर से देखते नजर आये। उनके चेहरे पर उभरे शिकन उनके अंदर की कचोट को साफ स्पष्ट कर रही थी।

Share Button

Relate Newss:

इन बागड़-बिल्लों के खिलाफ झारखंड निगरानी विभाग सुस्त !
प्रेस क्लब की सदस्यता में धांधली के बीच विजय पाठक को लेकर उभरे तत्थ
शहरी 4,400 रु. तो ग्रामीण 2,900 रु. देते हैं हर साल रिश्वत!
तब राजस्थान को गुजरात बनने से रोक पाना मुश्किल होगा
चुप्पी तोड़िये प्रधानमंत्री जी !
धाराशाही होते मीडियाई सैनिक
प्लास्टिक के तिरंगे का उपयोग पर होगी तीन साल की कैद !
SC द्वारा रद्द IT एक्ट की धारा 66 A की आड़ में पुलिस-प्रशासन कर रहा गुंडागर्दी
बाड़मेर के कथित भाजपाईयों के खिलाफ रिपोर्टिंग की सजा पटना में मिली
खुदकुशी नहीं, मीडिया और राजनीति का भद्दा मजाक !
डीडी पटना के पहले समाचार संपादक एम ज़ेड अहमद सम्मानित
पहले डॉक्टर ने लूटा, फिर भगताईन ने ली एक विधवा आदिवासी की बिटिया की जान
ईटीवी(न्यूज़18) पत्रकार मनोज के बचाव में यूं उतरे करीबी लोग
IANS न्यूज एजेंसी  ने जारी न्यूज में नरेंद्र मोदी को ‘बकचोद’ लिखा, गई कइयों की नौकरी
बिहार डीजीपी से सीधी बात के बाद पीड़ित पत्रकार ने यूं तोड़ा आमरण अनशन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...