जो हुकुम सरकारी, वही पके तरकारी !

Share Button
Read Time:6 Minute, 12 Second

तब नीतीश जी ने लालू प्रसाद से अलग होकर नई नई समता पार्टी बनाई थी। नवभारत टाइम्स पटना में संपादक के पद पर एक व्यक्ति आ गए थे, नाम ….। उन्होंने मुझे प्रादेशिक से हटा कर सिटी पेज का जिम्मा दे दिया। विधान सभा चुनाव प्रचार का मौसम था और संपादक अक्सर लालू आवास में हाजिर रहते।

pressन्यूज एडिटर महेश खरे ने निर्देश दिया कि समता पार्टी के चुनाव प्रचार से जुडी कोई खबर नहीं छपनी है। मैंने पूछा कि चुनाव प्रचार सबका छपेगा तो समता पार्टी का क्यों नही? उन्होंने जवाब दिया – हम संपादक के लिए ही अख़बार निकालते हैं, उनका जो निर्देश होगा वही छपेगा। समता पार्टी या नितीश का कुछ नहीं छापना है – ये आदेश है। मैंने कहा – आदेश बहुत महत्वपूर्ण है, आप लिख कर दीजिये तो मैं मानूंगा अन्यथा नहीं।

खरे साहब नाराज हो गए. बोले, मैंने आपको बता दिया अब आपको लागू करना है। मैंने कहा, मैंने भी अपनी आपत्ति बता दी, लिख कर दीजिये , तभी मानूंगा, जबानी नहीं।

मैंने अन्य पार्टियों के साथ समता पार्टी के चुनाव प्रचार की भी ख़बरें छाप दीं। अगले दिन महेश खरे ने कहा क्यों पंगा लेते हो यार? अख़बार संपादक का होता है। हम लोग कर्मचारी हैं। जो हुकुम सरकारी, वही पके तरकारी।’

मैंने कहा संपादक से कहिये वे लिख कर दे दें कि समता पार्टी और नितीश की कोई खबर नहीं छपेगी।

शाम को जब चुनाव प्रचार की ख़बरों का राउंड अप इंद्रजीत सिंह ने मुझे दिया तो उसमे जहाँ जहाँ समता पार्टी का जिक्र था, वह सब किसी ने पेन से काट रखा था। मैंने उस दिन किसी भी पार्टी के चुनाव प्रचार की कोई खबर नहीं लगाई।

सुबह खरे साहब फिर संपादक से कुछ चिरैता सुन कर आये और मुझसे पूछा कि चुनाव प्रचार पीक पर है और आज आपने इसकी कोई खबर नहीं लगाई? मैंने जवाब दिया, किसी ने राउंड अप में पेन लगा कर जहाँ तहाँ काट कूट कर दिया था और अपने दस्तखत भी नहीं किये थे, कापी की सैंक्टिटी संदिग्ध थी, इसलिए नहीं छापा।

खरे जी सर धुनते बोले, मैं बीच में पिस रहा हूँ। ऐसा मत करो भाई। राउंड अप विश्वपति बनाते थे। शाम को वो मेरे कान में फुसफुसा कर बोले – ‘आज संपदकवा हमको बुला के बोला है कि समता पार्टी पर कुछ लिखना ही नहीं है। हम तो लिख नहीं सकेंगे। अब आप क्या करेंगे?’ उनकी नौकरी नियमित नहीं थी।

अगले दिन फिर किसी भी पार्टी के चुनाव प्रचार की एक लाइन भी नहीं छपी थी। उस दिन संपादक ने खरे साहब की पूरी क्लास ली होगी। एकदम बिफरे हुए आये – ‘गुंजन जी आज चार दिनों से चुनाव प्रचार की एक भी खबर सिटी पेज पर नहीं छप रही है। आज क्या बात हो गई कि आपने कुछ नहीं छापा?

मैंने कहा आज सिटी पेज पर विज्ञापन ज्यादा था। खरे बोले – तो आपको वही एक खबर हटाने लायक मिली ?

मैंने कहा जीहां, वही सबसे डिस्बैलेंस्ड खबर थी। और ये मैं लिखित दे दूँ ?’

खरे बोले, ‘संपादक कह रहे थे, मैंने गुंजन जी का क्या बिगाड़ा है? वो क्यों ऐसे कर रहे हैं?’

मैंने कहा, उनसे कहिये मुझे सिटी पेज से हटा दें, मेरा नीतीश कुमार या समता पार्टी से कोई लेना देना नहीं है लेकिन वह बिहार चुनाव में एक महत्वपूर्ण फैक्टर है। वे इस तरह पक्षपात करके ब्लैक आउट वाला काम मुझ से नहीं करा सकेंगे और उनका निर्देश नहीं मानने के लिए मेरे पास हर दिन कोई नया कारण रहेगा।

शायद संपादक मेरी जिद्द तोड़ने पर अड़े थे। शाम को उन्होंने खरे साहब से एक फोटो के साथ एक रिपोर्ट भिजवाई जिस पर पेज ३ पर ‘मस्ट’ लिख कर संपादक ने दस्तखत कर दिए थे। मतलब था कि वो मुझे छापना ही है। चुनाव प्रचार की कोई खबर मुझे नहीं दी गई. जो मस्ट दिया गया था, उसमे लालू प्रसाद शीतलहर में अपने बंगले के लान में आग सेकने का मजा ले रहे थे।

खबर ज्यों की त्यों लगानी थी, एडिट की हुई थी। मैं सिर्फ इंट्रो और हेडिंग लगा सकता था या कुछ उसके अलावा अलग लिख सकता था।

उसी दिन ठण्ड से बचने के लिए एक रिक्शावाला कमीज पर गंजी पहने मिला था। मैंने उसकी दयनीय स्ट्रैटेजी की खबर लिखी और हेडिंग लगाईं कि ‘कहीं कमीज पर गंजी, कहीं एयरकंडीशनर पर अलाव!’

– आप अंदाज लगा सकते हैं कि लालू जी को अपना अखबार दिखाने को बेचैन संपादक पर क्या बीती होगी।

ये सब कहने का मतलब ये है कि गलत का विरोध जितना बन पड़े, जैसे बन पड़े करते चलिए, कर सकते हैं। बाद में याद करने में अच्छा लगेगा।

gunjan...वरिष्ठ पत्रकार गुंजन सिन्हा अपने फेसबुक  वाल पर।

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

बीफ विवाद के बीच हरियाणा के सरकारी पत्रिका का संपादक बर्खास्त
हिन्दुत्व की आड़ में धंधेबाजी करने वाले सुदर्शन न्यूज चैनल को राज्यसभा की नोटिस
आज 31 मई को काला दिवस मना रहे हैं हम !
वायरल ऑडियो से उभरे सबालः कौन है मुन्ना मल्लिक? कौन है साहब? राजगीर MLA की क्या है बिसात?
बिहार में निष्पक्ष और निर्भीक पत्रकारिता की आवश्यकता : मंत्री प्रेम कुमार
लालू-नीतीश के लिए दो क्विंटल की माला तैयार करने का ऑर्डर
यह रही मोदी सरकार की वेबसाइट विज्ञापन नीति
पत्रकारिता को कलंकित करता पत्रकार !
जश्न मनाइये, रघुवर सरकार का हिस्सा हो गया प्रेस क्लब रांची
भूत मेला रोकने गई पुलिस के साथ झड़प में एक की मौत !
'महाभारत': नीतीश 'अर्जुन' और शरद बने 'कृष्ण'
कल वो चकला-बेलन भी ले गये तो ?
आइएएनएस के ब्यूरो प्रमुख का गोरखधंधा, बीबी के नाम पर लूट रहा है झारखंड आइपीआरडी
प्रधानमंत्री जी के नाम एक दुखियारी भैंस का खुला ख़त
अब्दुल हामिद ने इंटिग्रेटेड फार्मिंग के जरिए बदली गांव की सूरत
इधर आमरण अनशन पर बैठे पत्रकार की हालत बिगड़ी, उधर राजनीति करने में जुटी पुलिस-संगठन
है कोई इनकी सुध लेने वाला .......
भोपाल मुठभेड़ की जांच से शिवराज सरकार का साफ इन्कार
'द इकोनॉमिस्ट' ने लिखा- 'वन मैन बैंड' हैं मोदी !
पत्रकार सुरक्षा कानून एवं आवास योजना की आवाज लोकसभा में उठायेंगे गिलुवा
स्वतंत्र लेखक मंच का 27 वां वार्षिक साहित्योत्सव आज
पीपरा चौड़ा में धुल रहा “सबका साथ, सबका विकास ” का दंभ
रांची कोर्ट में लालू से भाजपा के इस सांसद की भेंट एक बड़े राजनीतिक भूचाल के संकेत
देश के लिये खतरनाक है प्रधानमंत्री की चुप्पी
अभिनेत्री से 'अम्मा' बनी जयललिता की हालत नाजुक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...