जिम्मेवारी तय कर दोषियों को दंडित करें :सुनील बर्णवाल

Share Button

मुख्यमंत्री जनसंवाद केन्द्र की साप्ताहिक समीक्षा बैठक संपन्न

रांची। गोड्डा के तेलियाटिकर गांव से शिकायत आयी कि पिछले पांच वर्षों से यहां की सेविका 15 दिनों में मात्र एक दिन ही आंगनवाड़ी केन्द्र खोलती है, जिसके कारण बच्चों को इसका लाभ नहीं मिल रहाए वरीय अधिकारियों से इसकी शिकायत कहने के बावजूद भी कोई सुधार नहीं हुआ।

इस पर मुख्यमंत्री के सचिव सुनील कुमार बर्णवाल ने संबंधित अधिकारियों से पूछा कि आखिर क्या कारण है कि आंगनवाड़ी केन्द्र के अनियमित संचालन रहने के बावजूद वहां के सीडीपीओ, पर्यवेक्षिका को अब तक सस्पेंड नहीं किया गया और न ही प्रतिवेदन मांग गये।

उन्होंने शीघ्र इस संबंध में प्रतिवेदन मांगने, जिम्मेवारी तय करने तथा दोषियों को दंडित करने का आदेश दिया।

वे मंगलवार को रांची के सूचना भवन में मुख्यमंत्री जनसंवाद केन्द्र की साप्ताहिक समीक्षा बैठक कर रहे थे। उन्होंने 15 शिकायतों की समीक्षा की और उसका समाधान निकाला।

जामताड़ा के भूरुनडीहा से शिकायत थी कि लघु सिचाई योजना के अंतर्गत खास तालाब की मरम्मति के लिए 28 लाख 29 हजार 9 सौ रुपये की निविदा स्वीकृत हुई पर निर्माण कार्य अधूरा पड़ा है, लेकिन तालाब का काम पूरा दिखाकर कनीय अभियंता और संवेदक द्वारा पूर्ण राशि की निकासी कर ली गयी।

इस पर उन्होंने अधिकारियों को आदेश दिया कि वे मुख्य अभियंता लघु सिचाई दुमका को पत्र लिखे और वहां के मुख्य अभियंता और नोड्ल आफिसर को कारण बताओ नोटिस जारी करेंए साथ ही विभागीय लापरवाही को देखते हुए विभागीय कार्रवाई करने का भी आदेश जारी किया।

हजारीबाग के कोयलीखुर्द गांव की सरकारी जमीन पर दंबगों द्वारा किये जा रहे अतिक्रमण पर अधिकारियों को आदेश दिया कि 31 अगस्त तक जमीन अतिक्रमण से मुक्त हो जाना चाहिए। साथ ही जिनकी लापरवाही के कारण अतिक्रमण हुआ, उनकी जिम्मेवारी भी तय करें, ताकि दुबारा ऐसी घटना न हो।

लोहरदगा के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र कुडू का 8 वर्षों से निर्माण कार्य अधूरा रहने और जिला प्रशासन द्वारा संज्ञान नहीं लेने पर उन्होंने जिला प्रशासन को इस संबंध में शीघ्र निर्णय लेने और सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र निर्माण करने का आदेश दिया।

साहिबगंज से शिकायत थी कि रामचौका गांव में एक दिव्यांग को आंगनवाड़ी का सेविका नहीं बनाया गया, जिस पर अधिकारियों का कहना था कि ऐसा कोई प्रावधान नहीं कि दिव्यांगों को सेविका बनाना बहुत ही आवश्यक है। वहां नियमानुसार सेविका का चयन हुआ है, इसलिए रामचौका में यह कहा जाना कि वहां गलत ढंग से सेविका का चयन हुआ, गलत है।

लोहरदगा के कृषि पशुपालन एवं सहकारिता विभाग से संबंधित शिकायत में सुभाष राजगरोदिया की शिकायत थी कि उन्होंने 60 लाख रुपये का पंपिग सेट लोहरदगा और लातेहार में वितरण किया पर उन्हें राशि का भुगतान अभी तक नहीं किया गया। इस पर नेपाल हाउस में बैठे विभागीय अधिकारियों का कहना था कि उन्होंने इसके लिए जिला कृषि पदाधिकारी लातेहार और लोहरदगा के खिलाफ विभागीय कार्रवाई करने का आदेश दिया है।

इधर इस संबंध में मुख्यमंत्री के सचिव सुनील कुमार बर्णवाल ने कहा कि जिला कृषि पदाधिकारियों पर विभागीय कार्रवाई के साथ-साथ जिन जटिल प्रक्रियाओं के कारण सुभाष राजगरोदिया के राशि का भुगतान नहीं हो सका, उन जटिल प्रक्रियाओं को भी स्वयं दूर कराने का प्रयास करें। साथ ही यह सुनिश्चित करें कि किसी को किसी प्रकार की दिक्कत न हो।

पाकुड़ से शोभा माल की शिकायत थी कि उन्हें वृद्धावस्था पेंशन और इंदिरा आवास नहीं मिला है। इस पर मुख्यमंत्री के सचिव ने अधिकारियों को इस माह में इनकी दोनों समस्याओं का समाधान करने का आदेश दिया।

रामगढ़ से एक शिकायतकर्ता की शिकायत थी कि दशरथ महतो की जमीन में जो कूप आवंटित की गयी थी। उक्त योजना में कार्य किये मजदूरों का मजदूरी लंबित है। इस पर अधिकारियों का कहना था कि कोई मजदूरी लंबित नहीं है। सारी राशि का भुगतान हो चुका है।

पूर्वी सिंहभूम के जाकिर नगर वेस्ट से गायब शहनवाज आलम की अब तक कोई सुराग नहीं मिलने पर मुख्यमंत्री के सचिव क्षुब्ध नजर आये और उन्होंने पुलिसकर्मियों से इस संबंध में ठोस प्रयास करने को कहा।

चतरा के ग्रामीण कार्य विभाग में कार्यरत मनोज कुमार झा के शिकायत पर कि उन्हें 11 माह से वेतन नहीं दिया गया है। अधिकारियों का कहना था कि उन पर प्रपत्र क गठित है। उन पर गबन का भी आरोप है। मुख्यमंत्री के सचिव का कहना था किसी का भी 11 माह से वेतन रोकना सही नहीं है। अगर किसी ने गलती की है तो उससे उस राशि का भुगतान लें, लेकिन उसके वेतन पर रोक न लगाए। उसके वेतन का भुगतान सुनिश्चित कराएं।

पलामू से शिकायत थी कि दीनादाग गांव में 6 माह से ट्रांसफार्मर जला पड़ा है। बिजली नहीं है। अधिकारियों का कहना था कि वहां से सहायक अभियंता की रिपोर्ट आयी है कि बिजली वहां मिल रही है।

मुख्यमंत्री के सचिव ने इस पर कहा कि इसकी जांच करा लें कि सचमुच में बिजली वहां मिली है या गलत रिपोर्ट आयी है।

गढ़वा के दीनादाग से एक और शिकायत थी कि धर्मजीत के घर के पास 10 केवीए का ट्रांसफार्मर पिछले 3 वर्षों से जला है। इस पर अधिकारियों ने मुख्यमंत्री के सचिव को विश्वास दिलाया कि दस दिनों के अंदर सभी समस्याओं का निदान हो जायेगा।

देवघर से लालमोहन पंडित की शिकायत थी कि वे नेत्रहीन हैं। पर फरवरी माह 2016 से विकलांगता पेंशन बंद है। अधिकारियों का कहना था कि पे आइडी नहीं होने के कारण ऐसा हुआ है। एक सप्ताह में जल्द ही इनका काम हो जायेगा।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...