जिंदा जानवरों का यूं पीते हैं खून, तस्वीर देख कांप जाएगी आपकी रूह

Share Button

यह दुनिया बड़ी विचित्र है और यहां रहने वाले लोग भी। आपने बहुत से अजीबोगरीब लोगों के बारे में पढ़ा और सुना होगा। लेकिन आज हम आपको बताने जा रहे हैं ऐसे लोगों के बारे में जो जिंदा जानवरों का खून पीते हैं……………”

राजनामा.कॉम। अफ्रीका में एक जनजाति है, जिसे लोग मसाई जनजाति के नाम से जानते हैं। इस जनजाति के लोग अच्छे योद्धा माने जाते हैं। ये लोग अपने जिंदगी में किसी का हस्तक्षेप बर्दाश्त नहीं करते।

इथियोपिया में रहने वाले सूरमा जनजाति के लोग मांस, दूध और खून के ऊपर जिंदा रहते हैं। इनकी लाइफ ज्यादातर जानवरों के इर्द-गिर्द ही घुमती है। चाहे कोई भी मौका हो, जानवरों के बिना वो अधूरी मानी जाती है।

इन्हें सूरी के नाम से भी जाना जाता है। इस जनजाति में जिनके पास जितने ज्यादा जानवर होते हैं, उन्हें उतना अमीर माना जाता है।

सूरी लोगों का मानना है कि जिंदा जानवरों का खून पीने से उनकी ताकत बढ़ती है और वो अधिक खतरनाक हो जाते हैं।

इस जनजाति के लोग अच्छे योद्धा माने जाते हैं। कई मौकों पर इन्हें अपनी ताकत का प्रदर्शन करना पड़ता है, इस वजह से भी इन्हें खुद को मजबूत रखने के लिए खून पीना पड़ता है।

जानवरों का खून पीने के लिए मसाई लोग दो तरह के तरीके अपनाते हैं।

पहले में ये लोग एक नोकीले तीर से जानवर के गर्दन में छेद कर विशेष तरह के जार में खून जमा किया जाता है। जिसे लोग चाव से पीते हैं।

या फिर ये सीधे जानवर का गर्दन काट उसमें मुंह लगाकर खून पीने लगते हैं।

ज्यादातर तो ये दूध ही पीना पसंद करते हैं। लेकिन महीने में एक बार ये जानवरों की बॉडी से खून निकालकर पीते हैं।

इसके अलावा जब इनके पास खाने-पीने की चीजें कम हो जाती हैं, तब भी ये जानवरों का खून पीकर गुजारा करते हैं। सूरी लोग जानवरों की बॉडी से खून निकालने के कुछ ही देर बाद उन्हें वापस काम पर लगा देते हैं।

सूरी लोगों की ही तरह अफ्रीका के साउथ केन्या और नार्थ तंजानिया में बसने वाले मसाई जनजाति के लोग भी जानवरों का खून पीकर गुजारा करते हैं। सूरी और मसाई लोगों की परंपराएं काफी हद तक मिलती-जुलती हैं।

Share Button

Relate Newss:

43 साल से सेक्स-टैक्स ले रही है अमेरिकी सरकार !
एक्सपर्ट मीडिया के खुलासे पर यूं बौखलाए कतिपय रिपोर्टर
जया बच्चन ने खाया है गाय और सुअर का मांस :अमर सिंह
मोदी राज का पहला सालः 'टुकड़ों में अच्छा-टुकड़ों में खराब'
राजस्थान पत्रिका समूह के सलाहकार संपादक बने ओम थानवी
टीवी जर्नलिस्ट सुनील कुमार नाग का ब्रेन हैमरेज से निधन
उस महिला का गर्भपात की पुष्टि, कोडरमा घाटी में जिस अज्ञात महिला का मिला था शव
पत्रकार दंपति पर जानलेवा हमला, जिंदा जलाने का प्रयास, पत्नी की हालत गंभीर
अपनी हक हकूक के लिये 'हिलसा आंचलिक पत्रकार' का गठन
BBC Hindi: निष्पक्ष पत्रकारिता के 75 वर्ष !
पुलिस ने 2 लाख की दंड राशि की जगह वीरेन्द्र मंडल को फर्जी केस में यूं भेजा जेल
मोदी जी का कश्मीर दौरा और उठते राजनीतिक सवाल
नालंदा में सामंतवादियों ने महादलितों को लक्ष्मी पूजा से रोका और मारपीट की
राजगीर के इस भू-माफिया को यूं महिमामंडन कर डाला दैनिक हिन्दुस्तान वालों ने
आभासी दौर और नारी अस्मिता की त्रासदी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...