जिंदा जानवरों का यूं पीते हैं खून, तस्वीर देख कांप जाएगी आपकी रूह

Share Button
Read Time:0 Second

यह दुनिया बड़ी विचित्र है और यहां रहने वाले लोग भी। आपने बहुत से अजीबोगरीब लोगों के बारे में पढ़ा और सुना होगा। लेकिन आज हम आपको बताने जा रहे हैं ऐसे लोगों के बारे में जो जिंदा जानवरों का खून पीते हैं……………”

राजनामा.कॉम। अफ्रीका में एक जनजाति है, जिसे लोग मसाई जनजाति के नाम से जानते हैं। इस जनजाति के लोग अच्छे योद्धा माने जाते हैं। ये लोग अपने जिंदगी में किसी का हस्तक्षेप बर्दाश्त नहीं करते।

इथियोपिया में रहने वाले सूरमा जनजाति के लोग मांस, दूध और खून के ऊपर जिंदा रहते हैं। इनकी लाइफ ज्यादातर जानवरों के इर्द-गिर्द ही घुमती है। चाहे कोई भी मौका हो, जानवरों के बिना वो अधूरी मानी जाती है।

इन्हें सूरी के नाम से भी जाना जाता है। इस जनजाति में जिनके पास जितने ज्यादा जानवर होते हैं, उन्हें उतना अमीर माना जाता है।

सूरी लोगों का मानना है कि जिंदा जानवरों का खून पीने से उनकी ताकत बढ़ती है और वो अधिक खतरनाक हो जाते हैं।

इस जनजाति के लोग अच्छे योद्धा माने जाते हैं। कई मौकों पर इन्हें अपनी ताकत का प्रदर्शन करना पड़ता है, इस वजह से भी इन्हें खुद को मजबूत रखने के लिए खून पीना पड़ता है।

जानवरों का खून पीने के लिए मसाई लोग दो तरह के तरीके अपनाते हैं।

पहले में ये लोग एक नोकीले तीर से जानवर के गर्दन में छेद कर विशेष तरह के जार में खून जमा किया जाता है। जिसे लोग चाव से पीते हैं।

या फिर ये सीधे जानवर का गर्दन काट उसमें मुंह लगाकर खून पीने लगते हैं।

ज्यादातर तो ये दूध ही पीना पसंद करते हैं। लेकिन महीने में एक बार ये जानवरों की बॉडी से खून निकालकर पीते हैं।

इसके अलावा जब इनके पास खाने-पीने की चीजें कम हो जाती हैं, तब भी ये जानवरों का खून पीकर गुजारा करते हैं। सूरी लोग जानवरों की बॉडी से खून निकालने के कुछ ही देर बाद उन्हें वापस काम पर लगा देते हैं।

सूरी लोगों की ही तरह अफ्रीका के साउथ केन्या और नार्थ तंजानिया में बसने वाले मसाई जनजाति के लोग भी जानवरों का खून पीकर गुजारा करते हैं। सूरी और मसाई लोगों की परंपराएं काफी हद तक मिलती-जुलती हैं।

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

पीएम के ‘मन की बात' के जवाब में राजद का ‘काम की बात' !
भारतीय लोकतंत्र इस भाजपाई मंत्री की बपौती है मी लार्ड ?
सावधान हो जाइए ऑपरेटिंग सिस्टम विंडोज XP वाले
बगावत नहीं, धोखा है मांझी के कारनामें :नीतिश कुमार
भैया, मैं जरा बौद्धिक गरीब हूं
यह है दैनिक जागरण की शर्मशार कर देने वाली पत्रकारिता
देश में जल्द शुरु होगी ई-वारंटी :रामविलास पासवान
एक वेश्यालय संचालक है गया नगर निगम का उप मेयर !
राज़नामा.कॉम के सबालों से क्यूं कतरा रहे हैं सरयु राय
वसूली के आरोप में कथित राजगीर अनुमंडल पत्रकार संघ के अध्यक्ष की पिटाई!
राष्ट्रीय पुरस्कार लौटाने वाले समेत 24 हस्तियों में सईद मिर्जा, कुंदन शाह, अरुंधति राय भी शामिल
महापाप का ब्यूरोक्रेट्स कनेक्शन, कहीं नवरुणा केस में भी ब्रजेश ठाकुर संलिप्त तो नहीं
पत्रकार पुण्य प्रसून बाजपेयी ने लिखा- भाजपा को राजनीति का ककहरा सिखा दिया बिहार के जनादेश ने
The Telegraph ने राष्ट्रपति-प्रधानमंत्री-गृहमंत्री की तस्वीर लगा यूं छापी लीडः We the idiots
क्या हम बिहारी मराठी तमिलियन मणिपुरी नहीं हो सकते ?
अखबार के मंच से नीतीश और लालू में शब्दों की जंग
महादलित महिला के काटे बाल, मुंह पर पोती कालिख, गले में चप्पल डाल सरेआम घुमाया, भीड़ तमाशबीन
संदर्भ झारखंडः एक राजा था...
जिम्मेवारी तय कर दोषियों को दंडित करें :सुनील बर्णवाल
फर्जी राजगीर पत्रकार संघ का कोषाध्यक्ष मनोज कुमार बना फर्जी हेडमास्टर !
ईटीवी(न्यूज़18) पत्रकार मनोज के बचाव में यूं उतरे करीबी लोग
नोट बदली का झांसा देकर महिला से 8 दिनों तक गैंगरेप
3 साल छोटे हुये सुबोधकांत, संपति हुई दुगनी
सीबीआई की रेड में अय्याशी का अड्डा निकला ‘प्रातः कमल’ अखबार का पटना दफ्तर
‘लोकस्वामी अखबार’ के 'माय होम' से 67 युवतियां मुक्त, मालिक जीतू सोनी फरार, बेटा अमित सोनी अरेस्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
mgid.com, 259359, DIRECT, d4c29acad76ce94f
Close
error: Content is protected ! www.raznama.com: मीडिया पर नज़र, सबकी खबर।