ज़ी न्यूज ने जिंदल को मानहानि का नोटिस भेजा

Share Button

नवीन जिंदल एवं जेएसपीएल की  संवाददाता सम्मेलन का कड़ा जवाब देते हुए ज़ी न्यूज ने  नवीन जिंदल एवं जेएसपीएल को 150 करोड़ रुपए का मानहानि का नोटिस भेजा। जिंदल ने ज़ी न्यूज पर अपनी गलत छवि पेश करने का आरोप लगाया है।

ज़ी न्यूज ने संवाददाता सम्मेलन में जिंदल द्वारा पेश छेड़छाड़ किए गए साक्ष्यों को पूरी तरह से खारिज करने के साथ ही इसकी निंदा की है। ज़ी न्यूज का मानना है कि टेलीविजन नेटवर्क की विश्वसनीय छवि खराब करने के लिए ऐसा जानबूझकर किया गया है। ज़ी न्यूज ने अपने खिलाफ लगे आधारहीन एवं मानहानि करने वाले सभी आरोपों को वापस लेने के लिए नवीन जिंदल को तीन दिन का समय दिया है।

ज़ी न्यूज ने कहा है कि ऐसा न करने पर जिंदल को दीवानी एवं आपराधिक मामलों का सामना करना होगा। कोलगेट घोटाला मामले में ज़ी न्यूज एक राजनीतिज्ञ एवं उद्योगपित के रूप में नवीन जिंदल के दोहरे चरित्र को उजागर करने में सबसे आगे रहा है। ज़ी न्यूज यह साफ तौर पर समझता है कि कोलगेट पर जारी लगातार कवरेज को रोकने के लिए उस पर आरोप लगाए गए हैं। कोलगेट पर ज़ी न्यूज की कवरेज रोकने के लिए जेएसपीएल की कॉरपोरेट कम्यूनिकेशंस टीम ने सबसे पहले समीर अहलूवालिया को 25 करोड़ रुपए की रिश्वत देने की कोशिश की जिसे समीर ने सिरे से खारिज कर दिया। समीर के रिश्वत लेने से इंकार किए जाने के बाद कोलगेट पर खबरों को रोकने के लिए जेएसपीएल ने 100 करोड़ रुपए के विज्ञापन करार की पेशकश की। ज़ी न्यूज बीते दिनों में कोलगेट घोटाले से जुड़ी सच्चाई को सामने लाता रहा है और आज भी ला रहा है। इसी क्रम में वह जिंदल एवं उनके अधिकारियों से कई बार सम्पर्क में आया।

ज़ी न्यूज के मुताबिक, ‘‘हम जिंदल एवं जेएसपीएल पर ज़ी न्यूज का नाम बदनाम करने का आरोप लगाते हैं क्योंकि उन्होंने संपादित एवं छेड़छाड़ की गई सीडी के जरिए अपने पक्ष को रखा। जिंदल की ओर से पेश की गई सीडी में बातचीत के केवल चुनिंदा भाग दिखाए गए। जिंदल का इतिहास रहा है कि जो कोई भी सच्चाई के साथ उनका सामना करने का साहस दिखाता है, जिंदल गलत तरीके से उसे अपना निशाना बनाते हैं।’’ 1.86 लाख करोड़ रुपए के कोलगेट घोटाले की सच्चाई सामने लाने वाले ज़ी न्यूज सहित अन्य मीडिया हाउसों का मुंह जिंदल द्वारा बंद कराया जा रहा है। जिंदल सच को गलत रूप में पेश कर रहे हैं और सच्चाई के रास्ते पर चलने वाले लोगों पर मानहानि का आरोप लगा रहे हैं। यहां तक कि नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (सीएजी) ने अपनी रिपोर्ट में कोलगेट घोटाला मामले में नवीन जिंदल को प्राथमिक लाभार्थी बताया है।

ज़ी न्यूज के अनुसार, हमारा मानना है कि नवीन जिंदल एवं उनके अधिकारियों ने अपनी पुलिस शिकायत में ज़ी न्यूज के खिलाफ ऐसे ही निराधार आरोप लगाए हैं और हम इसे कानून की सहज प्रक्रिया में एक बाधा के रूप में देखते हैं। जाहिर तौर पर, हम इसे अपने को बदनाम करने और इस सिलसिले में जांच को प्रभावित करने की एक कोशिश के रूप में देखते हैं। इसलिए, हमने नवीन जिंदल एवं जेएसपीएल को मानहानि का नोटिस भेजा है। जिंदल एवं जेएसपीएल ने ज़ी न्यूज को भटकाने के लिए जो चाल चली है उसमें समाचार चैनल नहीं फंसेगा और 1.86 लाख करोड़ रुपए के कोयला घोटाले की असली सच्चाई लोगों के सामने लाता रहेगा और अपने ऊपर लगे आरोपों का जवाब सच्ची खबरों से देगा।

Share Button

Relate Newss:

टीएन शेषण के निधन की उड़ी अफवाह, 2 केन्द्रीय मंत्री ने दे डाली श्रद्धांजलि  
महापाप का ब्यूरोक्रेट्स कनेक्शन, कहीं नवरुणा केस में भी ब्रजेश ठाकुर संलिप्त तो नहीं
न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया के आउटपुट एडिटर बने अतुल अग्रवाल
पत्रकार संतोष ने फेसबुक पर लिखा- वीरेन्द्र मंडल केस में भावनाओं पर काबू रखना थी बड़ी चुनौती
इस तरह बनाए जा रहे हैं रिपोर्टर- पत्रकार
प्रेस क्लब के थोंपू महंथ पर उठे सवाल, एक फोटो जर्नलिस्ट ने निकाली यूं भड़ास
एक जौहरी करता था न्यूज़11 में एक ज्योतिष पेड प्रोग्राम का पेमेंट
नहीं रहीं वरिष्ठ पत्रकार रजत गुप्ता की अर्द्धांग्नि रविन्द्र कौर
पद्मश्री बलबीर दत के सम्मान में पहुंचे मात्र तीन पत्रकार !
दिग्भ्रमितों ने किया पत्रकारिता का बेड़ा गर्क
पत्रकारिता दिवस पर विशेष: मीडिया तेरे कितने प्रकार?
दैनिक ‘सन्मार्ग’ ने जिन्दा प्रखंड प्रमुख को मार डाला !
भला हो रेड क्रॉस की, दुःखी पत्रकार को मरहम लगाया
फेसबुक से लोग चुन-चुन कर हटा रहे इस 'लेडी ब्रजेश ठाकुर' की तस्वीरें
पत्रकार सुरक्षा कानून एवं आवास योजना की आवाज लोकसभा में उठायेंगे गिलुवा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...