चमरा लिंडा की गिरफ्तारी में झलकी तानाशाही मानसिकता

Share Button

camra linda

विपक्ष ने बताया- भाजपा के चुनाव जीतने के गंदे तिकड़म

                               रांची (मुकेश भारतीय) । 10 जून की देर रात राज्यसभा चुनाव के मात्र 9 घंटे पहले झामुमो विधायक चमरा लिंडा को गिरफ्तार कर लिया गया। वे आर्किड अस्पताल में भर्ती हैं। चिकित्सकों के अनुसार चमरा लिंडा का शुगर लेबल 350 से उपर पहुंच गया है और उन्हें पूर्ण आराम करने की जरुरत है। उनकी स्थिति अभी ऐसी नहीं है कि वे खुद उठ कर चल-फिर भी सकें।

विधायक चमरा लिंडा की गिरफ्तारी वर्ष 2013 में राजधानी रांची के जगन्नाथपुर थाने में दर्ज एक मामले में हुई है। उन पर विधानसभा गेट के बाहर हंगामा करने और सरकारी कामकाज में बाधा पहुंचाने का आरोप है। इस मामले में 10 जून को ही निचली अदालत के प्रथम श्रेणी के दण्डाधिकारी अरबिंद कुमार की अदालत ने वारंट जारी किया है। वारंट की कॉपी पाते ही पुलिस ने आर्किड अस्पताल में भर्ती चमरा लिंडा को गिरफ्तार कर लिया।

भजपा, जेवीएम और कांग्रेस ने इसे राज्य में सत्तासीन रघुवर सरकार की खुली गुंडई और तानाशाही की पराकाष्ठा बताया है।

उल्लेखनीय है कि 11 जून की सुबह 9 बजे से दोपहर बाद 3 बजे तक झारखंड से रिक्त दो राज्यसभा सीटों पर मतदान होना है। जिसके नतीजे शाम तक आ जाने की संभावना है। यहां सत्तारुढ़ भाजपा ने केन्द्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी और महेश पोद्दार को मैदान में उतारा है, वहीं विपक्ष झामुमो सुप्रीमो के पुत्र बंसत सोरेन पर दांव लगाया है।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...