गोड़ा पुलिस की वाहन चेकिंग से डीटीओ अनजान !

Share Button

राज़नामा.कॉम (नागमणि कुमार)। गोड्डा में बीते रात सघन तरीके से वाहन चेकिंग अभियान चलाया गया था। गोड्डा-पीरपैंती मुख्य मार्ग पर दो स्थानों, नहर चौक तथा बिजली ऑफिस के सामने चेक पोस्ट बनाया गया था।

godda_policeपाकुड़ से लौट रहे चिप्स लदे वाहनों को रात 12 बजे से ही रोका जा रहा था। सुबह 6 बजे तक चलाए गए इस अभियान के कारण बिजली ऑफिस से लेकर सरकंडा चौक तक वाहनों की लम्बी कतार देखी गई।

फोनिक संपर्क के बाद गोड्डा एसपी देवेन्द्र ठाकुर ने बताया कि अभियान उनके ही निर्देश पर चलाया जा रहा था तथा एसडीपीओ राजेश कुमार अभियान का नेतृत्व कर रहे थे।

हालांकि दोनों आलाधिकारियों ने मीडिया से मिलने से साफ तौर पर इनकार कर दिया। सुबह 7 बजे एसडीपीओ राजेश कुमार ने भी फोनिक सम्पर्क करने के बाद बतलाया कि अभियान दोपहिया वाहनों की चेकिंग के लिए की जा रही थी।

ऐसे में गोड्डा पुलिस की सेवा पर सवाल खड़ा होना लाजमी है क्योंकि, क्राइम कंट्रोल के ख्याल से दोपहिया वाहनों की चेकिंग की जा रही थी तो चिप्स लदे भारी वाहनों को 6 घंटा क्यों रोका गया।

दूसरा सबसे अहम सवाल कि वाहन चेकिंग की जानकारी डीटीओ एके संथालिया को क्यों नहीं दी गई।

कही ऐसा तो नहीं कि गोड्डा पुलिस की मनसा कुछ और ही थी। कथित मसले पर गोड्डा पुलिस मीडिया से दूर क्यों भाग रही है।

दरअसल, इन दिनों गोड्डा में पुलिस प्रशासन की दादागिरी सर चढ़ कर बोल रहा है।  हर तरफ उगाही और मनमानी का रूप देखने को मिल रहा है।

godda_police_trबीते रात भी ऐसा ही कुछ नजारा देखने को मिला था, जिसके परिणाम चौंकाने वाले हैं। 25 मई दिन सोमवार की उपलब्ध विडियो में नगर थाना गोड्डा पुलिस प्रशासन का सच सामने आ गया है, जिसमें पुलिस प्रशासन के आलाधिकारियों के निर्देश पर एएसआई एस. एम. सोय को भारी वाहनों की जांच करते देखा जा सकता है।

गोड्डा-पीरपैंती मुख्य सड़क के दो स्थानों, नहर चौक तथा बिजली ऑफिस को चेक पोस्ट बनाया गया था। ओवर लोडिंग का मामला बताकर सभी गाड़ियों को सड़क किनारे खड़ा कर दिया गया था।

जानकारी हो कि रात 12 बजे से शुरू यह अभियान सुबह 6 बजे तक चलता रहा। पाकुड़ से लौट रहे चिप्स लदे भारी वाहनों को अभियान के निशाना बनाया जा रहा था। गाड़ी चालकों को ओवरलोडिंग का मामला बताकर वाहनों को रोकने का निर्देश दिया गया।

वहीं इस मामले पर डीटीओ एके संथालिया से फोनिक सम्पर्क किया गया तो उन्होंने साफ शब्दों में बताया कि वह बाहर हैं तथा उन्हें इस अभियान के बारे में कोई जानकारी नहीं है।

ऐसे में सवाल उठता है कि आखिर ऐसा कौन सा सख्स था जिसके निर्देश पर एएसआई एस. एम. सोय यह अभियान चला रही थी? आखिर गोड्डा पुलिस का मकसद क्या था? 

………... नागमणि कुमारगोड्डा की  रिपोर्ट

Share Button

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.