गूगल कंपनी में करीब 200 बकरियां नौकरी, वेतन सहित मिलती हैं अन्य सुविधाएं

Share Button
Read Time:1 Minute, 36 Second

got_google

वॉशिंगटन। आपको ये जानकर हैरानी होगी की दुनिया की सबसे बड़ी सर्च इंजन कंपनी गूगल में करीब 200 बकरियां काम करती हैं।

इसके लिए उन्हें कर्मचारियों की तरह सैलरी भी दी जाती है। यहीं नहीं इन्हें कर्मचारियों को मिलने वाली अन्य सुविधाऐं भी दी जाती हैं।

हैरान न हों ये बकरियां किसी सॉफ्टवेयर पर काम नहीं करती हैं बल्कि गूगल के दफ्तर में लगे लॉन की घास को चरती हैं।

गूगल अपने दफ्तर के लॉन में घास कटाई के लिए मशीन का प्रयोग नहीं करती।

क्योंकि इससे निकलने वाले धुंए और आवाज से दफ्तर में इनोवेशन के काम कर रहे कर्मचारियों को परेशानी होती है।

इसी कारण सप्ताह में एक बार इन बकरियों को गूगल दफ्तर के लॉन की घास चरने के लिए यहां लाया जाता है।

इससे घास की ट्रिमिंग के साथ बकरियों का पेट भी भर जाता है। इस बात की जानकारी खुद गूगल ने अपने ब्लॉग पर दी है।

करीब 200 बकरियां गूगल के लॉन में छोड़ दी जाती है। वो कुछ ही घंटों में घास को साफ कर देती हैं।

वहीं बकरियां केवल घास चरें और दफ्तर में न घुसें इसके लिए बकरियों को लाने वाले चरवाहे को खास ट्रेनिंग दी गई है।

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

गुजरात में अब मोदी-शाह का 'रुपानी राज'
भागलपुर जिले में खुला देश का पहला गरुड़ संरक्षण केन्द्र
विधान परिषद चुनाव से 'नमो राग' पर सवाल
पहले 'जय जवान,जय किसान' और अब 'मर जवान,मर किसान'
आई-नेक्स्ट की गंदगी सुनाते सुनाते रो पड़ीं प्रतिमा  भार्गव
राजगीर के कथित जर्नलिस्ट के होटल समेत कईयों को नोटिश, मामला मलमास मेला की जमीन पर अवैध कब्जा का
13 अक्टूबर को रजत जयंती समारोह मनाएगा पटना दूरदर्शन केन्द्र
 इस सरकार-शासन प्रेमी कथित जर्नलिस्ट की पोस्ट से उभरे सबाल, राजगीर में कौन-कितने चिरकुट पत्रकार ! 
जमशेदपुर प्रेस क्लब दो फाड़, पत्रकारों के बीच अस्तित्व की जंग शुरु
....जाहिलों का पत्रकार संगठन कहेगें तो बुरा लगेगा
मोहर्रम जुलूस में बुर्का पहन महिला से छेड़छाड़ करते धराया VHP नेता !
अरविंद को संगठन में बिना योगदान के सचिव बनाना सबसे बड़ी भूल : शहनवाज हसन
मेरी लाश पर लागू होगा मोदी का कानून: ममता बनर्जी
'कांग्रेस मुखपत्र' ने की नेहरू और सोनिया की आलोचना, कंटेंट एडिटर बर्खास्त
जन लोकपाल की वेदी पर दिल्ली की केजरीवाल सरकार कुर्बान
सीएम को कवर करने से रोका तो फर्जी सूचना वायरल पर चला दी खबर
प्रिंट मीडिया मालिकों के लिए फिर यूं खास रही पंजाब
नोटबंदी को लेकर मोदी सरकार से कुछ सवाल
स्वाभिमान रैलीः गांव-गरीब पर लालू की पकड़ बरकरार
जिओ टीवी के ‘खेल’ के सामने फेल रहे भारतीय सेल्फी रिपोर्टर्स
उमा भारती की चुनौती, विदेशी शराब पर प्रतिबंध लगाएं नीतीश कुमार
नीतीश सरकार को SC की कड़ी फटकार, कल CS को हाजिर होने का आदेश
द नेशनल फाउंडेशन फॉर इंडिया की मीडिया फेलोशिप का डेडलाइन 30 दिसंबर
...और राजगीर की मीडिया को यूं ऐड़ा बना पेड़ा खिला गया रोपवे प्रभारी
एसपी ने पत्रकारों को डांट भगाया, कहा- पुलिस के लिये मीडिया महत्वहीन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...