नीतीश कुमार ने कहाः गुड बाय, अब अच्छे दिन का सभी मजा लें

Share Button

nitish_biharबिहार की राजनीति में अचानक ही भूचाल आ गया है। राज्य के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने अपना इस्तीफा राजभवन को भेज दिया है। इस्तीफे के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए नीतीश कुमार ने कहा कि उन्हें चुनाव परिणाम की नैतिक जिम्मेवारी लेते हुए यह फैसला किया है। नीतीश ने कहा कि उन्होंने विधानसभा भंग करने की सिफारिश नहीं की है। 

मैंने केवल अपने पद से इस्तीफा दियाः  नीतीश कुमार ने कहा-अच्छे दिन आ गये हैं, अच्छे दिन का अनुभव सब लोग करेंगे। हमारी शुभकामना है। हम अपने स्तर पर और पार्टी के स्तर पर काम करेंगे। मैंने केवल अपने पद से इस्तीफा दिया है। मैंने विधानसभा भंग करने की सिफारिश नहीं की है। यह राज्यपाल के अधिकार क्षेत्र का मामला है। उन्होंने कहा-रविवार चार बजे हमारे विधायकों की बैठक है। उसमें सारी बातों पर विचार करने के बाद आगे की बात होगी। मैं अपने पुराने निर्णय पर कायम हूं।

गौरतलब है कि नीतीश की पार्टी को सोलहवीं लोकसभा चुनाव में महज दो सीटें प्राप्त हुई जबकि 24 सीटों पर उनके प्रत्याशियों की जमानत तक जब्त हो गई।

पासवान ने दिए थे चुनाव के संकेतः नीतीश के इस्तीफे के खबर से पहले लोजपा अध्यक्ष रामविलास पासवान ने संकेत दिया था कि जल्दी ही बिहार में विधानसभा के चुनाव होने वाले है। पासवान ने कहा था, ‘आने वाले दिनों में बिहार में एनडीए की सरकार बनेगी और जल्दी ही बिहार में लोगों को अगला जनादेश देने की जरूरत होगी। हम लोजपा और एनडीए के तमाम कार्यकर्ताओं से अपील करना चाहते हैं कि वे अभी से ही चुनाव की तैयारी में लग जाए।’

लालू ने कहा, वेट एंड वॉचः  नीतीश कुमार के इस्तीफे के बाद राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद ने कहा कि अभी मैं कुछ नहीं कहूंगा। मैं वेट एंड वॉच की स्थिति में हूं। जिस तरह से सोनिया गांधी और राहुल गांधी ने कांग्रेस की हार के लिए नैतिक जिम्मेदारी ली, ठीक उसी तरह नीतीश कुमार ने भी निर्णय लिया होगा। उन्होंने कहा-अब सब कुछ राज्यपाल के हाथ में है। आप इंतजार कीजिए, सारी बातें स्पष्ट हो जाएगी।

शिवानंद ने किया स्वागत, कहा-सम्मान जनक कदमः  शिवानंद तिवारी ने नीतीश कुमार के इस्तीफे का स्वागत किया है। उन्होंने कहा-यह सम्मान जनक कदम है। अब फैसला बिहार की जनता को करना है। नीतीश ने अब तक बिहार के लिए जो कुछ किया है उसको जारी रखने की जरूरत अगर जनता महसूस करेगी तो पुन: उनको अवसर देगी।

Share Button

Relate Newss:

पत्रकारों ने बांका के डीएम का पुतला फूंका !
पत्रकार प्रताड़ना को लेकर यूं मुखर हुए पूर्व विधायक अनंत राम टुडू
अखबारों और चैनलों के सीले होठ और चूं-चूं का मुरब्बा बना झारखंड सीएम जनसंवाद केन्द्र
वायरल ऑडियो से उभरे सबालः कौन है मुन्ना मल्लिक? कौन है साहब? राजगीर MLA की क्या है बिसात?
आज 31 मई को काला दिवस मना रहे हैं हम !
नरेन्द्र मोदी अलोकतांत्रिक और अहंकारी हैं ‘अमित शाह!
नालंदा में बंदी की खुली पोल, होंडा कार से 7 पेटी अवैध अंग्रेजी शराब बरामद
पांचजन्‍य-ऑर्गनाइजरकर्मियों की चिठ्ठी से खुली राज़, RSS के हैं ये अखबार !
प्रेस क्लब रांची के नवांतुकों पर अतीत से सीख भविष्य संवारने की बड़ी जिम्मेवारी
झारखंडः आप का सत्यानाश, केजरीवाल की थू-थू
गोड्डा में दिखेगी शंकर सम्राट का हैरतअंगेज जादू
बादल को मंडेला बता कर मजाक के पात्र बने मोदी
मीसा भारती को महंगा पड़ा हार्वर्ड का 'फेक लेक्चर' बनना
प्रभात खबर से जुड़ा है IM का संदिग्ध आतंकी उजैर अहमद
समाज के लिए खतरा है ऐसे वेबसाइट-पत्रकार
Loading...
loading...