नीतीश कुमार ने कहाः गुड बाय, अब अच्छे दिन का सभी मजा लें

Share Button

nitish_biharबिहार की राजनीति में अचानक ही भूचाल आ गया है। राज्य के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने अपना इस्तीफा राजभवन को भेज दिया है। इस्तीफे के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए नीतीश कुमार ने कहा कि उन्हें चुनाव परिणाम की नैतिक जिम्मेवारी लेते हुए यह फैसला किया है। नीतीश ने कहा कि उन्होंने विधानसभा भंग करने की सिफारिश नहीं की है। 

मैंने केवल अपने पद से इस्तीफा दियाः  नीतीश कुमार ने कहा-अच्छे दिन आ गये हैं, अच्छे दिन का अनुभव सब लोग करेंगे। हमारी शुभकामना है। हम अपने स्तर पर और पार्टी के स्तर पर काम करेंगे। मैंने केवल अपने पद से इस्तीफा दिया है। मैंने विधानसभा भंग करने की सिफारिश नहीं की है। यह राज्यपाल के अधिकार क्षेत्र का मामला है। उन्होंने कहा-रविवार चार बजे हमारे विधायकों की बैठक है। उसमें सारी बातों पर विचार करने के बाद आगे की बात होगी। मैं अपने पुराने निर्णय पर कायम हूं।

गौरतलब है कि नीतीश की पार्टी को सोलहवीं लोकसभा चुनाव में महज दो सीटें प्राप्त हुई जबकि 24 सीटों पर उनके प्रत्याशियों की जमानत तक जब्त हो गई।

पासवान ने दिए थे चुनाव के संकेतः नीतीश के इस्तीफे के खबर से पहले लोजपा अध्यक्ष रामविलास पासवान ने संकेत दिया था कि जल्दी ही बिहार में विधानसभा के चुनाव होने वाले है। पासवान ने कहा था, ‘आने वाले दिनों में बिहार में एनडीए की सरकार बनेगी और जल्दी ही बिहार में लोगों को अगला जनादेश देने की जरूरत होगी। हम लोजपा और एनडीए के तमाम कार्यकर्ताओं से अपील करना चाहते हैं कि वे अभी से ही चुनाव की तैयारी में लग जाए।’

लालू ने कहा, वेट एंड वॉचः  नीतीश कुमार के इस्तीफे के बाद राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद ने कहा कि अभी मैं कुछ नहीं कहूंगा। मैं वेट एंड वॉच की स्थिति में हूं। जिस तरह से सोनिया गांधी और राहुल गांधी ने कांग्रेस की हार के लिए नैतिक जिम्मेदारी ली, ठीक उसी तरह नीतीश कुमार ने भी निर्णय लिया होगा। उन्होंने कहा-अब सब कुछ राज्यपाल के हाथ में है। आप इंतजार कीजिए, सारी बातें स्पष्ट हो जाएगी।

शिवानंद ने किया स्वागत, कहा-सम्मान जनक कदमः  शिवानंद तिवारी ने नीतीश कुमार के इस्तीफे का स्वागत किया है। उन्होंने कहा-यह सम्मान जनक कदम है। अब फैसला बिहार की जनता को करना है। नीतीश ने अब तक बिहार के लिए जो कुछ किया है उसको जारी रखने की जरूरत अगर जनता महसूस करेगी तो पुन: उनको अवसर देगी।

Share Button

Relate Newss:

चतरा पत्रकार हत्याकांड का मुख्य आरोपी तमिलनाडु में धराया
RBI के गवर्नर की PC से इकोनॉमिस्ट और बीबीसी के पत्रकार को निकाला
RTI के तहत काम करेगी स्वराज इंडिया, पंजाब में लड़ेगी चुनाव
बिहार आईएस एसोसिएशन के आंदोलन से नीतिश के गुड गवर्नेंस पर उठे सबाल
राजस्थान पत्रिका समूह के सलाहकार संपादक बने ओम थानवी
रघु’राज में मीडिया पर अंकुश, केवल फोटोग्राफ कवर करने के निर्देश
स्मृति की डिग्रियां फर्जी हो सकती हैं, लेकिन वह नहीं :लालू प्रसाद
बिहार महासंग्राम में मोदी का 53 तो सोनिया का 100 रहा चुनावी स्ट्राइक रेट
सियासी सादगी का कोई आठवां अजूबा नहीं हैं केजरीवाल
बिहार को ललकारने वाले मोदी को घुटने टेकने पड़े :नीतिश
दिमाग कंपा जाती है पत्रकार संदीप कोठारी का शव !
पटना बम ब्लास्ट को लेकर दोहरा मापदंड दिखा रही है बिहारी मीडिया
सिर्फ प्रेस क्लब भवन कब्जाने के लिये चंद मठाधीश लोग चाहते हैं फर्जी संस्था का अवैध चुनाव !
सुदेश महतो ने कैसे हासिल की NOU से एमए की डिग्री ?
टॉपर रुबी राय बीएसईबी पटना कार्यालय से अरेस्ट
Loading...
loading...