गुजरात में पक्षियों के उड़ने का मौलिक अधिकार है या नहीं- अब सुप्रीम कोर्ट तय करेगा

Share Button

sparrowपक्षियों को उड़ने का मौलिक अधिकार है या नहीं ,इस सवाल का जवाब अब सुप्रीम कोर्ट में मिल सकता है।


सुप्रीम कोर्ट अब यह तय करेगा कि पक्षियों को उड़ने का मौलिक अधिकार है या नहीं। इस मामले मे सुप्रीम कोर्ट ने गुजरात सरकार को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है।

दरअसल साल 2011 में गुजरात सरकार ने एक याचिका की सुनवाई पर यह आदेश दिया था कि हर पक्षी को आसमान में उड़ने का मौलिक अधिकार है इसलिए किसी भी पक्षी को पिंजरे में कैद नहीं रखा जा सकता।

साथ ही कोर्ट ने यह भी कहा था कि ये बात भी मायने नहीं रखती कि पिंजरा कैसा है। हाईकोर्ट ने ये भी आदेश जारी किए थे कि अगर कोई पक्षी बेचते हुए पकड़ा जाए तो उसे पिंजरे से आजाद कर दिया जाए।

इसी आदेश के खिलाफ अब पेट लवर एसोसिएशन ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है।

सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ता की ओर से पेश सलमान खुर्शीद ने कहा कि कानून में पहले से ही तय है कि वाइल्ड केटेगरी मे आने वाले पक्षियों को घरेलू तौर पर पाला नहीं जा सकता। जबकि कई श्रेणी के पक्षी हैं जो घरेलू होते हैं और अगर उन्हें छोड़ दिया जाए तो बड़े पक्षी उन्हें मार देते हैं। वैसे भी लोग पक्षियों को अपने घर के सदस्यों की तरह रखते हैं।

ऐसे में हाईकोर्ट का यह आदेश सही नहीं हैं,  सुनवाई के दौरान चीफ जस्टिस की बेंच ने गुजरात सरकार और हाईकोर्ट में अर्जी दाखिल करने वाले को नोटिस देकर जवाब मांगा है।

Share Button

Relate Newss:

भड़ास बंद करा के Galgotia को मिला घंटा!
भोपाल मुठभेड़ की जांच से शिवराज सरकार का साफ इन्कार
राजद विधायक का मुर्गी पर तोप, नालंदा के 2 रिपोर्टर को कोर्ट में घसीटा
फर्जी फेसबुक प्रोफाइल-पेजों में अव्वल हैं हेमंत सोरेन !
जया बच्चन ने खाया है गाय और सुअर का मांस :अमर सिंह
जेजेए ने पत्रकार हरी प्रकाश की मौत को लेकर डीजीपी को सौंपा ज्ञापन
फेसबुक से लोग चुन-चुन कर हटा रहे इस 'लेडी ब्रजेश ठाकुर' की तस्वीरें
पत्रकार संतोष ने फेसबुक पर लिखा- वीरेन्द्र मंडल केस में भावनाओं पर काबू रखना थी बड़ी चुनौती
वरिष्ठ पत्रकार कृष्ण बिहारी मिश्र ने अपनी पोस्ट के आलोचको को यूं दिया करारा जवाब
मप्र किसान उग्र आंदोलन में ABP न्यूज के पत्रकार पर हमला...
मुर्गी लदे वाहन से कुचल कर प्रेस फोटोग्राफर मंजन की मौत
अखिलेश सरकार के लिये बड़ी नसीहत यादव सिंह प्रकरण
छोटे और मंझोले अख़बारों को मार डालेगी मोदी सरकार की नई विज्ञापन नीति
अंततः अरविंद केजरीवाल को मिली सुगर-खांसी से मुक्ति !
बिहार के पूर्व गवर्नर के बेटे ने मुंबई में खरीदी 100 करोड़ की प्रॉपर्टी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...