गुजरात की कीमत पर बिहार की जीत नहीं चाहती है आरएसएस! बहाना या सच ?

Share Button

mohan_bhagwat_and_other_rss_leadersआरएसएस के एक बड़े और गंभीर टाइप संगठनकर्ता नेता से बात हुई। बिहार चुनाव पर बात निकली। उन्होंने मुझसे पूछा कि आप बताओ,बिहार घूमे हो । मैंने बोला कि मैं आपसे पूछ रहा हूँ। आप बताइये। आपको संगठंवालों ने, आपके कार्यकर्ताओं या स्वयंसेवकों ने क्या फीडबैक दिया या दे रहे हैं।

वह मुझसे ही पूछते रहे। मैंने बोला कि आपके मोहन भागवत के आरक्षण वाले बयान या इंटरव्यू के बाद से बाजी आपके हाथ से खिसकती गयी है,ऐसा मुझे लगता है।

उन्होंने कहा कि यह तो हमलोगों को भी पता है और उस इंटरव्यू को पाञ्चजन्य के जरिये जारी करने के पहले भी मालूम था कि इसका प्रतिकूल असर पड़ेगा।

भाजपा के कई बड़े नेताओं ने मना किया कि अभी यह इंटरव्यू ठीक नही लेकिन,राजनितिक नुकसान जानते हुए भी हमने उसको जारी किया। क्योंकि बिहार में सत्ता पाने से ज्यादा जरुरी था गुजरात को अपने पास बनाये रखना। गुजरात को संभालना।

बिहार में हम सिंगल सरकार में रहे कब हैं कि हमे हारना है। हारते तो तब जब सत्ता में होते कभी बिहार में।बिहार में खोने को कुछ नही हमारे पास।

हमारा संगठन दक्षिण बिहार तक ही सिमटा रहता था, भाजपा भी सिर्फ उधर के ही दायरे में सिमटी पार्टी थी, हाल के वर्षों में झारखण्ड बंटवारे के बाद झारखण्ड यानि दक्षिण बिहार के बाद अब बिहार में भी संगठन और भाजपा,दोनों को जितना मजबूत होना था वह हो चुके हैं।

एक बार मजबूत हो जायेंगे। विपक्ष में भी ठीक से रहेंगे तो आगे फिर कभी चुनाव में सत्ता ठोस रूप में आ जायेगी।

अभी बिहार में चुनाव था, बिहार हमारे लिए अनिश्चित था,उसके चक्कर में जो निश्चित और ठोस है गुजरात, उसको तो दाव पर नही लगाया जा सकता था न।

इसलिए मोहन भागवत का वह इंटरव्यू आया और भाजपा की ओर से बार बार उस इंटरव्यू और बयान से किनारा करने के बाद भी मोहन भगवत उस पर कायम रहे और दुहराये भी।

उन्होंने यह भी साथ में जोड़ा कि यार तुम यह बताओ कि वह इंटरव्यू किसी चालाक पत्रकार ने तो लेकर नही छापा न।वह तो हमारी अपनी पत्रिका में।छपा।यानि सब सोच समझकर ही छपा।

उस इंटरव्यू के छपने के पहले बिहार में संघ के वरिष्ठ कार्यकर्ताओं से भी राय ली गयी थी और सबने कहा था कि चुनाव में नुकसान होगा बाकि आगे संगठन विस्तार में और भाजपा के फैलाव में फायदा। तो हमने चुनाव के नुकसान की चिंता नही की।

bidesiya rang

…….Bidesia Rang जी के फेसबुक वाल से।

Share Button

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.