गीता प्रेस के कर्मचारियों की हड़ताल प्रबंधन के शर्तों पर हुई खत्म

Share Button

गीता प्रेस गोरखपुर में कर्मचारियों की हड़ताल खत्म हो गयी. अगस्त से चली आ रही यह हड़ताल कर्मचारी और गीता प्रेस प्रबंधन के बीच बातचीत से सुलझ गयी.

GITA PRESSप्रमुख सचिव नवनीत सहगल ने कर्मचारी और गीता प्रेस प्रबंधन के बीच समझौता कराया. गीता प्रेस प्रबंधन और कर्मचारियों के बीच चले आ रहे विवाद के कारण कई महीनों से प्रेस के काम पर असर पड़ रहा था. छपाई के कई काम रुके हुए थे. मशीनें बंद थी. 

गीता प्रेस प्रबंधन ने पहले भी कर्मचारियों से बातचीत की कोशिश की थी लेकिन यह विवाद सुलझा नहीं पायी. कर्मचारी  गीता प्रेस प्रबंधन द्वारा निकाले गये लोगों को वापस लेने की मांग कर रहे थे. जबकि गीता प्रेस प्रबंधन ने साफ कर दिया था वह कर्मचारी ठेके पर रखे गये थे उन्हें वापस नहीं लिया जायेगा.
गीता प्रेस प्रबंधन ने कहा, माफीनामा देने के बाद 12 कर्मचारियों को वापस लिया जायेगा. वेतन वृद्धि पर बाद में फैसला लिया जायेगा. हड़ताल पूरी तरह गीता प्रेस प्रबंधन के शर्तों के साथ खत्म हुआ है.
गीता प्रेस धार्मिक पुस्तकों को प्रकाशित करने में एक अलग पहचान रखता है. कई देशों में इसकी विश्वसनियता है. 8 अगस्त को कर्मचारियों ने हड़ताल कर दिया था.
Share Button

Relate Newss:

जशोदा बेन ने मांगी आरटीआई, पीएम मोदी का कैसे बना पासपोर्ट
अप्रसांगिक कानून विधेयक लोक सभा में पेश
झारखंड सूचना एवं जनसंपर्क विभाग के निदेशक का कमाल देखिये
खुद अव्वल दर्जे के विवादित छवि के हैं राजगीर के ये कथित जनर्लिस्ट !
झालसा का अपने वेबसाइट पर नियंत्रण का दावा खोखला
प्रखंड रिपोर्टर को जिला रिपोर्टरों ने पीटा
योग सुंदरी से यूं शीर्षासन करा रहे हैं झारखंड के अधिकारी
ब्रजेश ठाकुर की राजदार 'मधु उर्फ शागुफ्ता' की इस कविता से खुले नये राज
बदहाल है पंजाब राज्य मानवाधिकार आयोग !
दो लड़कियों ने की ऑटो ड्राइवर से रेप की कोशिश !
सामंतवादी दबंगों का अमानवीय कहर
रांची सांसद ने रघु'राज में जारी ट्रांसफर-पोस्टिंग कारोबार पर उठाए सवाल
ईद से दिवाली तक चलता है सीज फायर का उल्लंघन !
संजय दत्त की तरह अनंत सिंह के खिलाफ टाडा की तैयारी!
IAS एसोसिएशन के खिलाफ पटना हाई कोर्ट में जनहित याचिका

One comment

  1. मांस भक्षण राक्षस करते हैं सामान्य इंसान शाकाहारी होता है वैसे यह भी सही है कि लोग मांस भक्षण करते हैं उनके लिये शाकाहार करने की बात बेमानी है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...