खरसांवा में सीएम रघुबर दास पर आदिवासियों का बड़ा विरोध, फेंके जूत्ते-चप्पल

Share Button
Read Time:2 Minute, 48 Second

रांची। झारखंड प्रदेश के खरसांवा शहीद स्थल पर आयोजित शहीद दिवस समारोह में शहीदों को श्रद्धांजलि देने पहंचे मुख्यमंत्री रघुवर दास को लोगों के विरोध का सामना करना करना पड़ा। आदिवासी समुदाय के घोर विरोध के बावजूद सीएम रघुवर ने श्रद्धांजलि दी। इसी दौरान आदिवासी समुदाय के लोगों ने सीएम रघुवर को काले झंडे दिखाए। इसके साथ ही वापस जाओ के नारे भी लगाए। सीएम का विरोध इतना बढ़ गया कि वापसी के वक्त सीएम रघुवर पर जूते-चप्पल उछाले गए। इस दौरान वहीं कड़ी पुलिस व्यवस्था भी थी।

सीएम रघुवर के आने की सूचना मिलते ही आदिवासी संगठन के लोग उग्र हो गए। शहीद स्थल पर प्रदर्शन करते हुए उन्होंने रघुवर के खिलाफ वापस जाओ का नारा लगाया। इसके साथ ही उन्होंने मुर्दाबाद के भी नारे लगाए। उपायुक्त के.श्रीनिवासन एवं पुलिस अधीक्षक संजीव कुमार ने प्रदर्शनकारियों का समझाने का काफी प्रयास किया। लेकिन आदिवासी समुदाय के लोग अपने हठ परह अड़े रहे। जब मुख्यमंत्री शहीद स्थल पर पहुंचे तो लोगों ने शहीद बेदी के का दरवाजा अंदर से बंद कर दिया।

इसके बाद लोग हवा में काले झंडे लहराने लगे। इसके साथ ही मुख्यमंत्री के विरोध में नारे लगाने शुरू कर दिया। आदिवासी समुदाय के लोगों ने पुलिस-प्रशासन के साथ धक्कामुक्की की करते हुये मुख्यमंत्री को आधे घंटे तक रोके रखा। काफी देर तक लोगों के समझाने के बाद सीएम रघुवर दास ने कुसी तरह शहीदों को श्रद्धांजलि दे पाये। लेकिन जैसे ही वे बाहर निकले तो लोगों ने उनके उपर उछालने लगे। करीब घंटे भर की मशक्कत के बाद पुलिस-प्रशासन ने सीएम को जैसे-तैसे उनके हेलिपैड के पास पहुंचाया। जहां से वे जमशेदपुर के लिए रवाना हो गए।

इस घटना को सीएम रघुवर ने राजनीति से प्रेरित बताते हुये कहा कि, यह सब झारखंड मुक्ति मोर्चा की गंदी राजनीति है। झामुमो ने शहीदों का अपमान किया है।

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

सरकारी पैसे से राजनेताओं की मार्केटिंग पर सुप्रीम कोर्ट की रोक
नालंदा के थानों में जी हुजूरी करते चौकीदार और अपराधी बने डीएम-एसपी
नीतीश प्रेम पर बोले मांझी- अलग अलग पार्टी के पति-पत्नी साथ सोते हैं कि नहीं !
Delhi journo to become first to be arrested for Twitter trolling
मीडिया ने बबूल को बरगद बना दिया
पटना हाई कोर्ट में अब हिंदी में भी दायर होगीं याचिकाएं
बिहारी बाबू ने अब पीएम मोदी के डीएनए पर साधा निशाना
धन्य है बिहार के नेता... धन्य है बिहार के पत्रकार...
बिहार रिपोर्टिंग बैन पर SC बोला- खबर पर रोक गलत,सरकार को नोटिश
बिहार में एक बार फिर, नीतिश सरकार :पोल ऑफ एक्जिट पोल्स
सीएम ने किया कुड़ू बीडीओ को सस्पेंड, 8वर्षीया एसटी बच्ची के उत्पीड़न का है आरोप
औद्योगिक व्यवस्था के प्यादा 'मीडियाकर्मी' से अपेक्षा बेतुकी
भगवान बिरसा जैविक उद्दान में लूट और मनमानी का आलम
मोदी और शरीफ के बीच काठमांडू में हुई थी गुप्त बैठक
कहीं दूसरा 'हूल’ न बन जाये पत्थलगड़ी ?
मोदी की नीतियों के आलोचक छात्र समूह APSC पर IIT का बैन !
'मलमास मेला सैरात भूमि को 3 सप्ताह के अंदर अतिक्रमण मुक्त कराएं राजगीर सीओ'
राजस्थान के ‘दुर्ग’ को पटना SC-ST कोर्ट से यूं मिली बेल
नो टेंशन, राजगीर मलमास मेला एप्प है न
जी न्यूज और न्यूज नेशन के खिलाफ हाईकोर्ट पहुंचे धोनी
अब नहीं बचेंगे राजगीर मलमास मेला सैरात भूमि के अतिक्रमणकारी, मुक्त कराने की कार्रवाई शुरु
देश के तीन और साहित्यकारों ने लौटाये अपने सम्मान
मोदी नहीं, मुबारक का भाषण सुन रहे हैं ओबामा
शिवराज सरकार ने 300 पत्रकारों के मुंह में डाला जमीन का टुकड़ा
सीएम रघुबर दास ने प्रेस सलाहकार योगेश किसलय को हटाया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...