खबर के बाद हरकत, मलमास मेला मोबाईल एप्प से अवैध जानकारी हटाने में जुटा प्रशासन

Share Button

राजनामा.कॉम एवं उसकी चाइल्ड न्यूज साईट एक्सपर्ट मीडिया न्यूज.कॉम पर राजगीर मलमास मेला मोबाईल एप्प पर प्रमोट हो रहे अवैध राजगीर गेस्ट हाउस होटल और सिद्धार्थ होटल से संबंधित खबर से नालंदा जिला प्रशासन में हड़कंप मच गया है।

अधिकारिक सूत्रों के अनुसार जिला प्रशासन ने इस मामले को काफी गंभीरता से लिया है और मलमास मेला एप्प से दोनों होटलों की शासकीय जानकारी को डिलिट करने की तैयारी में जुट गई है। संभावना है कि कल तक उक्त त्रुटियों का सुधार कर लिया जायेगा।

विभागीय सूत्र बताते हैं कि राजगीर मलमास मेला मोबाईल एप्प में मेला सैरात भूमि पर काबिज अतिक्रमणकारी भू-माफिया से जुड़े जो सूचनाएं जारी हुई हैं, वह एक भूल है। पहले से जानकारी इकठ्ठी थी, उसे ही तकनीकी सेल को प्रेषित कर दिया गया, जो प्रसारित हो गया है।

विभागीय सूत्र यह भी बताते हैं कि यह भूल राजगीर एसडीओ और एलडीएसआर की संज्ञान में नहीं रहा। यह सब त्रुटियां राजगीर कार्यपालक पदाधिकारी के स्तर पर दी गई जानकारी से उत्पन्न हुई है। इस स्तर से जो जानकारी उपलब्ध कराई गई है, उसी आलोक में जिला तकनीकी प्रकोष्ठ द्वारा सूचनाएं प्रसारित कर दी गई।

बता दें कि एक्सपर्ट मीडिया न्यूज पर मलमास मेला नामक ‘मोबाईल एप्प’ द्वारा इस विवादित प्रमोट पर उठे सवाल एवं राजनामा.कॉम पर मलमास मेला नामक ‘मोबाईल एप्प’ से यूं प्रमोट हो रहे भू-माफिया अतिक्रमणकारी शीर्षक से तत्थों के साथ निम्न खबर प्रसारित हुई थी……

बिहार के सीएम नीतिश कुमार के कर कमलों द्वारा उद्घाटित नालंदा जिला प्रशासन की राजगीर मलमास मेला नामक ‘मोबाईल एप्प’ में उन होटलों को भी प्रमोट किया गया है, जो शासकीय तौर पर मलमास मेला सैरात भूमि की जमीन को अतिक्रमण कर बनाया गया है। उसमें एक होटल के मालिक समेत दोषी तीन सरकारी-कर्मी को खिलाफ स्थानीय थाना में एफआईआर भी दर्ज हो चुका है।

मोबाइल एप्प के लिस्ट ऑफ होटल्स इन राजगीर ऑपश्न में कुल 6 होटलों का जिक्र किया गया है। उसके दो होटल शासकीय सीमाकंण नापी में राजगीर मलमास मेला सैरात भूमि पर अतिक्रमण कर बनाए जाने की पुष्टि हो चुकी है। वे होटल हैं- राजगीर गेस्ट हाउस और सिद्धार्थ होटल।

राजगीर गेस्ट हाउस का स्थान कॉलेज रोड, राजगीर कुंड और उसके सिंगल एसी रुम तथा डबल नन एसी रुम का किराया 1000 रुपया प्रतिदिन एवं संपर्क मोबाईल नंबर- 7781860495 बताया गया है।

वहीं, दूसरे सिद्धार्थ होटल का स्थान अपोजिट ओल्ड जापानीज मंदिर और उसके सिंगल एसी रुम का किराया-2450, डवल एसी रुम का किराया- 2900, नन एसी सिंगल रुम का किराया- 1250, नन एसी डबल रुम का किराया-1500 रुपये प्रति दिन एवं संपर्क मोबाईल नंबर-9304013642 बताया गया है।

बता दें कि आरटीआई एक्टीविस्ट पुरुषोतम प्रसाद द्वारा दायर लोक शिकायक निवारण अन्यन्न वाद की सुनवाई के बाद प्रथम अपीलीय प्राधिकार सह प्रमंडलीय आयुक्त आनंद किशोर ने जिला प्रशासन को दोषियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के अंतिम आदेश दिये थे।

इस आदेश के आलोक में राजगीर के वर्तमान भूमि उप समाहर्ता प्रभात कुमार ने राजगीर गेस्ट हाउस के मालिक एवं उसके फर्जीबाड़ा के शासकीय सहयोगी तात्कालीन राजगीर अंचलाधिकारी, भूमि उप समाहर्ता और राजस्व कर्मचारी के खिलाफ स्थानीय थाना में कांड संख्या-85/2018 कर रखा है।

इस संबंध में जब एक्सपर्ट मीडिया न्यूज की ओर से राजगीर के वर्तमान एसडीओ संजय कुमार ने राजगीर मलमास मेला नामक ‘मोबाईल एप्प’ में दी गई जानकारी की बाबत पूरी तरह से अनभिज्ञता प्रकट किया। वहीं मलमास मेला सैरात भूमि का अतिक्रमण कर बने राजगीर गेस्ट हाउस और उसके मालिक पर हुई हालिया एफआईआर पर नो कमेंट का लिबादा चढ़ा दिया।

उधर नालंदा जिला प्रशासन के आईटी सेल इन्चार्य आशीष कुमार ने बताया कि राजगीर मलमास मेला नामक ‘मोबाईल एप्प’ में जो जानकारी दी गई है, वे राजगीर भूमि उप समाहर्ता और नगर प्रबंधक द्वारा उपलब्ध आकड़ों पर आधारित है। अगर कोई ऐसी आपत्तिजनक जानकारी है तो उसे जल्द ही संशोधित कर लिया जायेगा।

बहरहाल, एसडीओ को राजगीर मलमास मेला नामक ‘मोबाईल एप्प’ की जानकारी न होना और राजगीर गेस्ट हाउस से जुड़े मामले पर बारंबार नो कमेंट के जुमले से ढकना तथा दोषियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने वाले भूमि समाहर्ता-नगर प्रबंधक द्वारा आपत्तिजनक विवादित सूचनाएं उपलब्ध कराने के आखिर क्या मायने हैं?

Share Button

Relate Newss:

यहां आंचलिक पत्रकारिता और चुनौतियां विषयक कार्यशाला में उभरे ये सच
हत्यारा या शाजिश के शिकार हैं एनोस एक्का
रेलवे की जमीन से जारी पशुओं की अवैध खरीद-बिक्री पर प्रशासन की वैध मुहर !
ढोंगी रामपाल की काली दुनिया का सच
मइया खर जितिया कइले हलो बप्पा, बच गइलियो
'राजगीर मलमास मेला सैरात भूमि से SDO-DSP हटायेगें अतिक्रमण और DM-SP करेंगे मॉनेटरिंग'
कोल्हान DIG से पीड़ित पिता की गुहार, ऐसे अफसरों-पत्रकारों पर कार्रवाई करें हुजूर
इस बच्ची की कलम और पढ़ाई के प्रति ललक देख नम हो गई आँखें
नीतिश के गुस्से में छुपा है राज्य में बड़े स्तर पर प्रशासनिक फेरबदल के साफ संकेत
पत्रकार दंपति पर जानलेवा हमला, जिंदा जलाने का प्रयास, पत्नी की हालत गंभीर
मोदी-नीतीश के बाद अब ममता का चुनाव कैम्पेन संभालेंगे प्रशांत किशोर
HC से एम.जे. अकबर मामला में 'NDTV' को कड़ा झटका
अमित शाह चुनेगें गुजरात का सीएम
बड़े बेआबरू होकर तेरे कूचे से हम चले....
पत्रकारिता से मुश्किल काम है राजनीति :आशुतोष

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...